Romantic Poem on First Love – Pehla Pyar

पहला प्यार
तेरी आँखों में देखा तो हर ख़ुशी दिख गयी
सोचती हूँ क्या था तेरी आँखों में जो मैं खिल गयी
अजीब सा महसूस कुछ कर रही थी मैं
अलग सी चमक कुछ थी मेरे चेहरे पे
सोचा बताऊँ किसी को
पर क्या बताऊँ पता नहीं क्या था वो एहसास
कौन था तू भूल न पायी
रातों को काफी कोशिश के बाद भी सो न पायी
सवाल से घिरी, उलझन मन की सुलझा न पायी
ढूंढ रही थी तेरी आँखों को
जहाँ देखा था पहले तुझको
पूछ रही थी सबसे पर अनजान थी
कि तू देख रहा था मुझको
दिल मेरा धड़का ज़ोरों से
जब टकराई मेरी नज़रें तुझसे
पता नहीं फिर क्या हुआ
खो गए हम दोनों पूरे दिल से बदल गयी मैं पूरी
बन गया तू दुनिया मेरी
वो बातें वो मुलाकातें बन गयी थी आदत मेरी
हम दोनों और हमारा साथ सबसे प्यारा था
वो पहली नज़र का, वो मेरा पहला प्यार था
-मनीषा सुल्तानिया

Pehla Pyar
Teri aankho mein dekha toh har khushi mil gayi
Sochti hu kya tha teri aankho mein jo mai khil gayi
Ajeeb sa mehsus kuch kar rahi thi mai
Alag si chamak kuch thi mere chehre pe
Socha batau kisi ko
Par kya batau pata nahi kya thh wo ehsaas
Kaun thha tu,bhul na paayi
Raato ko kaafi koshisho ke baad bhi so na paayi
Sawaal se ghiri,uljhhane man ki suljha na paayi
Dhund rahi thi teri aankho ko,
Jaha dekha thha pehle tujhko
Puch rahi thi sabse, par anjaan thi
Ki tu dekh raha tha mujhko
Dil mera dhadka zoro se
Jab takrayi meri nazrein tujhse
Pata nahi fir kya hua,
Kho gaye hum dono pure dil se
Badal gayi mai puri
Ban gaya tu duniya meri
Wo baate wo mulakate ban gayi thi aadat meri
Hum dono aur humara saath sabse pyaara tha
Wo pehli nazar ka, wo mera pehla pyaar tha
-Manisha Sultaniya

Diwali Love Poem for Husband-Tumse Raushan Meri Zindagi Hai

तुमसे रौशन मेरी ज़िन्दगी है
चारों तरफ उजियारा है
खुशियों का आज भंडारा है
जैसे दियों से रौशन दीपावली है
वैसे तुम से रौशन मेरी ज़िन्दगी है
तुम साथ हो तो क्या बात है
प्रेम में रंगे मेरे जज़्बात हैं
जब से तुमने मेरा हाथ थामा है
तब से दिल मेरा दीवाना है
आज मैं सिर्फ एक दुआ करती हूँ
तुम्हारी दीर्घ आयु की मंगलकामना करती हूँ
खुश रहो तुम सदा मेरे हमसफ़र
साथ में बीते ये ज़िन्दगी का सफर
अनुष्का सूरी

Miss her love poem -Aisa Laga

ऐसा लगा
क्यों ऐसा लगा मैंने उसे देखा
क्यों ऐसा लगा मैंने उसे सोचा
रातें ये दिन
सिर्फ उसकी यादों में
खोए रहते हैं
पर इक खामोशी की चादर में
छुपकर सोए रहते हैं
न दिखाते हैं चेहरा अपना
आंसू भी इनकीआँखों में ख्वाब पिरोए रहते हैं
आज उसकी यादें कुछ कहना चाहती हैं
मरे इन सपनों को अपना बनाना चाहती हैं
हो सकता है देख रहा होऊंगा सपना
पर एक वही है जो लगती है अपना
प्यार तो बहुत है उससे
पर ज़िकर करना नहीं आता
याद तो बहुत आती है वो
पर दिखाना नहीं चाहता
आज उसकी आंखें दिल में बसना चाहती हैं
उसकी ये बातें मुझसे कुछ कहना चाहती हैं
हाँ, उनकी बातें बुरी लगती हैं मुझे
पर प्यार वो ताकत है
जिससे जुदा होके जिया नहीं जाता शायद
जिया नहीं जाता
-चाँद सिंह

