Hindi Love Poem – तेरी आँखें


 

girl-1403458_960_720

तेरी आँखें है आईने जैसी
गम हो तो ये छलक जाती
लाख करे कोशिश तू
कुछ नहीं छुपा पाती
तेरी आँखें हैं आईने जैसी

तुझको पाया तभी जान लिया था मैंने
मुझे चाहती है तू ज़िन्दगी जैसे
तेरी आँखें हैं आईने जैसी

मेरे लिए करती रहती है तू दुआ
तेरी फितरत है खुदाई जैसी
तेरी आँखें हैं आईने जैसी

-अनुष्का सूरी

Teri aankhein aaene jesi
Gum ho to ye chhlk jati
Lakh kre koshish tu
Kuch nahi chupa pati
Teri aankhein hai aaene jesi

Tujko paya tbhi jaan liya tha maine
Muje chahti hai tu zindgi jesei
Teri aankhein hai aaene jesi

Mere liye krti rhti hai tu dua
Teri fitrat hai khudai jesi
Teri aankhein hai aankhein jesi

-Anushka Suri

Hindi Love Shayari for Her – तुमको देखा


sadas

तुमको देखा जब भी मैंने
दिल से निकली एक ही बात
मेरी खुशियाँ मिल जाएं तुम्हें
तुम्हारे गम मिल जाएं हमें
तुम हंस दो तो हो जाए उजाला
तुम रो दो तो हो जाए मेघा
तुम नाचो तो झूमे ज़न्नत
तुम चुप हो तो रुस्वा किस्मत
तुम ही हो मेरी मुहब्बत
तुम ही हो मेरी इबादत
तुमसे मिलना मेरी राहत
तुमको पाना मेरी चाहत

– अनुष्का सूरी

Tumko dekha jab bhi maine
Dil se nikli ek hi baat
Meri khushiyan mil jayein tumhein
Tumhare gam mil jayein hamein
Tum has do to ho jaye ujala
Tum ro do to ho ajaye megha
Tum nacho to jhumein jannat
Tum chup ho to ruswa kayanat
Tum hi ho meri muhabbat
Tum hi ho meri ibadat
Tumse milna meri chahat
Tumko pana meri chahat

– Anushka Suri

Hindi Love Poem – एक मीठा एहसास


11

प्यार का पता नहीं की वो क्या होता है। पर जब हम मिलते हैं
एक अजनबी से तो सब कुछ बदल जाता है।
उसकी छोटी छोटी बाते बहुत हँसाती हैं।
और दिल है की एक खुद की ही दुनिया बसा लेता है।
शायद किसी अजनबी का साथ जो दिल को अच्छा लगने लगे वही प्यार होता है।
चलिये  प्यार के कुछ ऐसे ही रंग तलाशते हैं
एक नये प्यार की सुगबुगाहट हुई, दिल से दिल की कुछ बात हुई,
कशमकश में था ये दिल मेरा की कैसे ये दिल की हालत हुई,
सोचती रही रात भर तुमको,और सुबह की भी आहट हुई,
हिम्मत करके दिल ने मुझे संभाला,
और घबराते हुए बातो की शुरुआत हुई,
मैँ थी घबराई पर देखा जब पहली बार तुमको,
दिल में पुरानी सी जान पहचान सी निकल आई,
दिल बस तुमको ही सुने लगा।हर वक़्त तुमको ही जीने लगा,
कैसे ये दिल वगावत कर बैठा जो तुमसे मिलने चली आई,
होके मजबूर दिल से बस आके तुझमे समाई,
तुम्हारी हर बात अच्छी लगती है शहद सी घुली लगती है,
जो हुआ न था आज तक क्या वो मुझको हो गया,
ए मेरे अजनबी हमसफ़र क्या तुमसे प्यार हो गया,
अब तो तेरा जिक्र आते ही हया का एहसास होता है,
घूंघट में शर्म के छुपके दिल का हाल बेहाल होता है,
दोस्तों की बातों में भी वो हँसी नहीं  आती,
पर जिक्र आते ही तेरा हँसी मुझमें कहीं बस सी जाती है,
जो नाम था अजनवी आज वो अपना हो गया,
कोरे कागज पे हाँथो से लिख देती हूँ,
हथेली को मेहबूब की मेहंदी में घोल देती हूँ,
कैसा ये हाल बेहाल हो गया शायद  उस अजनबी से प्यार हो गया,
अब तो हर वक़्त तेरा ही ख्याल रहता है,
शाम से ही ढली रात का इंतज़ार रहता है,
उन्ही के ख्याल पर दिल हैरान रहता है,
बस देख लूँ एक बार फिर उनको यही दिल बार बार कहता है,
हाल ये मेरा कैसा हो गया है,शायद उस अजनबी से प्यार हो गया है,
एक पल में कोई अपना बना गया,
जो मेरा था दिल का चैन वो चुपके से ही चुरा गया,
एक बार कहा उसने आँखे तुम्हारी खूबसूरत हैं,
होंठ  भी बेमिसाल हैं, सादगी के रंगो से सजी हो तुम,
इतना तो मैं भी नही जानती थी खुद को जितना वो मुझको बता गया,
मुझमे समाके खुद से बेगाना बना गया,
शायद यही तो प्यार है की एक अजनबी कैसे अपना हो जाता है,
उसकी छोटी छोटी बातों पे भी प्यार नजर आता है,
करेला था जो कडुवा कभी वही शहद सा मीठा हो जाता है,
होता है जो अजनबी बरसों से दूजे पल वही दिल में समाता है,
उसी अजनबी से प्यार हो जाता है।

