Hindi Love Poem for Husband-Pyar Pati Ka

प्यार पति का (कविता का शीर्षक)
इतना क्यों प्यार करते हो तुम?
मांगू सौ रुपैया कभी भी,
सौ बार ही सोचते हो तुम,
इतना क्यों प्यार करते हो तुम?
आऊं कभी थक कर अगर,
या रहूँ बीमार घर पर,
सिर्फ अंडा कढ़ी से काम चला लेते हो तुम,
इतना क्यों प्यार करते हो तुम?
ज़रूरत पड़ी जब भी तुम्हारी,
चार कदम पीछे हट जाते हो तुम,
इतना क्यों प्यार करते हो तुम?
प्यार बहुत करते हो हमसे,
हमेशा ही जताते हो तुम,
इतना क्यों प्यार करते हो तुम?
-विधि (कवयित्री का नाम)

English Translation:

Pyar Pati Ka (Husband’s Love) (Title of Poem)
Itna kyon pyar karte ho tum? (Why do you love me so much?)
Maangu so rupaya kabhi bhi, (Whenever I ask for hundred rupees)
So bar hi sochte ho tum, (You think about it hundred times)
Itna kyon pyar karte ho tum? (Why do you love me so much?)
Aaoon kabhi thak kar agar, (If I return home tired)
Ya rahun bimar ghar par, (or if I am sick at home)
Sirf anda kadi se kam chala lete ho tum, (You manage your meals with egg curry)
Itna kyon pyar karte ho tum? (Why do you love me so much?)
Zarurat padi jab bhi tumhari, (Whenever I needed you)
Char kadam peechhe hat jaate ho tum, (You always held back)
Itna kyon pyar karte ho tum? (Why do you love me so much?)
Pyar bahut karte ho humse, (You love me a lot)
Hamesha hi jatate ho tum, (You always try to convince me)
Itna kyon pyar karte ho tum? (Why do you love me so much?)
Vidhi (Name of Poetess)

Hindi Love Poem on Relationships-Ek Pehal Rishtey Ki Ore

एक पहल रिश्ते की ओर (कविता का शीर्षक )
सुनो… सुनो न!
कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें
और बदलके इस रिश्ते को ढेर सारा प्यार देते हैं !
चलो न, वक़्त रहते इस रिश्ते को सवार लेते हैं!
जो गलतियां तुमने की हैं, जो गलतियां मैंने की हैं!
साथ बैठके आज उन्हें सुधार लेते हैं
चलो न, वक़्त रहते इस रिश्ते को सवार लेते हैं
प्यार तुमको भी है, प्यार हमको भी है
आओ इस बात को मन से स्वीकार लेते हैं!
चलो न, वक़्त रहते इस रिश्ते को सवार लेते हैं
थोड़ा तुम मुझे समझ लो, थोड़ा मैं तुम्हें समझ लूँ!
और कारण इस तकरार का जान लेते हैं!
चलो न, वक़्त रहते इस रिश्ते को सवार लेते हैं
यूं तो तुम भी कुछ वायदे करते हो, और मैं भी करती हूँ!
आओ वायदे का दिल से ऐतबार करते हैं
चलो न वक़्त रहते इस रिश्ते को सवार लेते हैं
प्लीज़ चलो न
वक़्त रहते इस रिश्ते को सवार लेते हैं
आरती सैनी (कवयित्री)

English Translation:

Ek Pahal Rishtey Ki Ore (One step towards our relationship) (Title of the Poem)
Suno…. Suno na! (Listen, listen please)
Kuch tum badlo, kuch hum badle.. (Bring some change within you, I change too)
Aur badalke is rishte ko dher sara pyar dete hain… ! (And let us nurture our relationship with lots of love)
Chalo na, waqt rehte iss rishtey ko sawaar lete hain!(Come, let us strengthen our relationship while there is time)
Jo galtiya tumne ki hain, jo galtiya maine ki hain! (The mistakes you have made, the ones I have made)
Sath baithke aaj unhe sudhar lete hain.. (Let us correct them together today)
Chalo na, waqt rehte iss rishtey ko sawaar lete hain.. (Come, let us strengthen our relationship while there is time)
Pyar tumko bhi hai, pyar humko bhi hai ! (You love me, I love you too)
Aao iss baat ko mann se sweekar lete hain! (Come, let us confess this fact from our heart)
Chalo na waqt rehte Iss rishte ko sawaar lete hain.. (Come, let us strengthen our relationship while there is time)
Thoda tum mujhe samajh lo, thoda main tumhe samjh lu! (You understand me a little, I understand you a little)
Aur kaaran is takraar ka jaan lete hain! (And let is find out the reason for our conflict)
Chalo na, waqt rehte iss rishtey ko sawaar lete hain.. (Come, let us strengthen our relationship while there is time)
Yun to tum bhi kuch vaayede krte ho, or main bhi krti hu! (You make some promises to me, and I make some to you)
Aao aaj us wayede ka dil se aitbar krte hain.. (Come, let us trust each other’s promise today)
Chalo na waqt rehte iss rishtey ko sawaar hain…. (Come, let us strengthen our relationship while there is time)
Please chalo na…… (Please, come along)
Waqt rehte iss rishtey ko sawaar lete hain!! (Let us strengthen our relationship while there is time)
Arti Saini (Poetess)