Aisa Laga
Kyu aisa laga maine use dekha
Kyu aisa laga maine use socha.
Raatein,ye din..
Sirf uski yaadon mein
Khoye rehte hain….
Par is khamoshi ki chadar mei
Chupkar soye rehte hai….
Na dikhate hain chehra apna
Ansu bhi inki aakhon mei khwab
piroye rehte hai….
Aaj uski yaadein kuch kehna chahti hai
Mere in sapno ko..apna banana chahti hai
Ho sakta hai dekh raha hounga sapna
Par ek wahi hai jo lagti hai apna.
Pyaar to bahut hai us se
Par zikr karna nahi aata
Yaad to bahut aati hai wo
Par dikhana nahi chahta……
Aaj uski aakhein dil mei basna chahti hai
Uski ye baatein mujhse kuch kehna chahti hai
Haaaa,,unki baatein buri lagi thi mujhe
Par pyaar wo takat hai jis se juda hoke jiya nahi jata
Shayad, jiya nahi jata
-Chand Singh

Hindi Love Poem for Her-Dil Se Awaz Ayi Hai

दिल से आवाज़ आयी है
दिल से आवाज़ आयी है
जो कहा नहीं जाता वो सब बोलता है दिल
शायद आँखों से पता लग जाये क्या कहता है दिल
यार अजीब बात है इतनी याद आयी है
कि सोचते सोचते मेरी आंख भर आयी है
ये मैं नहीं बोल रहा
ये तो दिल से आवाज़ आयी है
सुबह उठते ही आपको देखने को बोलता है
सोने से पहले आपको सुनने को बोलता है
अब इसको क्या पता कि मेरी जान को भी नींद नहीं आयी है
मैंने नहीं बोला ये तो मेरे दिल से आवाज़ आयी है
बार बार आपकी तस्वीर देखता है दिल
आपकी आँखों और हंसी में क्या ढूंढता है दिल
आपकी नज़रों में प्यार देखते देखते
मेरी आंख भी शरमाई है
मैं नहीं बोल रहा ये तो मेरे दिल से आवाज़ आयी है
बार बार ध्यान मेरा घड़ी की तरफ जाता है
ये वक़्त बेरहम है
इसे जितना ज़्यादा देखो उतना इंतज़ार करवाता है
ये इंतज़ार करने को तैयार है
पर एक बेचैनी सी छाई है
मैंने नहीं बोला, ये तो मरे दिल से आवाज़ आयी है
आपके चेहरे पे ख़ुशी देख के
ये ज़ोर से धड़कने लगता है
थोड़ी सी भी उदासी देख के
ये बहुत तड़पने लगता है
आपको हँसता हुआ देख के
इसने बहुत ख़ुशी मनाई है
मैंने थोड़ी कुछ बोला, ये तो मेरे दिल से आवाज़ आयी है
आपके पास आने की ज़िद करता है
तो इसे समझा देता हूँ
आपकी प्यारी प्यारी बातें इसको सुना देता हूँ
मैंने इसे हमारी कहानी सुनाई है
तो बदले में इसने मुझे आपकी इज़्ज़त करनी सिखाई है
ये मैं नहीं बोल रहा, ये तो मेरे दिल से आवाज़ आयी है
मुझे पूछने लगा, “उसपे इतना प्यार क्यों आता है?”
मैंने कहा, “अरे जितना कुछ उसने सहा मेरे लिए.. इतना कोई नहीं कर पाता है”
“बड़ा खुशकिस्मत हूँ कि मैंने आपके दिल में जगह बनाई है”
मैंने नहीं बोला जी, ये तो मेरे दिल से आवाज़ आयी है
आपको किसी और के पास कभी जाने नहीं देता
मिलना तो दूर ये तो आपको किसी दूसरे से बात तक करने नहीं देता
अगर किसी ने कोशिश भी की आपके पास आने की
तो उसको मारने की कसम खायी है
मैं नहीं बोल रहा, ये तो मेरे दिल से आवाज़ आयी है
मेरी ज़िन्दगी में कितने खास हो आप क्या ये जानते हो?
आपसे खुद से ज़्यादा प्यार करता हूँ ये तो मानते हो?
आपका प्यार और प्यारी सी आवाज़ मेरे ज़ख्मों की दवाई है
मैंने थोड़ी बोला, ये तो मेरे दिल से आवाज़ आयी है
-आकाश

