Posted in Hindi Love Poems by Readers, Holi Love Poems

Hindi Poem on Holi- इश्क़ के रंग


two_lovers-wallpaper-1366x768

तेरे इश्क़ के रंगो से सजी हुई है ये होली

ये रंग गुलाबी कहता है खिली खिली है ये होली

एक रंग जिस्म को छूता है एक रंग रूह को छूता है

हर रंग रंग में खिली हुई है घुली हुई है ये होली

कुछ रंग इश्क़ के चढ़ जाते कुछ रंग दीवाने मिल जाते

इन दिल छूते लम्हों से ही तो सजी हुई है ये होली

फाल्गुन के इस मौसम में सजे सजे से लम्हों में

लाल गुलाबी नीले पीले हरे रंग में सजी धजी है ये होली।

-गौरव

Posted in Hindi Love Poem, Hindi poem on Holi Festival, Holi Love Poems, Romantic Holi Poem

Hindi poem on Holi Festival – इश्क़ रंग चढ़ा


s

रंगो का कोई रंग चढ़ा
इश्क़ रंग मुझे आज चढ़ा
धूप हुई गुलाबी सी
फाल्गुनी छठा में मैं घुला
रंगो का कोई रंग चढ़ा
होली के सब रंग मिले
तुझमें ही तो तो सब घुले
इश्क़ में सजा गुलाबी था
मोहबत सा रंग लाल लगा
पीला तो मुस्कान बना
हरे में तू खूब सजा
रंगो का कोई रंग चढ़ा
अभीर गुलाल से तू सज के आई
रंग कई खुशियों के लायी
खेल मेरे संग प्यार की होली
बिखरा इश्क़ का हर रंग लगा
रंगो का कोई रंग चढ़ा।संग तेरे मैं संग रंगा
खिला खिला हर रंग खिला
सारे रंग फिर छूट गए
पर इश्क़ रंग जो न मिट पाये ऐसा कोई मुझे रंग लगा
रंगो का कोई रंग चढ़ा।

~ गौरव

Posted in Hindi Love Poem, Holi Love Poems

Hindi Prem Kavita-कोयल सी मीठी है तेरी बोली


balloon-1046658_960_720

कोयल सी मीठी है तेरी बोली
किधर चली तू खेल कर होली
झील से गहरे ये तेरे नैना
लुट लेते हैं मेरा ये चैना
जंगल से गहरे ये तेरे बाल
तू क्या जाने मेरे दिल का हाल
ये तेरे गुलाब से गुलाबी गाल
कर देते हैं मुझको बेहाल
हिरणी जैसी तेरी ये मतवारी चाल
कब तक रखें हम दिल को संभाल
उफ़ ये तेरी कातिल अदाएं
हाय मेरे दिल को कुछ यूँ तडपाए
जब भी तू सामने मेरे आये
दिल ये मेरा मेरी बनजा चिल्लाये

Posted in Hindi Love Poem, Holi Love Poems

Hindi Love Poem on Holi – होली आई है


paint-2985569__340.jpg

होली फिर से आई है
मस्ती हर दिल पर छाई है
चारों तरफ है रंग ही रंग
उठ रही हैं दिल में तरंग
थोडा सा छेड़ेंगे उनको
थोडा सा रंगों में डुबो देंगे
थोडा सा खाना पीना होगा
थोडा नाचेंगे थोडा नचा देंगे
कुछ दिल की बातें होंगी
रंगों भरी बरसातें होंगी
खेलेंगे होली हम भी खूब
संग अपने होगा अपना महबूब