Waiting for Love Hindi Poem: Arzoo

love-1643452_960_720

आरज़ू
शून्य घोर चित्त चंचल में एक दबी है आरज़ू,
तुम्हारी रोज़ की तकरार की आरज़ू,
हमारी भीनी अनदेखी, मुस्कुराहट की आरज़ू,
मेरी भीतर गुज़रती हर कसक की आरज़ू,
तुम रुस्वाई की बात करते हो,
तो समन्दर सी अश्कों से ढलने वाली आरज़ू,
लगता है उधार दी है मैंने तुम्हैं सांसे अपनी,
इन अधूरी सांसो में कटती जिदंगी की आरज़ू,
इतंजार, उम्मीदें और अहसास सब बिखरा सा है,
टूटती निगाहों में लुटती पनाह की आरज़ू,
आखिरी बार जब तुम कहते हो!! ना रहा कुछ,
तो निर्धन सी, यादों की धनी होने की आरज़ू,
अनजान से पहचान का लम्बा सफर गुज़रा,
अब पहचान से अपनेपन की आरज़ू,
तुम जीवन की मांग करते हो,
मेरी तुम संग जीकर मरने की आरज़ू,
ज़माना क्या कहता है!!!!
ना खबर मुझे!! खबरहीन बेसुध,
मेरे इकरार और तुम्हारे इनकार की आरज़ू!!!!!!
डाॅ. अवन्तिका

22 thoughts on “Waiting for Love Hindi Poem: Arzoo

  1. बेहद ही खूबसूरत पंक्तियाँ और हमारी आरजू़ है कि ऐसी पंक्तियाँ और भी पढ़ने को मिलें

  2. Love in physics theory with ur tricky poems……i think everywhere it runs in ur blood ….rare found person dr.avantika

  3. What a powerful influence….👌
    U r the greatest source of inspiration…
    There r no enough words 🌸

  4. Amar rhe tumhari gatha doc sahab …….nyc,we shared literature classes …best part of my life ……

Leave a Reply