Dil se awaz ayi hai
Dil se awaz ayi hai
Jo kaha nahi jata wo sab bolta hai dil
Shayad aankhon se pata lag jaye
kya kehta hai dil
Yaar ajib baat hai itni yad ayi hai
Ki sochte sochte meri ankh bhar ayi hai
Ye mai nahi bol raha, ye to dilse awaz ayi hai
Subah uthte hi apko dekhne ko bolta hai
Sone se pehle apko sunne ko bolta hai
Ab isko kya pata ki meri jaan ko bhi neend nahi ayi hai
Mene nahi bola, ye to mere dil se awaz ayi hai
Bar bar apki tasveer dekhta hai dil
Apki ankhon aur hasi me kya dhundta hai dil
Apki nazro me pyar dekhte dekhte meri ankh bhi sharmai hai
Mai nahi bol rha ye to mere dilse awaz ayi hai
Bar bar dhyan mera ghadi ki taraf jata hai
Ye waqt bhi bereham hai..
Ise jitna zyada dekho utna intezar karvata hai
Ye intezar karne ko to taiyar hai par ek bechaini si chhayi hai
Mene nahi bola, ye to mere dilse awaz ayi hai
Apke chehre pe khushi dekh ke ye zorse dhadakne lagta hai
Thodi si bhi udasi dekh ke ye bahut tadapne lagta hai
Apko hansta hua dekh ke isne bahut khushi manai hai
Mene thodi kuch bola, ye to mere dilse awaz ayi hai
Apke pas ane ki zid karta hai to ise samjha deta hu
Apki pyari pyari baatein isko suna deta hu
Mene isse hamari sari kahani sunai hai
To badle mein isne mujhe apki izzat karni sikhai hai
Ye mai nahi bol rha, ye to mere dilse awaz ayi hai
Mujhe puchne laga uspe pe itna pyar kyu ata hai
Maine kaha.. arre jitna kuch usne saha mere liye, itna koi nhi kar pata hai
Bada khush kismt hu ki maine apke dil mein jagah banai hai
Maine nahi bola ji, ye to mere dilse awaz ayi hai
Apko kisi aur ke pas kabhi jane nahi deta
Milna to door ye to apko kisi dusre se baat tak karne nahi deta
Agar kisine koshish bhi ki apke pas ane ki
To usko marne ki kasam khai hai
Mai nahi bol rha, ye to mere dilse awaz ayi hai
Meri zindagi mein kitne khas ho ap kya ye jante ho
Apse khudse zyada pyar karta hu ye to mante ho
Apka pyar aur pyari si awaz mere zakhmo ki dawai hai
Maine thodi bola, ye to mere dilse awaz ayi hai
-Akash

Hindi Love Story-Kahaani

कहानी

सबने कहीं न कहीं किसी न किसी से सुना ही होगा,
एक अटूट प्रेम कहानी,
जिसमें एक था राजा, एक थी रानी।
ज़िन्दगी के हर मोड़ पर मिल जाती है ऐसी ही कहानी,
जिसका न कोई ओर,न ही कोई छोर,
बस होती है दिल की मनमानी।
हर किस्सा अपने आप में एक पल होता है,
जिस पल को याद करके दिल जल उठता है,
और यही सोचता है कि काश ये पल पैदा ही न हो,
जिस पल में नज़र तुम न आओ।
जिंदगी की बस यही कहानी है,
हर दिल की यही जुबानी ,
कुछ पल तो जी लो साथ में,
क्या पता ये पल आए न आए,
शायद कहीं किस्से कहानियों में तेरा साथ छूट जाए
और ये पल हमसे रूठ जाए।
जिंदगी में बस यही होता है,
जो इसको ना समझे हमेशा रोता है।
बस समझ लो इसको अपना हमसफ़र
और चला लो अपने जीवन की कश्ती,
क्योंकि इससे ही बसेगी तुम्हारी बस्ती।
ये राजा रानी की कहानी का अटूट बंधन है,
जो इसे ना समझे उसके लिए बहता समंदर है।
-अनसुइया

