Romantic Poem for Her-Agar Mere Bas Mein Hota

अगर मेरे बस में होता (कविता का शीर्षक)
आसमान के सारे चाँद-तारे तोड़ लाता,
दुनिया की सारी सुंदरता,
तुम्हारे बालों में सजा देता,
अगर मेरे बस में होता,
दुनिया के सभी झरनों को ,
मैं “माही” बना देता,
आँखों से बहते आँसू,
और लबों पर मुस्कान झलकते,
दोनों को मैं संगम बना देता,
अगर मेरे बस में होता,
रातों में भी तुम्हारे, ख्बाबों में सोता,
सपनों में तेरी यादों को संजोता,
इन सपनों को मैं शाही बनाता,
अगर मेरे बस में होता,
हम-तुम से तुम्हारा हमसफर बन जाता,
तुमसे बात करने का बहाना मिल जाता,
मिलती तुम तो, किस्मत को खज़ाना मिल जाता,
अगर मेरे बस में होता ।
-अजय राजपूत (झाँसी) (कवि)

Agar Mere Bas Mein Hota (Title of the Poem)
Asmaan ke saare chand-taarey tod lata (I would have plucked all stars from the sky)
Duniya ki saari sundarta (The entire beauty of this world)
Tumhare baalo mein saja deta (I would have decorated your hair with)
Agar mere bas mein hota (If I had the power to do so)
Duniya ke sabhi jharno ko (The entire waterfalls of this world)
Main Mahi bana deta (I would have turned them divine)
Ankho se bahte ansu (The tears shedding from eyes)
Aur labo par muskaan jhalakte (And smile on lips)
Dono ka main sangam bana deta (I would have got them together)
Agar mere bas mein hota (If I had the power to do so)
Raato mein bhi tumhare, khwabo mein sota (I would have slept in your dreams every night)
Sapno mein teri yaado ko sanjota (I would have remembered you in my dreams)
In sapno ko main shahi banata (I would have turned these dreams luxurious)
Agar mere bas mein hota (If I had the power to do so)
Ham-tum se tumhara hamsafar ban jata (I would have become your life partner)
Tumse baat karne ka bahaana mil jata (I would have got the excuse to talk to you)
Milti tum to, kismat ka khazana mil jata (If I had you, my destiny would have won a jackpot)
Agar mere bas mein hota (If I had the power to do so)
-Ajay Rajput (Jhansi) (Poet)

Ecstatic Love Poem in Hindi-Umang Tarang

उमंग-तरंग (शीर्षक)
डूब डूब उतर आओ
आमग्न हो प्यार में
झील की जल परियों
डूब डूब उतर आओ

अंधेरे के आंचल में
हीरे की कणियों सी
आशा की जुगनुओं
खुशियों के बयार में
पंख पंख लहराओ
आमग्न हो प्यार में
डूब डूब उतर आओ

नभ में तेरी काया उजली
उर में यौवन की बिजली
सागर की ललनाओं
दिल के दयार में
बूंद बूंद बरसाओ
आमग्न हो प्यार में
डूब डूब उतर आओ

दृढ़ शाखों के आलिंगन में
गुंथी लताओं सी
अहसासों की सिहरन पर
नाचती तरंगों सी
बींधे चोंच की श्रृंखला में
इत्र की पंखुड़ियो
डगर डगर महकाओ
डूब डूब उतर आओ !
-सौरभ कुमार सिंह (कवि)

Ecstasy

Afloat laid back
On the surging waves
In the ocean of love
‘O’ mermaids of ecstasy
Relish the bliss

In drapes of darkness
Like diamond studs
‘O’ fireflies of hope
Flap your jovial wings
Twinkle the fervency

White body of silk-cotton
Electric swords in bosom
‘O’ clouds of desire
Do rain in drops
Drench the façade of affection

Warm embrace around trellis
Amid tender foliage of caress
Pair of sparrows sharing beaks
‘O’ pistils of blush
Shower the fragrance
Flush the ambiance

-Saurabh Kumar Singh (Poet)

