Miss her love poem -Aisa Laga

ऐसा लगा
क्यों ऐसा लगा मैंने उसे देखा
क्यों ऐसा लगा मैंने उसे सोचा
रातें ये दिन
सिर्फ उसकी यादों में
खोए रहते हैं
पर इक खामोशी की चादर में
छुपकर सोए रहते हैं
न दिखाते हैं चेहरा अपना
आंसू भी इनकीआँखों में ख्वाब पिरोए रहते हैं
आज उसकी यादें कुछ कहना चाहती हैं
मरे इन सपनों को अपना बनाना चाहती हैं
हो सकता है देख रहा होऊंगा सपना
पर एक वही है जो लगती है अपना
प्यार तो बहुत है उससे
पर ज़िकर करना नहीं आता
याद तो बहुत आती है वो
पर दिखाना नहीं चाहता
आज उसकी आंखें दिल में बसना चाहती हैं
उसकी ये बातें मुझसे कुछ कहना चाहती हैं
हाँ, उनकी बातें बुरी लगती हैं मुझे
पर प्यार वो ताकत है
जिससे जुदा होके जिया नहीं जाता शायद
जिया नहीं जाता
-चाँद सिंह

Aisa Laga
Kyu aisa laga maine use dekha
Kyu aisa laga maine use socha.
Raatein,ye din..
Sirf uski yaadon mein
Khoye rehte hain….
Par is khamoshi ki chadar mei
Chupkar soye rehte hai….
Na dikhate hain chehra apna
Ansu bhi inki aakhon mei khwab
piroye rehte hai….
Aaj uski yaadein kuch kehna chahti hai
Mere in sapno ko..apna banana chahti hai
Ho sakta hai dekh raha hounga sapna
Par ek wahi hai jo lagti hai apna.
Pyaar to bahut hai us se
Par zikr karna nahi aata
Yaad to bahut aati hai wo
Par dikhana nahi chahta……
Aaj uski aakhein dil mei basna chahti hai
Uski ye baatein mujhse kuch kehna chahti hai
Haaaa,,unki baatein buri lagi thi mujhe
Par pyaar wo takat hai jis se juda hoke jiya nahi jata
Shayad, jiya nahi jata
-Chand Singh

Broken Heart Love Poem-Galti

गलती

बेशक गलती सिर्फ तेरी नहीं,
कुछ मेरी भी होगी

खामोश रातों में आंखें तेरी भी भीगी होगी
यकीन है हमें
तू भी तड़पा होगा भीगी पलकों के साथ
बीते लम्हों की तुझे भी याद आयी होगी
बेशक गलती सिर्फ तेरी नहीं,
कुछ मेरी भी होगी

वो रातों की कुछ शरारतें
जिस में अक्सर नींदें खो जाया करती थी
बेशक तुझे भी याद होगा
कि किस कदर तेरी मुहब्बत में अक्सर आंखें भीग जाया करती थी
बुरा नहीं है तू
बेशक गलती सिर्फ तेरी नहीं
कुछ मेरी भी होगी

रात के आहोश में उस पल तू भी अकेले भीगा होगा
जिस पल तुझे मेरी ज़रूरत सबसे ज़्यादा होगी
बेशक गलती सिर्फ तेरी नहीं
कुछ मेरी भी होगी

महजबीन

कविता का भावार्थ:

यह कविता एक प्रेमिका अपने प्रेमी के विषय में लिख रही है। कविता का शीर्षक “गलती” यह बतला रहा है कि प्रेमिका को अपने प्रेमी के साथ सम्बद्ध टूट जाने पर बहुत अफ़सोस है। इसी कारण वह इस घटना को एक गलती बता रही है। प्रेमिका अपने प्रेमी को यह भी सन्देश दे रही है कि यह गलती केवल उसकी अकेले की नहीं, बल्कि दोनों की बराबर थी। कविता में प्रेम के मिलन की झांकी है एवं विरह की वेदना भी स्पष्ट दिखाई पड़ती है।

Poetry Text with English Translation

Here is the poetry text in English and its meaning:

Galti (Mistake)