Kahani
Sabne kahi na kahi kisi na kisi se suna hi hoga,
ek atut prem kahani,
Jisme ek tha Raja ,ek thi Rani.
Zindagi ke har mod pr mil jati hai aise hi kahani,
Jiska na koi aur hai, na hi koi chor,
Bas hoti hai dil ki manmani.
Har kissa apne aap me ek pal hota hai,
Jis pal ko yaad karke dil jal uthta hai.
Aur yahi sochta hai ki kaash ye pal paida hi na ho,
jis pal me nazar tum na aao.
Zindagi ki bas yhi kahani hai,
Har dil ki yhi zubani hai.
Kuch pal to jee lo sath mein,
Kya pta ye pal aaye na aaye,
Shayad kahi kisse kahaniyon me tera sath chut jaye aur ye pal humse ruth jaye.
Zindagi me bas yhi hota hai,
Jo isko na samjhe hamesha rota hai.
Bas samajh lo isko apna humsafar aur,
chala lo apne zindagi ki kashti
Kyuki isse hi basegi tumhari basti.
Ye raja rani ki kahani ka atut bandhan hai,
Jo ise na samjhe uske liye bahata samandar hai.
-Ansuiya

Broken Heart Love Poem-Galti

गलती

बेशक गलती सिर्फ तेरी नहीं,
कुछ मेरी भी होगी

खामोश रातों में आंखें तेरी भी भीगी होगी
यकीन है हमें
तू भी तड़पा होगा भीगी पलकों के साथ
बीते लम्हों की तुझे भी याद आयी होगी
बेशक गलती सिर्फ तेरी नहीं,
कुछ मेरी भी होगी

वो रातों की कुछ शरारतें
जिस में अक्सर नींदें खो जाया करती थी
बेशक तुझे भी याद होगा
कि किस कदर तेरी मुहब्बत में अक्सर आंखें भीग जाया करती थी
बुरा नहीं है तू
बेशक गलती सिर्फ तेरी नहीं
कुछ मेरी भी होगी

रात के आहोश में उस पल तू भी अकेले भीगा होगा
जिस पल तुझे मेरी ज़रूरत सबसे ज़्यादा होगी
बेशक गलती सिर्फ तेरी नहीं
कुछ मेरी भी होगी

महजबीन

कविता का भावार्थ:

यह कविता एक प्रेमिका अपने प्रेमी के विषय में लिख रही है। कविता का शीर्षक “गलती” यह बतला रहा है कि प्रेमिका को अपने प्रेमी के साथ सम्बद्ध टूट जाने पर बहुत अफ़सोस है। इसी कारण वह इस घटना को एक गलती बता रही है। प्रेमिका अपने प्रेमी को यह भी सन्देश दे रही है कि यह गलती केवल उसकी अकेले की नहीं, बल्कि दोनों की बराबर थी। कविता में प्रेम के मिलन की झांकी है एवं विरह की वेदना भी स्पष्ट दिखाई पड़ती है।

Poetry Text with English Translation

Here is the poetry text in English and its meaning:

Galti (Mistake)

Beshaq galti sirf teri nahi, (Without a doubt, the mistake was not entirely yours)
Kuch meri bhi hogi (But also mine to some extent)

Khamosh raato mein ankhein teri bhi bheegi hogi (In silent nights, your eyes must have been wet too)
Yakeen hai hamein (I believe this)
Tu bhi tadpa hoga bheegi palko ke sath (You would have missed me too with wet eyes)
Beete lamho ki tujhe bhi yaad ayi hogi (You would be missing the time we spend together too)
Beshaq galti sirf teri nahi, (Without a doubt, the mistake was not entirely yours)
Kuch meri bhi hogi (But also mine to some extent)

Wo raato ki kuch shararatein (Those naughty acts at night)
Jis mein aksar neendein kho jaya karti thi (Engaged in them, we used to forget our sleep)
Beshaq tujhe bhi yaad hoga (Without doubt, you would have remembered the incidents)
Ki kis kadar teri muhabbat mein aksar ankhein bheeg jaya karti thi (When my eyes used to be wet in your love)
Bura nahi hai tu (You are not bad)
Beshaq galti sirf teri nahi, (Without a doubt, the mistake was not entirely yours)
Kuch meri bhi hogi (But also mine to some extent)

Raat ke ahosh mein us pal tu bhi akele bheega hoga (In the loneliness of night, you would have also cried alone)
Jis pal tujhe meri zarurat sabse zyada hogi (The moment you felt my need the most)
Beshaq galti sirf teri nahi, (Without a doubt, the mistake was not entirely yours)
Kuch meri bhi hogi (But also mine to some extent)

Mehjabeen (Author)

Hindi Poem on Betrayal in Love-Sirf Bewafai Dekhi

ज़िन्दगी में सिर्फ बेवफाई देखी, हमने महफ़िल में सिर्फ तनहाई देखी
वफ़ाओं का मेरी जो सिला दे, मै वो इश्क़ तलाश करता हूं,

