sad Hindi Love Poem -Miss You Love Poem

मेरे जज़्बात

किसको बताऊं दिल की जाकर,

मैं तो खुद से छिप कर बैठा हूं । 

दर्द, दुखांत, उदासियों को,

मैं खुदमें लिफकर बैठा हूं ।

बस कलम से है बंधन

मेरा, तभी बेयान यह लिख कर बैठा हूं । 

किसको बताऊं दिल की जाकर,

मैं तो खुद से छिप कर बैठा हूं । 

मेरी जिंदगी की क्या बात करूँ,

यह हशर है हसीन नहीं । 

आए है बड़े शिकवे इसमें ,

यह बेरंग है रंगीन नहीं । 

यह सावन की बरसातों में,

मैं किसकी दीद कर बैठा हूं । 

किसको बताऊं दिल की जाकर,

मैं तो खुद से छिप कर बैठा हूं ।

-दिलप्रीत सिंह

कवि द्वारा सन्देश:

इस कविता में मैने उस जज़्बात की बात की है जो हर एक इंसान मै छुपा होता है और जो वह किसी से कह नहीं पाता।

Posted by

Official Publisher for poetry on hindilovepoems.com

Leave a Reply