Beshaq galti sirf teri nahi, (Without a doubt, the mistake was not entirely yours)
Kuch meri bhi hogi (But also mine to some extent)

Khamosh raato mein ankhein teri bhi bheegi hogi (In silent nights, your eyes must have been wet too)
Yakeen hai hamein (I believe this)
Tu bhi tadpa hoga bheegi palko ke sath (You would have missed me too with wet eyes)
Beete lamho ki tujhe bhi yaad ayi hogi (You would be missing the time we spend together too)
Beshaq galti sirf teri nahi, (Without a doubt, the mistake was not entirely yours)
Kuch meri bhi hogi (But also mine to some extent)

Wo raato ki kuch shararatein (Those naughty acts at night)
Jis mein aksar neendein kho jaya karti thi (Engaged in them, we used to forget our sleep)
Beshaq tujhe bhi yaad hoga (Without doubt, you would have remembered the incidents)
Ki kis kadar teri muhabbat mein aksar ankhein bheeg jaya karti thi (When my eyes used to be wet in your love)
Bura nahi hai tu (You are not bad)
Beshaq galti sirf teri nahi, (Without a doubt, the mistake was not entirely yours)
Kuch meri bhi hogi (But also mine to some extent)

Raat ke ahosh mein us pal tu bhi akele bheega hoga (In the loneliness of night, you would have also cried alone)
Jis pal tujhe meri zarurat sabse zyada hogi (The moment you felt my need the most)
Beshaq galti sirf teri nahi, (Without a doubt, the mistake was not entirely yours)
Kuch meri bhi hogi (But also mine to some extent)

Mehjabeen (Author)

Missing Him Love Poem-Ek Waqt Tha

एक वक़्त था (कविता का शीर्षक)

एक वक़्त था .. जब हम अजनबी हुआ करते थे

एक वक़्त था . जब वो अजनबी हो कर भी अपना सा लगा करता था

एक वक़्त था . जब आंखें सिर्फ उसी को ढूंढा करती थी .

एक वक़्त था .. जब उसे न देखो तो बेचैनी सी हुआ करती थी

एक वक़्त था .. जब सिर्फ आँखों से बात हुआ करती थी

एक वक़्त था .. जब उसकी एक झलक देख कर, बड़ी सी स्माइल हुआ करती थी

एक वक़्त था . जब दिल उससे बात करने के लिए बेचैन रहता था

एक वक़्त था .. जब उसे फेसबुक पर सर्च करा जाता था और उसके न मिलने पे बड़ा अफ़सोस करा जाता था

एक वक़्त था .. जब दिल सिर्फ उसी को याद किया करता था

एक वक़्त था .. जब खवाब भी उसी के आते थे .

एक वक़्त था .. जब हर दुआ में उसका नाम शामिल होता था

एक वक़्त था .. जब उसे खुदा से माँगा जाता था

एक वक़्त था .. जब वो फेसबुक पे मिल गया था मानो दुनिया की साड़ी खुशियां ही मिल गयी हों

एक वक़्त था .. मानो ऐसा लग रहा था रब ने मेरी सुन ली हो

एक वक़्त था … जब हम फ्रेंड्स बन गए थे

एक वक़्त था .. जब सुबह, उसकी फोटो देख के होती थी

एक वक़्त था  .. जब उसकी एक ही फोटो को सौ सौ बार देखा जाता था

एक वक़्त था …  जब दो मिनट बात करके भी दिन भर खुश रहा जाता था

एक वक़्त था … जब उसके ऑनलाइन आने का घंटों वेट किया जाता था

एक वक़्त था .. जब हम बोलते रहते थे और वो सुनता रहता था

एक वक़्त था … जब एक दिन भी उसकी फोटो देखे बिना रहा नहीं जाता था

एक वक़्त था … जब सिर्फ दिल की सुनी जाती थी

एक वक़्त था .. जब दिल और दिमाग पर सिर्फ उसी का राज होता था

एक वक़्त था .. जब उसकी फोटो न देखो तो दिन सूना सूना सा लगता था

एक वक़्त था .. जब हम उसे अपनी बातों से बोर किया करते थे और उसका रिप्लाई हाँ हूँ हम्म में ख़तम हो जाया करता था

