Hindi Love Poem For Her-तुम जो संग बने रहो

हम सारे वादों को निभाएंगे, जिंदगी को सफल बनाएंगे, तुम जो संग बने रहो, तुम वादा करके मुकर ना जाना, मेरे दर्द प्रार्थनाओं को खोरी-कोटी ना सुनाना, फिर भी तुमसे किया वादा निभाउंगा, तुम जो संग बने रहो। तुम्हारे कारण हर चाहत से इज़हार है मेरा, तुम्हारे कारण हर जीत से प्यार है मेरा, मेरा […]

Read More

Hindi Love Poem on Separation- प्यार की धड़कन

बिछड़ी प्यार की धड़कने आँखों में नमी दे बन्द राहों की उलझनें जीने न दे वो खामोशियाँ भी इश्क़ को ही तलाशे कुछ अनकही सी ख्वाइशें दिल तो छुपा दे ये मोहोब्बत कैसा जो अंग अंग लुटा न दे…… -स्वेता Bichadi pyaar ki dhadkaney Aankhon mein nami de Bandh raahon ki uljhan Jeene na de […]

Read More

Hindi Love Poem for Her- एक लंबे वक्त के बाद

एक लंबे वक्त के बाद भी, भुला न पाया तुम्हें.. न जाने कौन सा दिन था वो, जब तुम्हारी आँखों ने डुबोया था मुझे.. हां, वही दिन था तब से ही कोई रंग नहीं चढ़ता मुझपे, न ही कोई एहसास भिगोता है अब मुझे.. ‘गुड़िया”तुम मिलना कभी किसी, ढलती शाम के सूरज तले.. वहीं बताऊँगा […]

Read More

Hindi Love Poem on Separation-आखिरी मुलाकात

काश दिल की बात दिल में ही रह जाती तब ये दुनिया तेरे मेरे बीच ना आती तब ना होती ये दूरियां और ना ही कोई खामोशी बस तु अनजान होकर भी अनजाना ना होता तब अगर हो जाती मुलाकात तो मुस्कुराने का एक बहाना भी होता ख्यालों में ही सही पर तेरे पास होने […]

Read More

Hindi love poem on separation-जीवन जीना हो तो

जीवन जीना हो तो कुछ तो खोना ही पड़ेगा, चाह कर भी किसी को खोना ही पड़ेगा, मिलना ना मिलना तो तकदीर का खेल है। अपनी तक़दीर ही समझ कर खुद को समझना ही पड़ेगा। कुछ तो कमी रही है जो ये सजा मिली है। दिल मे हा है और ना चाहते हुए भी हमे […]

Read More

Hindi Love Poem on Separation -तेरा सहारा है

नहीं होता है एहसास किसी को किसी के दिल के दर्द का क्यों करता है ग़ुनाह की किसी के दिल को दुखाने का क्यूँ ये दर्द इतना इतना गहरा है फिर भी इसमें ना कोई पहरा है मैंने तो मौत को करीब से देखा है फिर भी वक़्त मेरे इंतज़ार में ठहरा है क्यों नहीं […]

Read More

Hindi Love Motivational Poem – प्यार ताकत है खुदा की ये तू जानले

प्यार ताकत है खुदा की ये तू जानले महोब्बत नूर है रूह का ये तू मानले चल दिखा तेरी ताकत, ला आसमान जमीन पर है जिगर में जज्बा, भेज कयामत को भी ऊपर तो सारी कायनात है तेरी ये तू ठान ले प्यार ताकत है खुदा की ये तू जानले चिर-कौओ को खिला दे ऐसी […]

Read More

Hindi Love Poem Expressing Love – जीवन को मेरे तूने महकाया

जीवन को मेरे तूने महकाया है ऐसे, खुशबू से गुलिस्तां महकता हो जैसे। हर जन्म रहे साथ बस तेरा, सागर में पानी रहता हो जैसे। बांहों में भर कर आगोश में ले लो, सीप में मोती रमता हो जैसे। छुपा लो दिन के किसी कोने में, आँखों में कोई ख्वाब बसता हो जैसे। तेरी जुदाई […]

Read More

Hindi Love Poem- तुम मिले

कभी तो वक़्त ठहरा होगा जो तुम मिले क्या मुहब्बत की ओस गिरी होंगी जो तुम मिले या खिंचती हुई पवनों ने छुआ था जो तुम मिले समय की उस अबूझ पहेली में कोई तो बात थी जो तुम मिले धीमी सी दिल की धकधक में कुछ तो था जो तुम मिले तेरी पलकों के […]

Read More

Hindi Love Poem For Her – कशमकश में

कशमकश में जीने की आदत हो गई जब मेरी तुम से मुलाकात हो गई सोच में पड़ गया मैं के कैसे तुम्हे बना लूँ अपना ऐसी सोच में सुबह से रात हो गई बड़े दिन से गुमसुम था मेरा बेचारा दिल बड़ी मुदत के बाद तेरे कारण उससे बात हो गई आज साथ है तू […]

Read More

Hindi Love Poem for Him – तू जो कह दे

तू जो कह दे तो खुदा से भी लड़ जाये हम तेरी ख़ुशी के लिये मरना पड़े ,मर जाये हम तेरी बातें है मिशरी जैसी तू बता दिल कैसे न लगाये हम तेरी चाहत में कशिश कुछ ऐसी बिन कहे खींचते ही आये हम तू जो कह दे मुझसे अब बिन कहे अजनबी बन जाये […]

Read More

Hindi Poem for Love – वो आये हमारी जिंदगी में इस तरह

वो आये हमारी जिंदगी में इस तरह की हमें खुद से मिला दिया हमने पूछा उस से की क्या न्यौछावर करें आप पे तो आके उन्होंने धीमे से मेरे कानो में कहा मुझे सिर्फ आप चाहिये जिंदगी जीने के लिये – रुबी ग्रोवर Wo aaye hamari jindagi mein is tarah … ki hamein khud se mila […]

Read More

Hindi Love Shayari for Boyfriend – दिवानी

  दिवानी दिवानी मैं हूँ दिवानी अनजानी अनजानी इश्क़ से अनजानी मनमानी मनमानी दिल करें मनमानी जब भी तुझे देखूँ सूझे नादानी जब भी तुझे चाहूँ आये प्यार दिलजानी तू ही मेरा रब है तू ही मेरी कुर्बानी तू ही मेरी पुस्तक तू ही मेरी कहानी दिवानी दिवानी मैं हूँ दिवानी – अनुष्का सूरी  Deewani […]

Read More

Hindi Love Poem- Emotional

कुछ खो के लिखा कुछ पा के लिखा हमने इस कलम को अक्सर आँसुओं में डुबो के लिखा कभी मिली नसीहत कभी वाह-वाही मिली हमने अपने ग़मों को अक्सर शब्दों में संजो के लिखा – गीतेश बॉस

Read More