Hindi Love Poem on Separation- प्यार की धड़कन


बिछड़ी प्यार की धड़कने
आँखों में नमी दे
बन्द राहों की उलझनें जीने न दे
वो खामोशियाँ भी इश्क़ को ही तलाशे
कुछ अनकही सी ख्वाइशें
दिल तो छुपा दे ये मोहोब्बत
कैसा जो अंग अंग लुटा न दे……

-स्वेता

Bichadi pyaar ki dhadkaney
Aankhon mein nami de
Bandh raahon ki uljhan Jeene na de
Vo khamoshiyaan bhi Ishq ko hi talashe
Kuch ankahi si khwaahishey
Dil ne chupa de Yeh mohobbat
kaisa Jo ang ang luta na de

-Swetha

Hindi Poem Longing for Love – आखरी ख्वाहिश


 

इस ज़िन्दगी का खूबसूरत सपना हो तुम
कह सके ये दिल जिसे अपना वो हो तुम
पतझड़ सी ज़िन्दगी में आई हसीन बहार हो तुम
इस जीवन रूपी गर्मी की ठण्डी फुहार  हो तुम
सर पर चढ़ता हुआ जूनून हो तुम
इस दिल को राहत देने वाला सुकून हो तुम
रब की करी हुई दिलक़श  साज़िश हो तुम
मेरी ज़िन्दगी की अब आखरी  ख्वाहिश हो तुम

– मोनिका मखारिया

Is zindagi ka khoobsurat sapna ho tum
Kah sake ye dil jise apna wo ho tum
Patjhad si jindagi me Aayi haseen bahaar ho tum
Is jeevan roopi garmi ki thandi phuhaar ho tum
Sar par chadhata hua junoon ho tum
Is dil ko raahat dene wala sukoon ho tum
Rab ki kari hui dilkash saazish ho tum
Meri zindagi ki ab Akhari khvahish ho tum

-Monika Makharia

 

 

Hindi Love Poem on Pain-मैं तन्हा हूँ


मैं तन्हा हूँ मुझे तन्हा ही रहने दो
देखकर मेरे बहते आंसू
तुम अपने लहू न बहने दो
मैं आपका दीवाना हूँ
मुझे बस अपना पागल रहने दो
मिट गया जो सवेरा मेरा
अब कैसे खोजूं घर मैं तेरा
मुझे रोशनी से नफरत सी है
ए मेरे दोस्त तुम मुझे अब
चांदनी के काजल में रहने दो
वो किस्से क्या जो मुझे रुलाते रहें
वो सपने क्या जो मुझे जलाते रहें
अब मैं बेफिक्र सा हो गया हूँ
आप मुझे आबारा ही रहने दो
तेरी गलियों को भूल सा गया हूँ
मैं वो तेरी बातों को खो सा गया हूँ
मैं अब तुम भी मुस्कुराओ
जी भर के और मुझे भी
ज़िन्दगी बात करने दो।।

-अभी राजा फर्रुखाबादी

Main tanha hoon muje tanha hi rahne do
Dekhkar mere bahte aansu
Tum apna lahu na bahne do
Main aapka diwana hoon
Mujhe bas apna pagal rahne do
Mit gya jo swera mera
Ab kese khoju ghar main tera
Muje roshni se nafrat si hai
Aei mere dost mum mujhe
Chandani ke kajal mein rahne do
Wo kisse kya jo muje rulate rahe
Wo sapne kya jo muje jalate rahe
Ab main befikar sa ho gya hoon
Aap mujhe aawara hi rhne do
Teri galiyon ko bhul sa gya hoon
Main wo teri baaton ko kho sa gya hoon
Main ab tum bhi muskurao
Ji bhar ke aur mujhe bhi
Zingadi baat karne do

-Abhi Raja Farukhabadi

 

 

 

Hindi Love Poem on Separation-आखिरी मुलाकात


काश दिल की बात दिल में ही रह जाती
तब ये दुनिया तेरे मेरे बीच ना आती
तब ना होती ये दूरियां और ना ही कोई खामोशी
बस तु अनजान होकर भी अनजाना ना होता
तब अगर हो जाती मुलाकात तो
मुस्कुराने का एक बहाना भी होता
ख्यालों में ही सही पर तेरे पास होने का
एहसास तो होता काश तब दिल की बात
दिल में ही रह जाती तब तेरे दूर होने का
कोई गम ना होता और ना होती
कोई आखिरी मुलाकात

-अनन्या

Kash dil ki baat dil me hi rah jati
Tab yeh duniya tere mere bich na aati
Tab na hoti yeh duriya aur na hi koi khamoshi
Bas tu anjan hokar bhi anjana n hota
Tab agar ho jati mulakat to
Muskurane ka ek bhana bhi hota
Khayalo me hi sahi pr tere pas hone ka
Ehsas to hota kash tab dil ki baat
Dil me hi rah jati tab tere dur hone ka
Koi gam na hota aur na hoti
Koi aakhiri mulakat

