Waiting for Love Hindi Poem-सुनहरा पल


हृदय की अनकही बातें कभी जब लब पर आती हैं
स्वरों में कम्पन होती है. स्वयं पलकें झुक जातीं हैं।

कहीं भी दिल नहीं लगता मिलन की तीस सताती है
कभी जब तन्हाई मे. किसी की याद आती है।

प्रात: खुशियों से भर जाती शाम अभिसार में जाती है
दिन उदास रहता है.रात मे नींद न आती है।

निगाहें चंचल हो जाती हैं नज़र चौखट पर रहती है
ख़्वाब की दुनिया सजती है अधर स्मित सी रहती है।

कभी जो संगम नहीं होता गात अलसाई रहती है
निगाहें चार होते ही…. सतत विलसाई रहती हैं।

रवि प्रकाश सिंह(नागपुर)

Hridaya ki ankahi baatein kabhi jab lab par aati hai
Sawaron me kampan hoti hai sway palke jhuk jati hai

Kahi bhi man nahi lagta milan ki tis satati hai
Kabhi jab tanhai mein kisi ki yaad aati hai

Pratah khushiyon se bhar jati sham abhisar mein jati hai
Din udas rhata hai raat mein neend naa ati hai

Nigahein chanchal ho jati hai nazar chaukhat par rahti hai
Khwab ki duniya sajti hai adhar smit si rahti hai

Kabhi jo sangam nahi hota ghaat alsai rahti hai
Nigahein char hote hi.. satat vilsai rahti hai

Ravi Parkash Sigh

Hindi Love Poem For Her – रात होते ही


 

रात होते ही फलक पे सितारे जगमगाते हैं
वो चुपके से दबे पांव मुझसे मिलने आते हैं
याद रहे बस नाम उनका भूल के जमाने को
वो चुनरी को इस तरह मेरे चेहरे पे गिराते हैं
सौ गम और हज़ार ज़ख़्म हो चाहे
दुनिया के हर दर्द भूल जाये
कुछ इस तरह गुदगुदाते हैं
डूब जाये ये कायनात तो हम नाचीज़ क्या हैं
इतनी मोहब्बत वो दामन में भर के लाते हैं
तिश्नगी कम ना होने पाये चाहत की
मुझमे प्यास बढाकर मेरी फिर वो मय बन जाते हैं
सख़्त हिदायत है हमे खुद पे काबू रखने की
रोक के हमको मगर वो खुद ही बहक जाते हैं
बयां करने को दास्तान-ए-इश्क़ लब्ज़ ना मिलें वो
यूँ हक़ मुझपे जताते हैं कि ‘मौन’ कर जाते हैं

-अमित मिश्रा

Raat hote hi falak pe sitare jagmgate hain
Wo chupke se dabe paaw mujse milne aate hain
Yaad rhe bus naam unka bhul ke jamane ko
Wo chunri ko es tarh mere chehre pe girate hain
So gum aur hzar jkham ho chahe
Duniya k har dard bhul jaye
Kuch es trah gudgudate hain
Dub jaye ye kaynaat to hum nachiz kya hain
Etni mhobbat wo daman mein bhar ke late hain
Tisngi kam na hone paye chahhat ki
Mujme pyas bdakar meri fir wo may ban jate hain
Skhat hidayat hai hme khud pe kabu rkhne ki
Rok k hamko magar wo khud hi bahk jate hain
Byan krne ko dastaan a ishq labz na mile wo
Yoon haq mujpe jatate hai ki moon kar jate hain

-Amit Mishra

Romantic Hindi Poem – मेरी साँसे


मैं तो अपनी हर सांस में तुम्हें चाहूँगा ,
जो कभी ना ख़त्म हो जज्बात इस तरह ख़्वाबों मैं तुम्हे सजाऊँगा ,
मेरे तो दिन रात है तुमसे ,मैं तो इन सांसो के बाद भी तुम्हे हद से ज्यादा चाहुँगा
ना सुकून होता हो बिना तुम्हारे मुझे एक पल भी
इस कदर सांसो पर अपनी मैं तुम्हारा नाम लिख जाऊँगा
एक दिन ऐसा भी आयेगा के मैं अपने सारे एहसासों को समेट लूँगा
तुम हौसला तो रखो मैं तुम्हारी दूनिया में
तुम्हे अकेला छोड़ कर तुमसे बहुत्त दूर चला जाऊँगा। मेरी सोना।

-विशु

Mai toh apni har saans mai tumhe chahunga,
Jo kbhi na khtm ho jajbat iss trah khwabon mai tumhe sjaunga,
Mere toh din raat hai tumse, Mai toh in saanson ke baad bhi
tumhe hadd se jyada chahunga.
Na sukun hota ho bina tumhare mujhe ek pal bhi,
Iss kadar saansein per apni mai tumhara naam likh jaunga,
Ek din aisa bhi aayega k mai apne sare ehsaso ko samet lunga,
Tum hosla toh rkho mai tumhari duniya mai
tumhe akela chor kr tumse bhut door chla jaunga….. Meri Sona…..

-Vishu

Hindi Love Poem For Her-लबों की दस्तक


नर्म लबों की जो छुई है दस्तक।
पहलू में कोई गुलजार है।
फिर है मोह्बत उस आशिक़ी से।
शामों को फिर तेरा इंतेजार है।
गिरती है पलकें उठती है पलकें।
दिल ये कैसा बेकरार है।
समुन्दर के न जाने कितने है अर्से।
कितने दिन बीते कितने हम तरसे।
धड़कन को बस तेरा इंतेजार है।
तेरा इंतेजार है।

-गौरव

Naram labon ki jo chhooe hai dastak
Pehloo me koi gulzar hai
Fir hai Mohabbat us ashiqui se
Shamo ko fir tera Intezar hai
Girti hai palke uthti hai palke
Dil ye kaisa bekarar hai
Samandar ke na jane kitne hai arsey
Kitne din beete kitne hum tarse
Dhadkan ko bas tera intezaar hai
Tera intezaar hai

– Gaurav

Romantic Hindi Poem- ए सनम !


ऐ सनम ! दिल की पनाहों में आजा
प्यार तुमपे फिर बेशुमार आया है ।
है मोहब्बत ही मोहब्बत दिल में भरी,
इतना तुमपे आज प्यार आया है ।

रहने दो छोड़ो बइयाँ मेरी,
मारेंगी ताने सखियाँ मेरी,
पूछेंगी बता कहाँ से ये खुमार आया है?

कहना ज़रा इतना सखियों से अपनी,
है साजन मेरा वो और मैं उसकी सजनी,
खलल न डालो, बा-मुश्किल उनका दीदार आया है ।

कभी तुम रूठो तो पल में मना लूँ,
काजल बनाकर पलकों पे सजा लूँ,
खुद से भी ज्यादा तुमपे प्यार आया है ।

राज़ सोरखी “दीवाना कवि”

Aei sanam! dil ki panaho mein aaja
pyar tumpe fir beshumar aaya hai
Hain mohabbat hi mohabbat dil main bhari
Etna tumpe aaj pyar aaya hain

Rhne do choddo bayiyaan meri
Marogi tane sakhiyanmeri
Phuchegi bta khan se yei khumar aaya hain

Kahna jra etna sakhiyon se apni
Hain sajan mera wo aur main uski sajni
Khalal na dalo, wa mushkil unka didar aaya hai

Kabhi tum rutho to pal mein mna lun
Kajal bnakar palkon pe saja loon
Khud se bhi jyada tum pe pyar aaya hai

~Raj sorkhi”diwana kavi”