Romantic Poem for Her-Jaane Bhi Do Yaaro

जाने भी दो यारों (कविता का शीर्षक)
जाने भी दो यारों
जाने भी दो यारों
कब तक निगाहों में उनके बनते फिरोगे तुम गाफ़िल
कल भी तेरे गुनाहों की चर्चा थी महफ़िल महफ़िल
इस शोख मुहब्बत से तौबा क्यों न कर लो यारों
जाने भी दो यारों
अटकी पड़ी हैं सांसें बंद घड़ी की सूइयों सी
मिलन की आशाएं दुबकी पड़ी छुइमुइ सी
नयनों में चाहत की इतनी सदा क्यों हो यारों
जाने भी दो यारों
तेरे ही नाम लिखे हैं आसमान के चांद सितारे
तेरी ही छटाओं से रौशन हैं गली चौबारे
अपना तो क्या लगा है सारे रंग हैं तुम्हारे
यारों जाने भी दो यारों
सौरभ कुमार सिंह (कवि)

Jaane Bhi Do Yaaro (Title of the Poem)
Jaane Bhi Do Yaaro (Dear friends, let it be)
Jaane Bhi Do Yaaro (Dear friends, let it be)
Kab tak nigaho mein unke bante firoge tum gafil (Until when will you keep submitting yourself to her Kab tak nigaho mein unke bante firoge tum gafil (Until when will you keep submitting yourself to her through eyes)
Kal bhi tere gunaho ki charcha thi mehfil mehfil (Your sins were the hot topic of discussion in every formal gathering yesterday too)
Is shokh muhabbat se tauba kyo na karlo yaaro (Why not quit falling in love dear friends?)
Jaane Bhi Do Yaaro (Dear friends, let it be)
Atki padi hain sansein band ghadi ki suiyon si (My breath is stuck like the needles of the clock)
Milan ki ashayein dubki padi chuimui si (The hope of meeting my beloved is buried in my heart)
Nayano mein chahat ki itni sada kyo hai yaaro (Why are my eyes longing to see her friends?)
Jaane Bhi Do Yaaro (Dear friends, let it be)
Tere hi naam likhe hain asmaan ke chand sitare (The moon and stars of the sky are in your name)
Teri hi chataon se raushan hain gali chaubare (Your presence makes the streets lively)
Apne to kya laga hai saare rang hain tumhare (I do not have any colour, all colours are yours)
Yaaro jaane Bhi Do Yaaro (Dear friends, let it be)
Saurabh Kumar Singh (Poet)

Longing for Her Love Poem-Lagta Hai Us Se Mohabbat Hone Lagi Hai

लगता है उससे मोहब्बत होने लगी है
सूरत ना देखी मैंने उसकी,
मूरत फिर भी उसकी बनने लगी है,
दिन को चैन नहीं आता,
और रातों की नींद उड़ने लगी है,
लगता है उससे मोहब्बत होने लगी है,
उसकी यादों में, आँखों से नीर बहते है,
अब तो आँखों को आँसू से मोहब्बत होने लगी है,
कलम लिखना चाहती है, केवल तुम्हारे बारे में,
और बातें मेरी कविताओं में ढलने लगी है,
लगता है उससे मोहब्बत होने लगी है,
उसकी यादों में, रातें गुजार देता हूँ,
अपनी ही बातों में, खुद को सँवार देता हूँ,
सुनसान रातों में, मेरी बातें गहराई में उतरने लगी हैं,
अब तो मेरे दिल की तन्हाई मोहब्बत में बदलने लगी है,
लगता है उससे मोहब्बत होने लगी है,
सुबह सूरज की रोशनी भी अधूरी सी लगती है,
बाज़ार की भरी सड़के भी सुनी सी लगती है,
उसके आने की ये आँखें राह देखने लगी हैं,
अब तो माह भी सालों की राह देखने लगी है,
लगता है उससे मोहब्बत होने लगी है,
उसके चेहरे की चमक सादी लगती है,
चाँद पूरा निकलता है पर रोशनी आधी लगती है,
बारिश की बूँदें भी अब मुझे भिगोने लगी हैं,
अब तो दिल की धड़कन भी यादों को पिरोने लगी है,
लगता है उससे मोहब्बत होने लगी है,
अभी भी घर की चौखट पर, उसकी राह तके बैठा हूँ,
सुबह से शाम और शाम से सुबह, उसकी राह में गुज़ार देता हूँ,
कब आओगी ये मेरी तन्हाई कहने लगी है,
तन्हाई की बातें दिल को झूठी लगने लगी हैं,
लगता है उससे मोहब्बत होने लगी है
-अजय राजपूत (झाँसी)