एक वक़्त था .. जब हम दोनों ने प्यार का इज़हार कर दिया था

एक वक़्त था .. जब फ़ोन पे घंटों बात हुआ करती थी

एक वक़्त था .. जब उसका और मेरा रास्ता अलग हो गया था

और एक आज का वक़्त है.. जब उसके होने या न होने से कोई फरक नहीं पड़ता

और एक आज का वक़्त है.. जब दिल में उसके लिए एक भी जगह नहीं है

और एक आज का वक़्त है.. जब हम फिर से अजनबी हो चुके हैं..

– नैनिका साहू (कवि)

Ek Waqt Tha (Title of the Poem)

Ek waqt tha.. Jab hum ajnabi hua karte the (There was a time when we both were strangers to each other)
Ek waqt tha. Jab vo ajnabi ho kar bhi apna sa laga karta tha (There was a time when he seemed so close despite being a stranger)
Ek waqt tha. Jab ankhein sirf usi ko dhundha karti thi. (There was a time when my eyes used to look only for him)
Ek waqt tha.. Jab use na dekho toh bechaini si hua krti thi (There was a time when I used to get anxious on not seeing him)
Ek waqt tha.. Jab sirf ankho se baat hua karti thi (There was a time when we used to talk only through our eyes)
Ek waqt tha.. Jab uski ek jhalk dekh kar, badi se smile hua karti thi (There was a time when I used to have a big smile on my face after having a glance at him)
Ek waqt tha. Jab dil us se baat kerne ke liye bechain rehta tha (There was a time when I used to be anxious to talk to him)
Ek waqt tha.. Jab use fb pe search kara jata tha aur uske na milne pe bada afsos kara jata tha (There was a time when I used to search him on Facebook and not finding him there used to be a big turn off)
Ek waqt tha.. Jab dil sirf usi ko yaad kiya karta tha (There was a time when my heart used to remember him only)
Ek waqt tha.. Jab khwaab bhi usi ke aate the. (There was a time when I used to dream only about him)
Ek waqt tha.. Jab har dua mein uska naam shamil hota tha (There was a time when his name was included in every prayer)
Ek waqt tha.. Jab use Khuda se maanga jata tha (There was a time when I used to ask for him from God)
Ek waqt tha.. Jab vo fb pe mil gya tha mano duniya ki sari khushiyaan hi mil gayi ho (There was a time when I found him on Facebook and felt as if I got all the happiness of this world)
Ek waqt tha.. Mano aisa lag raha tha Rab ne meri sun li ho (There was a time when I felt as if God had answered my prayers)
Ek waqt tha… Jab hum friends ban gaye the (There was a time when we had become friends)
Ek waqt tha.. Jab subah, uski photo dekh ke hoti thi (There was a time when I used to start my morning after looking at his picture)
Ek waqt tha .. Jab uski ek hi photo ko sau sau baar dekha jata tha (There was a time when I used to look at one of his pictures at least hundred times)
Ek waqt tha… Jab do minute baat kar ke bhi din bhar khush raha jata tha (There was a time when I used to feel happy the entire day after talking to him for two minutes)
Ek waqt tha… Jab uske online aane ka ghanto wait kiya jata tha (There was a time when I used to wait for hours for him to come online)
Ek waqt tha.. Jab hum bolte rehte the aur vo sunta rehta tha (There was a time when I used to speak and he used to listen)
Ek waqt tha… Jab ek din bhi uski photo dekhe bina raha nahi jata tha (There was a time when I could not spend even one day without looking at his picture)
Ek waqt tha… Jab sirf dil ki suni jati thi (There was a time when I used to only listen to my heart)
Ek waqt tha.. Jab dil aur dimag mein sirf usi ka raaj hota tha (There was a time when he used to rule my heart and brain)
Ek waqt tha.. Jab uski photo na dekho to din suna suna sa laga karta tha (There was a time when I used to feel lonely if I did not look at his picture)
Ek waqt tha.. Jab hum use apni baaton se bore kiya karte the aur uska reply ha hu hmm mein khatam ho jaya karta tha (There was a rime when I used to bore him with my talks and he used to reply to my chats in yes, yea…)
Ek waqt tha.. Jab hum dono ne pyar ka izhaar kar diya tha (There was a time when we both had confessed our love for each other)
Ek waqt tha.. Jab phone pe ghanto baat hua karti thi (There was a time when we used to talk on phone for hours)
Ek waqt tha.. Jab uska aur mera raasta alag ho gaya tha (There was a time when we both went separate ways)
Aur ek aj ka waqt h.. Jab uske hone ya na hone se koi fark hi padta (And today there is a time when I do not care if he exists or not)
Aur ek aj ka waqt hai. Jab dil mein uske liye ek bhi jagh nahi hai (And today there is a time when there is no place for him in my heart)
Aur ek aj ka waqt hai.. Jab hum phir se ajnabi ho chuke hain (And today there is a time when we both have again become strangers to each other)