-Ananya

Hindi Love Shayari for Wife or Girlfriend – दिल के सबसे पास


two_lovers-wallpaper-1366x768

दिल के सबसे पास, सबसे खास हो तुम
मेरे जीने का, मरने का हर एहसास हो तुम
मेरे सूखे वीरान जीवन की पहली बरसात हो तुम
जो पानी से भी न बुझ पाए ऐसे कुएँ की प्यास हो तुम
कोई तुमको कुछ भी कहे, मेरे लिए खुद खुदा पास हो तुम
तुम दिखो तो दिन चढ़े, तुम रुको तो दिन ढले
तुम हंसो तो चाँद खिले, तुम उदास तो अमावस की रात
तुम मिलो तो झरनों का संगम
हम बिछडें तो हो जाये संग्राम
मेरे शब्दों के छोटे से दायरे में जो न समां पाए
वो खुदा की कायनात हो तुम

-अनुष्का सूरी

Hindi Love Shayari for Her – एक ख्वाब


girl_with_headphone___by_cs9_fx_design-wallpaper-1366x768

दिल ने देखा एक ख्वाब
ख्वाब में थी तुम
हाँ तुम, तुम

तुम्हारा सुन्दर भोला चेहरा
ज़ुल्फ़ों का कुछ रंग सुनहरा
देख के तुझको दिल बेचारा
हो गया तेरा, हाँ बस तेरा

नींद जब खुली मेरी जाना
तब ये जाना तूने न जाना
मैं तो हूँ तेरा आशिक़
क्यों तुझसे हूँ बेगाना

तू ही मेरी रूह की राहत
तू ही मेरी पहली चाहत
काश हो जाये ऐसी रहमत
तू मिल जाये मुझको जन्नत

दिल ने देखा एक ख्वाब
ख्वाब में थी तुम
हाँ तुम, तुम

-अनुष्का सूरी

Hindi Love Shayari for Her- तेरी आँखों में


eyes
एक ग़ज़ल लिखी तेरे पहलू में तेरी आँखों को यूँ देख के,
कि इनमें छुपा है प्यार बस मेरे लिये मेरे लिये,
एक ग़ज़ल लिखी तेरे पहलू में तेरी आँखों को यूँ देख के,
कि पहलू में तेरे बैठ के, तेरी ज़ुल्फ़ों से यूँ खेल के,
बस दिल से मैं लिखता रहा, तुझे सोचते बस तुझे सोचते,
एक ग़ज़ल लिखी तेरे पहलू में तेरी आँखों को यूँ देख के,
कि शाम भी अब ढल गयी, तेरे पहलू में सिमट गयी,
कि चांदनी भी अब तेरे हुस्न से पिघल गयी,
एक ग़ज़ल लिखी तेरे पहलू में तेरी आँखों को यूँ देख के,
गीतों को लिखता रहूँ, तुझ में ही मैं जीता रहूँ,
कि मेरी धड़कन भी तेरी धडकनों से जुड़ गयी,
एक ग़ज़ल लिखी तेरे पहलू में तेरी आँखों को यूँ देख के,
अल्फ़ाज़ भी मेरे नहीं, ये गीत भी मेरा नहीं,
बस तू ने जो ना कहा लिख दिया तुझे सोच के,
एक ग़ज़ल लिखी तेरे पहलू में तेरी आँखों को यूँ देख के,
कि वक़्त भी अब थम गया, जो तूने वो कह दिया,
कि आए मेरे हमसफर ये दिल भी है तेरे लिये,
एक ग़ज़ल लिखी तेरे पहलू में तेरी आँखों को यूँ देख के,
जब मैने वो सुन लिया, धड़कन को तेरे जी लिया,
तुझे पहलू में समेट के होश में ना मैं रहा,
एक ग़ज़ल लिखी तेरे पहलू में तेरी आँखों को यूँ देख के,
कि इन में छुपा है प्यार बस मेरे लिये बस मेरे लिये|
-गौरव

Ek gazal likhi tere pahlu mein teri aankhon ko yoon dekh ke,
Ki inmein chupa hai pyar bas mere liye mere liye,
Ek gazal likhi tere pahlu mein teri aankhon ko yoon dekh ke,
Ki pahlu mein tere baith ke, teri zulphon se yoon khel ke,
Bas dil se main likhta raha, tujhe sochte bas tujhe sochte,
Ek gazal likhi tere pahlu mein teri aankhon ko yoon dekh ke,
Ki sham bhi ab dhal gayi, tere pahlu mein simat gayi,
Ki chandni bhi ab tere husn se pighal gayi,
Ek gazal likhi tere pahlu mein teri aankhon ko yoon dekh ke,
Geeton ko likhta rahoon, tujh mein hi main jeeta rahoon,
Ki meri dhadkan bhi teri dhadkanon se jud gayi,
Ek gazal likhi tere pahlu mein teri aankhon ko yoon dekh ke,
Alfaz bhi mere nahin, ye geet bhi mera nahin,
Bas tu ne jo na kaha likh diya tujhe soch ke,
Ek gazal likhi tere pahlu mein teri aankhon ko yoon dekh ke,
Ki waqt bhi ab tham gaya, jo toone wo kah diya,
Ki ae mere hamsafar ye dil bhi hai tere liye,
Ek gazal likhi tere pahlu mein teri aankhon ko yoon dekh ke,
Jab maine wo sun liya, dhadkan ko tere jee liya,
Tujhe pahlu mein samet ke hosh mein na main raha,
Ek gazal likhi tere pahlu mein teri aankhon ko yoon dekh ke,
Ki in mein chupa hai pyar bas mere liye bas mere liye|
-Gaurav