English Translation:

Lagta Hai Us Se Mohabbat Hone Lagi Hai (It seems that I am falling in love with her)
Surat na dekhi maine uski (I have not seen her face)
Moorat phir bhi uski ban ne lagi hai (Still, I am creating her statue)
Din ko chain nahi ata (I am restless during the day)
Aur raato ki neend udne lagi hai (And I cannot sleep at night)
Lagta hai us se mohabbat hone lagi hai (It seems that I am falling in love with her)
Uski yado mein ankho se neer behte hain (Tears flow down my eyes in her remembrance)
Ab to ankho ko ansu se mohabbat hone lagi hai (Now my eyes have started loving tears)
Kalam likhna chahti hai, keval tumhare baare mein (Pen wants to write only about you)
Aur baatein meri kavitaon mein dhalne lagi hain (And your talks have started appearing in my talks)
Lagta hai us se mohabbat hone lagi hai (It seems that I am falling in love with her)
Uski yaado mein ratein guzaar deta hoon (I spend my nights in her memories)
Apni hi baato mein khud ko sawar deta hoon (I groom myself in my own talks)
Sunsaan raato mein meri baatein gehrayi mein utarne lagi hain (My talks have started getting deep in lonely nights)
Ab to mere dil ki tanhai mohabbat mein badalne lagi hai (Now my heart’s loneliness has started converting into love)
Lagta hai us se mohabbat hone lagi hai (It seems that I am falling in love with her)
Subah suraj ki roshni bhi adhuri si lagti hai (I find the morning sunlight somewhat incomplete)
Bazaar ki bhari sadakein bhi suni si lagti hain (The heavily crowded roads of market also seem deserted to me)
Uske aane ki ye ankhein raah takne lagi hain (My eyes have started looking for her arrival)
Ab to mah bhi salon ki rah takne lagi hai (Now, even months have started waiting for the years)
Lagta hai us se mohabbat hone lagi hai (It seems that I am falling in love with her)
Uske chehre ki chamak sadi lagti hai (The glow on her face seems simple)
Chand pura nikalta hai par raushni adhi lagti hai (The moon is full but the light seems half)
Barish ki boondein bhi ab mujhe bhigone lagi hain (The raindrops have started drenching me now)
Ab to dil ki dhadkan bhi yaado ko pirone lagi hai (Now my heartbeat has also started forming memories)
Lagta hai us se mohabbat hone lagi hai (It seems that I am falling in love with her)
Abhi bhi ghar ki chaukhat par uski rah takey baitha hoon (Now also I am waiting for her while sitting at my doorstep)
Subah se sham aur sham se subah uski rah mein guzar deta hoon (From morning until evening and evening until morning is spent in her wait)
Kab aogi ye meri tanhai kehne lagi hai (My loneliness has started saying when will you come)
Tanhai ki batein dil ko jhuthi lagne lagi hain (The talks of loneliness seem false to my heart)
Lagta hai us se mohabbat hone lagi hai (It seems that I am falling in love with her)
-Ajay Rajput (Jhansi)

Hindi Love Poem for Her-Pata Nahi Kaun Hai Wo

पता नहीं कौन है वो (कविता का शीर्षक)