-Nainika Sahu (Poet)

Missing My Love Poem in Hindi-Ap Ki Yaadein

आप की यादें (कविता का शीर्षक)
चाँदनी रात है
एक प्यारी सी बात है
हाथों में चाय का प्याला है
आपके आगमन से जीवन में उजाला है
यही बैठे हुए
चाय की चुस्कियाँ लगाते हैं
जबभी आपका खयाल आता है
मन ही मन मुस्कुराते हैं ।

यूँ तारों का टिम-टिमाना
आपकी आखें याद दिलाता है
चाँद पर नज़र जाए तो
आपका चेहरा नज़र आता है
कुछ तो बात है
इस चाँद की चाँदनी में
आपकी झलक दिखाता है
मेरा दिल भी बहलाता है ।

काश ऐसा होता
ये दूरियाँ ही न होती
इस चाँदनी रात में
मेरे साथ आप होती
हाथों में आपका हाथ होता
जीवन में आपका साथ होता
एक साथ चलते इस जीवन की राह पर
जीना भी साथ होता और
मरना भी साथ होता ।

अभिनव उपाध्याय (कवि)

Aap Ki Yaadein (Title of the Poem)
Chandni raat hai (It is a full moon night)
Ek pyaru si baat hai (I have something lovely to say)
Hatho mein chai ka pyala hai (I have a cup of tea in my hands)
Apke agman se jeevan mein ujala hai (Your arrival has lightened up my life)
Yahi baithe hue (While sitting here)
Chai ki chuskiyan lagate hain (We sip tea)
Jab bhi apka khayal ata hai (Whenever I think about you)
Man hi man muskurate hain (I smile in my heart)

Yu taaro ka timtimana (The twinkling of the stars)
Apki ankhein yad dilata hai (Makes me remember your eyes)
Chand par nazar jaye to (Whenever I look at the moon)
Apka chehra nazar ata hai (I see your face)
Kuch to baat hai (There is something great)
Is chand ki chandni mein (About the moon’s light)
Apki jhalak dikhata hai (It shows your glimpse)
Mera dil bhi behlata hai (It also entertains my heart)

Kash aisa hota (I wish) काश ऐसा होता
Ye duriyan hi na hoti (Our separation did not exist)
Is chandni raat mein (In this full moon night)
Mere sath aap hoti (You would have been by my side)
Hatho mein apka hath hota (Your hand would have been in mine)
Jeevan mein apka sath hota (I had your company in my life)
Ek sath chalte is jeevan ki rah par (We would have walked together on this path of life)
Jeena bhi sath hota aur (We would have lived together and)
Marna bhi sath hota (died together)

-Abhinav Upadhyaya (Poet)

Sad Hindi Love Poem-Ek Sahara Mila Tha

एक सहारा मिला था (कविता का शीर्षक)