ये ज़ख्म जो मिले गहरे हैं बहुत, मेरी खुशियों पे गमों के पहरे हैं बहुत
दर्द को मेरे जो मिटा दे, मैं वो शिफा तलाश करता हूं,

रिश्तों की कश्मकश में उलझा ऐसे, खुद को ही खुद से खो दिया जैसे
वजूद को मेरे जो मुझसे मिला दे, मैं वो आईना तलाश करता हूं,

इबादत को कभी ना छोड़ा हमने, अपने अक़ीदे को ना कभी तोड़ा हमने
जन्नत जो मुझे दिला दे, मैं वो खुदा तलाश करता हूं,

हर अल्फ़ाज़ को जताने की कोशिश है, हर जज़्बात को बताने की कोशिश है
इस बज़्म को जो एहसास करा दे, मैं वो नज़्म तालाश करता हूं

(अरमान )

Hindi Love Poem on Destiny-Jo Hota Hai Acche Ke Liye Hota hai

जो होता है अच्छे के लिये होता है
बड़ी चाहत थी कि मैं भी इश्क कर लूं,
चांद- तारे तोड़ लाने की बाते कर लूं।
तेरी हर मुश्किलों में साथ निभाता रहूं,
जन्मों-जनम तक मैं तेरा ही रहूं।
फिर वो सुहानी सी मौसम की घड़ी आयी,
दिल में एक आशा की किरण लायी।
सोचा चलो इज़हार कर दूं आज,
दिनों बाद आयी थी हिम्मत आज।
मैंने कहा, ना जी सकूंगा तुम बिन,
तड़प रहा मैं जैसे मछली पानी बिन।
माना कि आज मैं एक गरीब किसान हूँ,
पर कभी आंसू आने न दूंगा ये वादा करता हूँ।
“अपनी औकात में रह” कहकर वो मना कर गयी,
बड़े घमण्ड से प्यार को ठुकरा वो चली गयी।
प्यार-व्यार सब अपने लिये नहीं यह सोच,
ज़िन्दगी की राह में मैं अकेला निकल पड़ा।
कुछ वर्षों बाद बंगला-गाड़ी,पैसा आ गया,
मैं अपनी जिंदगी जीना सीख गया।
वो जहां कल थी वहीं आज है,
मैंने तरक्की की ऊंचाई पा ली है।
हर अंधेरी रात बाद नया दिन आता है,
किसी ने सच ही कहा है,
जो होता है अच्छे के लिये होता है।
जो होता है अच्छे के लिये होता है।
एम.पी. सांरवां, नारायणपुर

Poetry text with English Translation:

Jo Hota Hai Acche Ke Liye Hota Hai
Badi chahat thi ki main bhi ishq kar lu, (I wish I could also fall in love)
Chand taarey tod laane ki baat kar lu. (I could talk about plucking moon and stars from the sky)
Teri har mushkilo mein sath nibhata rahu, (I could stand by your side in every adversity)
Janmo-Janam tak main tera hi rahu. (I stay only yours for multiple births)
Phir wo suhani si mausam ki ghadi agayi, (Again that beautiful moment has arrived)
Dil mein asha ki kiran layi. (It brought a ray of hope in my heart)
Socha chalo izhar kar du aj (I thought I should confess my love for you today)
Dino baad ayi thi himmat aaj (I had gathered the courage to do so after so many days today)
Maine kaha, na ji sakunga tum bin, (I said, I cannot live without you)
Tadap raha main jaise machli paani bin (I am distressed without you like a fish is without water)
Maana ki aaj main ek gareeb kisaan hu, (I agree that today I am a poor farmer)
Par kabhi ansu aane na dunga ye waada karta hu. (But I will never let tears enter your eyes, I promise it to you)
“Apni aukaat mein reh” keh kar wo mana kar gayi, (“Stay within your limits,” saying this she rejected me)
Bade ghamand se pyaar ko thukra wo chali gayi. (With great ego, she walked away rejecting my love)
Pyar vyar sab apne liye nahi yah soch, (This love etc is not my cup of tea, thinking this)
Zindagi ki raah mein main akela nikal pada, (I started moving ahead in my life alone)
Kuch varsho baad bangla-gaadi, paisa agaya, (After few years, I earned a big house, car and money)
Main apni zindagi jeena seekh gaya. (I learnt how to live my life)
Wo jahan kal thi wahi aaj hai (She is still at the same point as she was yesterday)
Maine tarakki ki unchai pa li hai. (I have attained the zenith of my progress in life)
Har andheri raat bad naya din aata hai, (After every dark night, a new day follows)
Kisi ne sach hi kaha hai, (Someone has said the truth)
Jo hota hai acche ke liye hota hai. (Whatever happens, happens for the good)
Jo hota hai acche ke liye hota hai. (Whatever happens, happens for the good)
-M.P Sarvaan, Narayanpur