पता नहीं कौन है वो,
करूँ नैना बंद जब,
एक सुंदर सूरत दिखती है वो,
नहीं जानता मैं उसको,
फिर भी मेरे दिल में बसती है वो,
पता नहीं कौन है वो,
क्या मैं प्यासा, तो मेरा पानी है वो,
या मैं किस्सा, तो क्या मेरी कहानी है वो,
मैं जहाँ रहूँ, जहाँ चलूँ,
हमेशा मेरे साथ रहती है वो,
पता नहीं कौन है वो,
अंधेरे में परछाई ने भी मेरा साथ छोड़ा,
पर सुबह बनकर हमेशा मेरे साथ खड़ी रही वो,
मेरी बातों की एक लफ्ज़ भी नहीं वो,
फिर भी मेरी कविता मुकम्मल कर गयी वो,
पता नहीं कौन है वो
-अजय राजपूत (झाँसी) (कवि का नाम)

English Translation for International Readers:

Pata Nahi Kaun Hai Wo (I do not know who she is) – Title of the Poem

Pata nahi kaun hai wo (I do not know who she is),
Karu naina band jab (Whenever I close my eyes),
Ek sundar surat dikhti hai wo (I see a beautiful face of her),
Nahi janta main usko (I do not know her),
Phir bhi mere dil mein basti hai wo (Still, she stays in my heart),
Pata nahi kaun hai wo (I do not know who she is),
Kya main pyasa, to mera pani hai wo (If I am thirsty, she is my water),
Ya main kissa, to kya meri kahani hai wo (Or I am an incident and she is my story),
Main jahan rahoo, jahan chalu (Wherever I live, wherever I walk),
Hamesha mere sath rehti hai wo (She always stays with me),
Pata nahi kaun hai wo (I do not know who she is),
Andhere mein parchayi ne bhi mera sath choda (In the dark, even my shadow left me),
Par subah bankar hamesha mere sath khadi rahi wo (But, she always stood my me like a morning),
Meri bato ki ek lafz bhi nahi wo (She is not even a word in my talks),
Phir bhi meri kavita mukammal kar gayi wo (Still, she completed my poem),
Pata nahi kaun hai wo (I do not know who she is).

Ajay Rajput (Jhansi) (Name of the Poet)

Hindi Love Poem for Her-Suno

सुनो (कविता का शीर्षक )

सुनो, क्या दो पल मुझसे बात करोगी?
सुनो, ज़िन्दगी के सफ़र पर तुम मेरे साथ चलोगी?
सुनो, मेरी कहानियों से निकल तुम रास्ते में मेरा हाथ पकड़ोगी?
सुनो, तुम क्यों हर वक्त जानकर भी अनजान बनती हो
कुछ सीख तुम्हें भी तो मिली होगी
कि कैसे किया जाता है प्यार
एक बार फिर पूछता हूँ
सुनो क्या तुम मुझसे प्यार करोगी?
-बसंत चौधरी (कवि )

English Translation:

Suno (Listen)

Suno, kya do pal mujhse baat karogi? (Listen, will you talk to me for two seconds?)

Suno, zindagi ke safar par tum mere sath chalogi? (Listen, will you accompany me in the journey of life?)

Suno, meri kahaniyo se nikal tum raste mei mera hath pakdogi? (Listen, will you please come out of my dreams and hold my hand on the way?)

Suno, tum kyo har waqt jaan kar bhi anjaan banti ho? (Listen, why do you act naive even after knowing everything?)

Kuch seekh tumhein bhi to mili hogi (You might have also gained some experience)

Ki kaise kiya jata hai pyar (That how one is to be loved)

Ek baar phir poochta hoon (I am asking once again)

Suno, kya tum mujhse pyar karogi? (Listen, will you love me?)