Hindi Poem for Him-Ishq

इश्क़
इश्क़ किया है तुमसे
तुम्हारी इबादत की है
दिल दिया है तुमको
तुमसे मुहब्बत की है

मेरे दिल के हो तुम राजा
तुम्हारे लिए है घर मेरा सजा
तुमसे ही दिन है मेरा
तुमसे ही मेरी रात है
तुम हो तो सब बात है
तुमसे ही सब जज़्बात हैं

मांगती हूँ बस खुदा से दुआ हर दिन
न दिन आये ऐसा जब रहना हो तुम्हारे बिन

-अनुष्का सूरी

Hindi Love Poem for Him -क्या पता है तुझे

क्या पता है तुझे
कि मेरे जज्बातों का अलफ़ाज़ तू है
मेरे होंठो पर बिखरी मुस्कराहट की आवाज़ तू है
मेरे चेहरे की मासूमियत में छिपी हर राज़ तू है
मेरे नयनों के आशियाने में कैद मेरे सुकून हमराज़ तू है
सुरमयी काजल से सजी खूबसूरत पलकों का नाज़ तू है
बेखबर झूम कर चलने वाले कदमों की बलखाती अंदाज तू है
सोये हुऐ मुहब्बत के मीठी सुरों वाली आगाज़ तू है
अब और क्या बताऊँ कि तू क्या क्या है मेरा?
बस जान ले तू इतना कि मेरे सोलह श्रृंगार की लाज तू है

-संघमित्रा मौर्य

Kya pta hai tujhe?
ki mere jajbaato ka alfaaj tu hai,
mere hontho par bikhari muskurahat ki awaj hai,
mere chahre ki masoomiyat me chhipi har raaj tu hai,
mere nayano ke aashiyaane me kaid mere sukoon ka hamraaj tu hai,
surmayi kajal se saji khoobsoorat palko ki naaj tu hai,
bekhabar jhoom kar chalne wale kadmo ki balkhaati andaaj tu hai,
soye huye mohabbat ke mithi suro wali agaaj tu hai,
ab aur kya btaoo ki tu kya – kya hai mera ??,,
bas jan le tu itna ki mere solah shringaar ki laaj tu hai..

-Sanghmitra Maurya

Hindi Poem for Him – नयनों में काजल लगा के चली

love-1643452_960_720

आज मैं नयनों में काजल लगा के चली
पलकों पर आपकी खूबसूरत तस्वीर सजा के चली
दिल की धड़कनों को साँसों में छुपा के चली
थोड़ा इतरा के चली
सावन की मयूरी सी बलखा के चली
लहराती हवाओं में केशों को बिखरा के चली
थोड़ा शर्मा के चली
अल्फ़ाज़ों में मीठी सरगमों को मिला के चली
उलझी बेचैनियों को सुलझा के चली
सच्ची मुहब्बत अपनी रूह में बसा के चली
दुनिया की हर खूबी हांथों की लकीरों में ठहरा के चली
अब तो बोल दो कि मैं आपकी ज़िन्दगी हूँ
आपकी खुशियों की बन्दग़ी हूँ
आपकी तक़दीर में संवरती आपकी जीवन संगनी हूँ
अब बस करो बोल भी दो कि मैं ही आपकी अर्धांगिनी हूँ