 

गौरव

Hindi Poem For Girlfriend-पता नहीं


aa.png

 

पता नहीं किसकी दुनिया में खो गया हूँ
प्यार की किस्ती में बैठ, साहिल की खोज में सो  गया हूँ
ऐसी क्या कमी है मुझमे जिसे देख कोई प्यार करने से डरता है
उन्हें कोई ये समझाओ , “नादानी है ये उसकी जो ये हद से ज्यादा प्यार करता है ।  “
थक गया हूँ  प्यार की तलाश में
ज़िंदगी से रुठ  गया हूँ,  महोब्बत की खराश में
कही ऐसे न हो प्यार से मेरा भरोसा उठ जाये
चलते चलते , मेरे हाथों नसीब का  गला  न घूट  जाये
ऐ  प्यार तुझे रब दा वास्ता कभी मेरी भी फ़िक्र कर लिया कर
जिससे मोहब्बत करू ,उसके दिल से जा कर  मेरी थोड़ी ज़िकर भी कर लिया कर
हर पल धीरे धीरे मरने से अच्छा  मुझे  एक पल में साफ कर  देना
उसके बाद हो सके तो , इस बदनसीब दिल को दिल से माफ़ कर देना

 

– निखल कुमार पटवारी

Hindi Poem For Angry Girlfriend- छल मत कर


hindi poem for angry girlfriend.jpg

छल मत कर छल मत कर
छल मत कर सब जान कर तू
बनी,बनाई बात तू बिगाड़ मत तू
रोता है मन मेरा ये जान कर कि
अच्छी-खासी रिश्ते को बिगाड़ा है अभी
था मैं अकेला जब तू थी नही
तूने ही धड़काया दिल जब तू थी मिली
है कोई बात तो कह दे ना साफ
दूर कर गिले शिकवे और कर दे ना माफ़
तेरे आँखों से मुझे लगता है यही
करती है तू प्यार मुझे उतना ही अभी
इतना गुस्सा ठीक नही मान भी जाओ प्यारी
तेरे गुस्से से मैं मर जाऊ वारी वारी
जो भी बात थी तुझे कहना था मुझसे
नही डालती तू रंग में भंग और न होता मैं दंग तुझसे
करता हूँ मैं प्यार तुझे सागर से भी गहरा
उठता है दिल में मेरे बवंडर,लहरो का घेरा
सारी गलती खुद ही माना, अब क्या करु बोल
तेरी गलती माफ़ किया, अब तो कुछ तो बोल
मान भी जाओ रानी अब मत कर ज्यादा देर
नही तो भूल जाऊंगा जल्द ही देर सवेर
मत रख तू मौन व्रत और बन पहले जैसी
रख मुख पर मुस्कान और बन फिर से वैसी
अब ज्यादा न कर देर तू फिर से
नही तो रूठ जाऊंगा मैं तुझसे
है तू भोली,नादान और मासूम अभी भी
चेहरे पर दिखता है तेरा प्यार अभी भी
नही आता है तुझे कहना तो कोई बात नही
मत कर प्यार मुझसे पर कर बात ही सही
डर लगता है मुझे तेरे समक्ष कहना
कि रूठ न तू मुझसे नही तो हो जायेगा दूवर जीना
बस कर यार अब कर भी ले बात
समकक्षी हूँ तेरा नही तो तड़पूंगा प्रत्येक वार
चल जीत गयी तू,मान ली मैंने हार
बस कर अब बस कर अब कर भी ले मुझसे बात

विशेष मित्र के लिए समर्पित
ये कविता उन युवक युवतियों के लिए है जो किसी रिश्ते में बन्धने के बाद किसी कारण और गलत फ़हमी से अलग हो जाते है ! ये कविता उनके रिश्ते को सुधारने और उन्हें जोड़ने के लिए प्रोत्साहित करने का काम अवश्य करेगी। कृपया कविता का मर्म समझने की कोशिश करे और खुद गलती मान कर अपने रिश्ते की डोर में गांठ न आने दे

-सारांश सागर

Hindi Love Song for Girlfriend: ओ मेरी जाना


O jaane jana

ओ  मेरी जाना
मैं तेरा दिवाना
ओ जाने जाना
दूर ना जाना
वादा निभाना ||
तेरी आँखे
प्यारी बातें
हंसी मुलाकातें
यही मेरी यादें  ||
ओ जाने जाना
लौट के आना
मैं तेरा दिवाना  ||
तुझसे बिछडके
मैंने ये जाना
प्यार है तुझसे
ओ जाने जाना  ||

 

– अनुष्का सूरी

Hindi Love Shayari-तुम से बढ़कर खुदा नहीं देखा


girl_with_long_hair_2-wallpaper-1366x768
तुम से बढ़कर
खुदा नहीं देखा
यूँ तो देखा खुदा को
पर तुमसे जुदा
नहीं देखा
ख्वाब तुम ही हो
हकीकत भी
तुम ही हो
क्या कहें हमने
होश में आ कर नहीं देखा
दिल में बसते हो
जान मेरी भी
तुम ही हो
तेरी खुशबू को
छू कर नहीं देखा
तुम से बढ़कर
खुदा नहीं देखा
यूँ तो देखा खुदा को
पर तुमसे जुदा
नहीं देखा
-अनुष्का  सूरी