-Basant Chaudhary (Poet)

Hindi Poem for Dream Girl-Sach-Sach Batao Yar Kaun Ho Tum

सच- सच बताओ यार कि कौन हो तुम

सोचते – सोचते थक गया हूँ मैं, फिर भी सोचता रहा,
लेकिन फिर भी नहीं समझ पाया,
कि कौन हो तुम,
क्या भूखे के पेट की रोटी की तलाश हो तुम,
या प्यासे को पानी की तलाश हो तुम,
या फिर जिंदगी की बीती हुई यादों का अहसास हो तुम,
या बरसो बाद माँ से मिलने पर प्यार की बरसात हो तुम,
क्या शायर की शायरी का शब्द हो तुम,
या कवियों की पंक्तियों में भाव देने वाला शब्द हो तुम,
या फिर फूल की पत्तियों की सुगंध हो तुम,
या बादलों से बरसते पानी की ठंडी फुहार हो तुम,
क्या अंधेरो में जो उजाला कर दे ,
क्या वो प्रकाश हो तुम,
या राहों में जो जलता है,
क्या वो महताब हो तुम,
या फिर जो सपनों मे आए ,
क्या वो ख्वाब हो तुम,
या किसी के पूछे सवाल का जबाब हो तुम,
जिसकी ध्वनि से मन प्रसन्न हो जाए,
क्या वो शंख हो तुम,
या जो पानी और दूध को अलग करदे,
क्या वो हंस हो तुम,
या पपीहा जिस बूंद के लिए बरसो प्यासा रहता है,
क्या वो स्वाती हो तुम,
छिपे है तुम्हारे चेहरे में कई राज,
क्या वो नकाब हो तुम,
जो हर टूटे दिल वाले के जुबां पर है,
क्या वो अल्फ़ाज़ हो तुम,
जिसको कभी खोला ना जा सके,
क्या वो राज़ हो तुम,
कितनी बार पूछ चुका हूँ तुमसे,
फिर भी क्यों मौन हो तुम,
अब तो सच-सच बता दो यार
कि कौन हो तुम,
-अजय राजपूत (झांसी)

Hindi Love Poem-Samay Mile To Akar Milna

समय मिले तो आकर मिलना
लाइब्रेरी की टेबल पर,
कुछ न बोलेंगें हम ज़ुबाँ से
और अटकेंगे किताबों पर,
पलटेंगे पेजों को यूँ हीं
लफ्ज़ सुनेंगें हज़ारों पर,
लिखे हुए लैटर का क्या करना ?
जज़्बात पढ़ेंगे आँखों पर,
दांतों तले कभी होंठ दबाते
मुस्कान छुपायेंगे होंठों पर,
समय मिले तो आकर मिलना,
लाइब्रेरी की टेबल पर।

(इस कविता के रचनाकार के सम्बन्ध में विवाद होने के कारण कवि का नाम हटा दिया गया है )

Hindi Love Poem For Her- चलते रहने दो

दीदार-ऐ-नजर ना सही सपनों में आते रहिये
मुलाकातों का सिलसिला यूँ ही चलते रहने दो
लब खामोश अगर तो क्या आँखों से बताते रहिये
इस दिल को अपनी बेकरारी यूँ ही कहते रहने दो
हवा आहिस्ता बहे तो क्या इन जुल्फों को उड़ाते रहिये
इन केशों को हंसी चेहरे पे यूँ ही बिखरते रहने दो
लाख गम हो सीने में मगर फिर भी मुस्कुराते रहिये
इन हंसी के फुहारों को यूँ ही निकलते रहने दो जल्द होगी
मुलाक़ात उनसे खुद को समझाते रहिये
तुम ‘मौन’ सही पर अरमानों को यूँ ही मचलते रहने दो

-अमित मिश्रा

Deedar a nazar na sahi sapno me aate rahiye
Mulakaton ka silsila yoon hi chalte rahne do
Lab khamosh agar to kya aankhon se btate rahiye
Es dil ko apni bekarari yoon hi kahte rahne do
Hawa aahista bahe to kya en Zulfon ko uadate rahiye
En julfon ko hassi chehre pe yoon hi bikhrte rahne do
Lakh gam ho sine me magar fir bhi muskurate rahiye
En hasi k fuharon ko yoon hi nikle rhe do
Jaldi hogi mulakaat unse khud ko samjhate rahiye
Tum maun sahi par armanon ko yoon hi machalte rhne do

-Amit Mishra