Hindi Love Poem for Her-Ankho Ke Samne

आँखों के सामने

आंखें खोलें तो दीदार तुम्हारा होना चाहिए,
अगर करे बंद तो स्वप्न तुम्हारा होना चाहिए,
हमें मरने के लिए हर लम्हा मंज़ूर है,
बस कफ़न के बदले आँचल तुम्हारा होना चाहिए।

तुझे आँखों के सामने रखने की कोशिश करता रहता हूँ,
कोई कर न ले साज़िश तुझे चुराने की इस बात से डरता रहता हूँ,
तुझे आँखों के सामने रखने की कोशिश करता ही रहता हूँ,

खुश तो बहुत हूँ फिर भी डरता रहता हूँ,
तेरा दिल बदल न जाये इस डर से तेरी आँखों को पढ़ता रहता हूँ,
रचने वाले ने क्या रचा है तुझे,
हर गली, हर मुहल्ले, हर जुबान पर हैं चर्चे तेरे,
हर जगह बट रहे प्यार के पर्चे मेरे,
पर….
ये पर्चे मेरी मुहब्बत मुझसे छीन न ले, इस बात से डरता रहता हूँ,
तुझे आँखों के सामने रखने की कोशिश करता ही रहता हूँ,
करता ही रहता हूँ……

सुनता हूँ, कई शाहजहां तेरी चाहत में बनवा रहे हैं महले कई,
इन ज़ालिमों ने भी कर दिया मुझे कवि,
हर जगह बस दिख रही बस तेरी छवि,
बस इतना ही कहूँगा……..
“तेरी खूबसूरती का दीवाना हर कोई,
तेरी नज़रों का दीवाना हर कोई,
जब कभी पूछो ज़माने से कुदरत की खूबसूरती क्या है,
तब सिर्फ तेरा नाम बताता हर कोई”

तेरा जब कोई मुझसे पता पूछे तो उसको मैं भटकाता रहता हूँ
तुझे आँखों के सामने रखने की कोशिश करता ही रहता हूँ,
करता ही रहता हूँ,
करता ही रहता हूँ……………
-कुमार हर्ष

Ankho Ke Samne

Ankhein khule to didar tumhara hona chahiye,
Agar karein band to sapna tumhara hona chahiye,
Hame marne ke liye bhi har lamha manzur hai,
Bas kafan ke badle anchal tumhara hona chahiye…

Tujhe ankho ke samne rakhne ki koshish karta rahta hu,
Koi kar na le sazish tujhe churane ki, is baat se bhi darta rahta hu,
Tujhe ankho ke samne rakhne ki kosish karta hi rahta hu.
Khush to bahut hu, phir bhi darta rahta hu,
Tera dil badal na jaye is dar se teri ankho ko padta rahta hu,
Rachne wale ne kya racha hai tujhe,
Har gali, har muhalle, har zubaan par hain charche tere,
Har jagah bat rahe pyar ke parche mere,
Par…..
Ye parche meri muhabbat mujhse cheen na le, is baat se darta rahta hu,
Tujhe ankho ke samne rakhne ki koshish karta hi rahta hu,
Karta hi rahta hu…

Sunta hu, kai Shah Jahan teri chahat mein banwa rahe hain mahle kai,
In zalimo ne bhi kar diya mujhe kavi,
Har jagah bas dikh rahi teri chhavi,
Bas itna hi kahunga….
“Teri khubsoorti ka deawana har koi,
Teri nazaron ka deewana har koi,
Jab kabhi pucho zamane se kudrat ki khubsurti kya hai,
Tab tab sirf tera naam batata har koi.”

Tera jab mujhse koi pta puche to usko mai bhatkata rahta hu,
Tujhe mujhse koi chura na le is baat se darta rahta hu,
Tujhe ankho ke samne rakhne ki koshish karta rahta hu,
Karta rahta hu,
Karta rahta hu…..
-Kumar Harsh