एक सहारा मिला था,
जीवन में आगे बढ़ने के लिए
आज वो भी छूटा सा नज़र आ रहा है
जो बनाया था कभी सपनों का महल,
आज वो भी टूटा से नज़र आ रहा है
जीवन की नदी पार करने का
कोई किनारा नहीं दिखाई पड़ता,
बस चारों ओर समंदर नज़र आ रहा है
उलझ गया है पंक्षियों का आशियाना,
हर तरफ बस बंजर ही नज़र आ रहा है
जिंदगी तो तेरे साथ थी मेरे यार,
अब तो मौत ही हमसफ़र नज़र आ रहा है
-निहारिका चौधरी (कवयित्री)

English Translation for International Readers:

Ek Sahara Mila Tha (I had found a refuge)

Ek sahara mila tha (I had found a refuge),

Jeevan mein age badhne ke liye (To progress in life)

Aaj wo bhi chuta sa nazar araha hai (Today that too is appearing to go away)

Jo banaya tha kabhi sapno ka mahal (The palace of my dreams that I had made)

Aj wo bhi tuta sa nazar araha hai (Today it appears to be broken)

Jeevan ki nadi paar karne ka (To cross the river of life)

Koi kinara nahi dikhai padta (I do not see any bank)

Bas charo or samandar nazar araha hai (I only see water on all the four sides)

Ulajh gaya hai pakshiyo ka ashiyana (The nest of birds has become complicated)

Har taraf bas banjar hi nazar araha hai (I only see drought everywhere)

Zindagi to tere sath thi mere yar (I had a great life with you my friend)

Ab to maut hi hamsafar nazar araha hai (Now, I only see death as my companion).

-Niharika Chaudhary (Poet)

Waiting for Love Hindi Poem: Arzoo

love-1643452_960_720

आरज़ू
शून्य घोर चित्त चंचल में एक दबी है आरज़ू,
तुम्हारी रोज़ की तकरार की आरज़ू,
हमारी भीनी अनदेखी, मुस्कुराहट की आरज़ू,
मेरी भीतर गुज़रती हर कसक की आरज़ू,
तुम रुस्वाई की बात करते हो,
तो समन्दर सी अश्कों से ढलने वाली आरज़ू,
लगता है उधार दी है मैंने तुम्हैं सांसे अपनी,
इन अधूरी सांसो में कटती जिदंगी की आरज़ू,
इतंजार, उम्मीदें और अहसास सब बिखरा सा है,
टूटती निगाहों में लुटती पनाह की आरज़ू,
आखिरी बार जब तुम कहते हो!! ना रहा कुछ,
तो निर्धन सी, यादों की धनी होने की आरज़ू,
अनजान से पहचान का लम्बा सफर गुज़रा,
अब पहचान से अपनेपन की आरज़ू,
तुम जीवन की मांग करते हो,
मेरी तुम संग जीकर मरने की आरज़ू,
ज़माना क्या कहता है!!!!
ना खबर मुझे!! खबरहीन बेसुध,
मेरे इकरार और तुम्हारे इनकार की आरज़ू!!!!!!
डाॅ. अवन्तिका

Hindi Love Poem For Her- चलते रहने दो

दीदार-ऐ-नजर ना सही सपनों में आते रहिये
मुलाकातों का सिलसिला यूँ ही चलते रहने दो
लब खामोश अगर तो क्या आँखों से बताते रहिये
इस दिल को अपनी बेकरारी यूँ ही कहते रहने दो
हवा आहिस्ता बहे तो क्या इन जुल्फों को उड़ाते रहिये
इन केशों को हंसी चेहरे पे यूँ ही बिखरते रहने दो
लाख गम हो सीने में मगर फिर भी मुस्कुराते रहिये
इन हंसी के फुहारों को यूँ ही निकलते रहने दो जल्द होगी
मुलाक़ात उनसे खुद को समझाते रहिये
तुम ‘मौन’ सही पर अरमानों को यूँ ही मचलते रहने दो

-अमित मिश्रा

Deedar a nazar na sahi sapno me aate rahiye
Mulakaton ka silsila yoon hi chalte rahne do
Lab khamosh agar to kya aankhon se btate rahiye
Es dil ko apni bekarari yoon hi kahte rahne do
Hawa aahista bahe to kya en Zulfon ko uadate rahiye
En julfon ko hassi chehre pe yoon hi bikhrte rahne do
Lakh gam ho sine me magar fir bhi muskurate rahiye
En hasi k fuharon ko yoon hi nikle rhe do
Jaldi hogi mulakaat unse khud ko samjhate rahiye
Tum maun sahi par armanon ko yoon hi machalte rhne do

