Posted in Crazy in Love Hindi Poems, Crazy Love Poem, Hindi Love Poem, Hindi love poems, Hindi Love Poems by Readers, Hindi Poems for Lover, Philosophical Love Poems, Poem with Hindi Translation, Short Hindi Love Poems

Hindi Love Motivational Poem – प्यार ताकत है खुदा की ये तू जानले


प्यार ताकत है खुदा की ये तू जानले
महोब्बत नूर है रूह का ये तू मानले
चल दिखा तेरी ताकत, ला आसमान जमीन पर
है जिगर में जज्बा, भेज कयामत को भी ऊपर
तो सारी कायनात है तेरी ये तू ठान ले
प्यार ताकत है खुदा की ये तू जानले
चिर-कौओ को खिला दे ऐसी लाश नही है तू
जिंदा होकर मर जाए ये एहसास नही है तू
चल उठ खड़ा हो, अंत नहीं है तू
इश्क़ की दुनिया का कोई संत नहीं है तू
तुझे लड़ना ही होगा ये तू ठान ले
प्यार ताकत है खुदा की ये तू जानले
कमजोर नहीं, बलवान है तू
चंद पलों का मेहमान है तू
खुद की जिंदगी का अरमान है तू
हर कयामत का सौदागर है तू
तू बस अपने आप को पहचनाले
प्यार ताकत है खुदा की ये तू जानले

– अजिंक्य गंगावणे

Pyar Takat Hai Khuda Ki Ye Tu Janale
Mahobbat Nur Hai Ruh Ka Ye Tu Manale
Chal Dikha Teri Taqat, La Asaman Jamin Par
Hai Jigar Me Jajba, Bhej Kayamt Ko Bhi Upar
To Sari Kayanat Hai Teri Tu Than Le
Pyar Taqat Hai Khuda Ki Ye Tu Janale
Chir-kauo Ko Khila De, Esi Lash Nai Hai Tu
Jinda Hoke Mar Jaye, Ye Ehasas Nahi Hai Tu
Chal Uth Khada Ho, Ant Nahi Hai Tu
Ishq Ki Duniya Ka Koi Sant Nahi Hai Tu
Tujhe Ladna Hi Hoga Tu Than Le
Pyar Taqat Hai Khuda Ki Ye Tu Janale
Kamjor Nahi, Balawan Hai Tu
Chand Palo Ka Mehaman Hai Tu
Khud Ki Jindagi Ka Araman Hai Tu
Har Kayamat Ka Saudagar Hai Tu
Tu Bas Apne Aap Ko Pehachanale
Pyar Taqat Hai Khuda Ki Ye Tu Janale

– Ajinkya Gangawane

Posted in Philosophical Love Poems

Hindi Philosophical Love Poem Shayari-पहचान


man-1394395_960_720
वक़्त ये धार बनके बह जायेगा,
राइट की तरह ये पल भी फिसल जायेगा,
जीटा रहा है खुद के लिये,
कब अपने आप को जान पायेगा,
मंज़िल नहीं है तेरी ये दुनिया की झूठी चमक,
तेरी तो राह है मन की थोड़ी सी शांती,
कब ये मान पायेगा,
भीड़ में तू खो गया है,
खुद से बेगाना हो गया है,
देख अपने मन की गहराइयों में झांक के
खुद से बेगाना तू हो ग्या है,
अब ना सुध रहती है तन मन की,
बस दुनिया की आंधी में बह गया है,
खुद को तू जान ले थोड़ा सा पहचान ले,
मंज़िल तेरी बनेगी रोते हुए किसी चहरे की मुस्कान,
बन के फैलायेगा तू खुशियों की मुस्कान,
वही बनेगी तेरी अपनी पहचान|
-गौरव
Pehchan
Waqt ye dhar banke bah jayega,
Rait ki tarah ye pal bhi fisal jayega,
Jeeta raha hai khud ke liye,
Kab apne ap ko jaan payega,
Manzil nahin hai teri ye dunia ki jhooti chamak,
Teri to raah hai man ki thodi si shanti,
Kab ye maan payega,
Bheed mein tu kho gaya hai,
Khud se begana ho gaya hai,
Dekh apne man ki gahraiyon mein jhank ke
Khud se begana tu ho gya hai,
Ab na sudh rehti hai tan man ki,
Bas duniya ki aandhi mein bah gaya hai,
Khud ko tu jaan le thoda sa pehchan le,
Manzil teri banegi rote hue kisi chehre ki muskan,
Ban ke failayega tu khushiyon ki muskan,
Wahi banegi teri apni pehchan.
-Gaurav