-संघमित्रा मौर्य

Aj mai nayano me kajal laga ke chali,
Palko par apki khubsoorat tasveer saja ke chali,
Dil ki dhadkano ko sanso me chhupa ke chali,
Thoda itra ke chali,
Sawan ki mayoori si balkha ke chali,
Lahraati hawaao me kesho ko bikhra ke chali,
Thoda sharma ke chali,
Alfaazo me mithi sargamo ko mila ke chali,
Uljhi bechaniyo ko suljha ke chali,
Sachhi mohabbat apni rooh me basa ke chali,
Duniya ki har khoobi hatho ki lakiro me thahara ke chali,
Ab to bol do ki mai apki jindagi hu, apki khushiyo ki bandagi hu,
Apki taqdeer me sawarti apki jeewan sangini hu,
Ab bas karo bol bhi do ki mai hi apki ardhangini hu

-Sanghmitra Maurya

Hindi Poem for Husband – मेहंदी तेरे नाम की

wedding-1404621_960_720.jpg 

तेरे नाम की मेहंदी सजाई मैंने हाथों में
तुझको छुपाया मैंने अपनी साँसों में
चढ़ा रंग गहरा तेरे प्यार का
उतार न पाऊँ, हुआ असर ऐसा तेरे प्यार का
लिखा है तेरा नाम मैंने अपने हथेली पर
मिटा सके न कोई उसे पानी से
दिल पे लिखा तेरा नाम
मिट न पाए किसी से

-कविता परमार

Tere naam ki mehendi sajai maine hatho mei
Tujhko chupaya maine apni sanso mei
Chadha Rang gehra tere pyar ka
Utaar na pau, hua asar aisa tere pyar ka
Likha hai tera nam maine apne hatheli par
Mita sake na koi use pani se
Dil pe likha tera naam
Mit na paaye kisi se

-Kavita Parmar

Hindi Poem for Him – सांसों में तू

सांसों में तू
सांसों में बसने लगा है तू
नींदों में जगाने लगा है तू
दुआओं में आने लगा है तू
मेरे जीने की वजह बनने लगा है तू

घबरा जाती हूँ तुझे तकलीफ में देख कर
मुस्कुरा जाती हूँ तुझे करीब मैं देख कर
हमेशा तुम यूं ही पास रहो मेरे
हो नादान तुम पर जान हो मेरे

– कविता परमार

Saanso mei basne laga hai tu
Neendo mei jagane laga hai tu
Duao mei aane laga hai tu
Mere jeene ki wajah ban ne laga hai tu

Ghabra jati hu tujhe takleef mei dekh kar
Muskura jati hu tujhe kareeb mai dekh kar
hamesha tum yu hi pas raho mere
Ho nadan tum par jaan ho mere

– Kavita Parmar

 

Hindi Love Poem- तुम मिले

कभी तो वक़्त ठहरा होगा जो तुम मिले
क्या मुहब्बत की ओस गिरी होंगी जो तुम मिले
या खिंचती हुई पवनों ने छुआ था जो तुम मिले
समय की उस अबूझ पहेली में कोई तो बात थी जो तुम मिले
धीमी सी दिल की धकधक में कुछ तो था जो तुम मिले
तेरी पलकों के इशारे कुछ तो कह रहे थे जो तुम मिले
कुछ तो जोड़ रहा था तेरे दिल को मेरे दिल से जो तुम मिले
अब तुम ही बताओ इन इशारों की सदायें..
ये साजिश है या इत्तेफ़ाक जो तुम मिले सिर्फ तुम मिले?

-गौरव

Kabhi to waqt thaira hoga jo tum mile
Kya muhabbat ki os giri hogi jo tum mile
Ya khichti hui pavano ne chua tha jo tum mile
Samay ki us abujh paheli mei koi to baat hogi jo tum mile
Dheemi si dil ki dhakdhak mei kuch to tha jo tum mile
Teri palko ke ishare kuch to keh rahe the jo tum mile
Kuch to jod raha tha tere dil ko mere dil se jo tum mile
Ab tum hi batao in isharo ki saayein
Ye sazish hai ya ittfak jo tum mile sirf tum mile

– Gaurav

Hindi Poem for Husband: दिल के पास

couple

दिल के पास
सबसे करीब
कौन रहता है ?
वो हो तुम
चैन मेरा
मेरा हबीब
वो कौन है ?
वो हो तुम
मेरा सरुर
मेरा नसीब
हाँ, कौन है वो
वो हो तुम

– अनुष्का सूरी

Dil ke pas
sabse kareeb
Kaun rehta hai?
Wo ho tum
Chain mera
mera habib
Wo kaun hai?
Wo ho tum
Mera suroor
Mera nasib
Haan, kaun hai wo?
Wo ho tum

– Anushka Suri