-Amit Mishra

Miss You Love Poem-याद जब भी उसकी आती है

याद जब भी उसकी आती है रातों की नींद उड़ ही जाती हैं
मेरे दिल का हाल ना पूछो प्यारे आशिकी ऐसे ही होती है
तेरे खोने का गम है मुझको तेरी यादें बहुत सताती हैं
याद जब भी उसकी आती है तूने धोखा दिया
वह बेवफा तेरी यादें मुझे रुलाती हैं तेरे इश्क में पागल था
मैं तेरी यादें मुझे तड़पाती हैं याद जब भी उसकी याद आती है
तू तो कहती थी की उम्र भर में साथ हूं फिर यह कैसी जुदाई है
धोखा दिया तूने हमको क्या यही आशिकी कहलाती है
याद जब भी उसकी याद आती है रातों की नींद उड़ ही जाती ।

– चंद्रभान सिंह

Yaad jab bhi uski aati hai to raaton ki neend ud jati hai
Mere dil ka haal na phucho pyare aashiqi ese hi hoti hai
Tere khone ka gam hai mujhko teri yaad bhut satati hai
Yaad jab bhi uski aati hai tune dokha diya
Ve bewafa teri yaadein muje rulati hai tere ishq me pagal tha
Main teri yaadein muje tadpati hai yaad jab bhi uski yaad aati hai
Tu to kahti thi ki umar bhar main sath hoon fir ye kaisi judai hai
Dokha diya tune hamko kya yahi ashiqi kehlati hai
Yaad jab bh uski yaad aati hai raaton ki neend ud jati hai

Chanderbhan Singh

Miss You Love Poem- तेरी याद आये

नग़मे इश्क़ के कोई गाये तो तेरी याद आये
जिक्र मोहब्बत का जो आये तो तेरी याद आये

यूँ तो हर पेड़ पे डालें हज़ारों है निकली
टूट के कोई पत्ता जो गिर जाये तो तेरी याद आये

कितने फूलों से गुलशन है ये बगिया मेरी
भंवरा इनपे जो कोई मंडराये तो तेरी याद आये

चन्दन सी महक रहे इस बहती पुरवाई में
झोंका हवा का मुझसे टकराये तो तेरी याद आये

शीतल सी धारा बहे अपनी ही मस्ती में यहाँ
मोड़ पे बल खाये जो ये नदिया तो तेरी याद आये

शांत जो ये है सागर कितनी गहराई लिये
शोर करती लहरें जो गोते लगाये तो तेरी याद आये

सुबह का सूरज जो निकला है रौशनी लिये
ये किरणें हर ओर बिखर जाये तो तेरी याद आये

‘मौन’ बैठा है ये चाँद दामन में सितारे लिये
टूटता कोई तारा जो दिख जाये तो तेरी याद आये

-अमित मिश्रा

Nagme ishq mein koi gaye to teri yaad aaye
Zikr mohabbat ka aaye to teri yaad aaye

Yoon to har ped par dalein hazaro hai nikali
Toot ke koi patta jo gir jaye to teri yaad aaye

Kitne phulon se gulshan hai ye bagiya meri
Bhanvra inpe jo koi mandraye to teri yaad aaye

Chandan si mehek rahi is bahti purvai mein
Jhonka hawa ka mujhse takraye to teri yaad aaye

Sheetal si dhara bahey apni hi masti mein yahan
Mod pe balkhaye jo ye nadiya to teri yaad aaye

Shant jo hai ye sagar kitni gehrai liye
Shor karti lehre jo gotey lagaye to teri yaad aaye

Subah ka suraj jo nikla hai roshni liye
Ye kirne har or bikhar jaye to teri yaad aaye

Maun baitha hai ye chaand daman mein sitare liye
Toot-ta koi tara jo dikh jaye to teri yaad aaye

-Amit Mishra