Hindi Poem on Betrayal in Love-Sirf Bewafai Dekhi

ज़िन्दगी में सिर्फ बेवफाई देखी, हमने महफ़िल में सिर्फ तनहाई देखी
वफ़ाओं का मेरी जो सिला दे, मै वो इश्क़ तलाश करता हूं,

ये ज़ख्म जो मिले गहरे हैं बहुत, मेरी खुशियों पे गमों के पहरे हैं बहुत
दर्द को मेरे जो मिटा दे, मैं वो शिफा तलाश करता हूं,

रिश्तों की कश्मकश में उलझा ऐसे, खुद को ही खुद से खो दिया जैसे
वजूद को मेरे जो मुझसे मिला दे, मैं वो आईना तलाश करता हूं,

इबादत को कभी ना छोड़ा हमने, अपने अक़ीदे को ना कभी तोड़ा हमने
जन्नत जो मुझे दिला दे, मैं वो खुदा तलाश करता हूं,

हर अल्फ़ाज़ को जताने की कोशिश है, हर जज़्बात को बताने की कोशिश है
इस बज़्म को जो एहसास करा दे, मैं वो नज़्म तालाश करता हूं

(अरमान )

Missing Her Love Poem-Tumhari Yaad Dil Se Jaati Nahi

तुम्हारी याद दिल से जाती नहीं (कविता का शीर्षक)

तुम से मिलने की आशा बहुत है मगर,
तुम से मिलने कि रुत है कि आती नहीं|
करूँ कितनी भी कोशिश दिल बहलाने की मगर,
एक तेरी याद दिल से है कि जाती नहीं ||

प्रेम कि राह में मुझको ले चली|
वो हाथ पकड़ के अपनी गली||
मैं तो चलता रहा उसी राह पर मगर,
अब मेरे पीछे वो है कि आती नहीं |
करूँ कितनी भी कोशिश दिल बहलाने की मगर,
एक तेरी याद दिल से है कि जाती नहीं ||

साथ चलने की चाहत तुम्हारी ही थी|
साथ जीने-मरने की कसमें भी तुम्हारी ही थी||
राह तकता हूँ मैं अब तक उसकी मगर,
वो है कि इस राह आती नहीं |
करूँ कितनी भी कोशिश दिल बहलाने की मगर,
एक तेरी याद दिल से है कि जाती नहीं ||

क्या हुई थी गलती हमें समझाओ तो|
दूर जाने की वजह हमें बतलाओ तो ||
हम पूछते रहे उन से मगर, वो है कि कुछ भी बताती नहीं |
करूँ कितनी भी कोशिश दिल बहलाने की मगर,
एक तेरी याद दिल से है कि जाती नहीं ||
-कुलेश्वर जायसवाल (कवि )

Tumhari Yaad Dil Se Jaati Nahi (Title of the Poem)

Tum se milne ki aasha bahut hai magar,
Tum se milne ki rut hai ki aati nahi |
Karu kitni bhi koshish dil bahalane ki magar,
Ek teri yad dil se hai ki jati nahi ||

Prem ki rah me mujhko le chali|
Wo hath pakad ke apni gali||
Mai to chalta raha usi rah par magar,
Ab mere pichhe wo hai ki aati nahi |
Karu kitni bhi koshish dil bahalane ki magar,
Ek teri yad dil se hai ki jati nahi||

Sath chalne ki chahat tumhari hi thi|
Sath jeene-marne ki kasmein tumhari hi thi||
Rah takta hu main ab tak magar,
Wo hai ki ab is rah aati nahi|
Karu kitni bhi koshish dil bahalane ki magar,
Ek teri yad dil se jati nahi||

Kya hui thi galati hamein samajhao to|
Dur jane ki vajah batlao to||
Ham puchhate rahe un se magar,
Wo hai ki kuchh bhi batati nahi|
Karu kitni bhi koshish dil bahalane ki magar,
Ek teri yad dil se jati nahi||
-Kuleshwar Jaiswal (Poet)

Meaning in English/English Translation of the Poem:

Your memories do not fade from my heart
I have high hopes of meeting you but,
The season of meeting you just does not arrive.
However hard I may try to convince my heart but,
your memories do not go away from my heart.

You took me on the path of love
while holding her hand in her street
I kept walking on the same path but,
now she does not follow me.
However hard I may try to convince my heart but,
your memories do not go away from my heart.

It was only your wish to walk together
You only had pledged to live and die together.
I keep waiting for you on this path till now but,
she does not come on this path now.
However hard I may try to convince my heart but,
your memories do not go away from my heart.

What did I do wrong at least let me know?
Tell me the reason for going away.
I kept asking her but,
she never told me anything.
However hard I may try to convince my heart but,
your memories do not go away from my heart.

Sad Hindi Love Poem-Kuch To Asar Hai

कुछ तो असर है (कविता का शीर्षक)
कुछ तो असर है ज़िन्दगी में तेरी दुआओं का,
कि ग़म बहुत है, आँखें भी नम है,
फिर भी जिए जा रहे हैं, धीरे धीरे ही सही पर दो घूँट पीए जा रहे हैं,
एक नीला सा आसमान है, कहने को तो सारा जहान है,
पर तेरे बिना सब मंजर बंजर सब रेगिस्तान है,
ये अहसास मेरे दिल का तेरे दिल से यूं ना जाएगा,
मेरी यादों का ज़र्रा ज़र्रा किस्सा मेरा तुझे सुनाएगा,
मेरी आँखों से गिरता हर एक आँसूं मेरी कहानी तुझे बताएगा,
कहने को तो ज़िन्दगी नदी की बहती एक धारा है,
किस्मत वाले हैं वो जिन्हें मिल जाए जो मिलना किनारा है,
मुक्कमल हो जाए तेरा साथ मेरे साथ में, शायद मेरे हाथ में वो लकीर ही नहीं,
धन दौलत है बहुत पर तेरा साथ ही नहीं, चलो फिर तेरे लिए एक फकीर ही सही,
ये रौशनी, ये हवा, ये ज़िंदगानी सब तेरी ही तो है,
ये कहानी वो जवानी, मेरी रवानी तेरी ही तो है,
तू आकर मेरी यादों में मुझे न गमगीन कर
बहुत मुश्किल से सीखा है जीना, इस तरह से मेरी ज़िन्दगी को न नमकीन कर,
तू कहे तो तेरे नाम को अमर मैं कर दूँ,
मेरा कुछ मोल ना सही तेरी नज़रों में,
पर तू कहे तो कोहिनूर तुझे कर दूँ,
लोग भरते है सागर में गागर, पर तू कहे तो संग जी के तेरे साथ
गागर में सागर मैं भर दूँ।।।।
कोमल सिंह (कवि का नाम)

Kuch To Asar Hai (Title of the Poem)
Kuch to asar hai zindagi mein teri duaon ka, (Your kind wishes have made some impact on my life)
Ki gam bahut hai, ankhein bhi nam hai, (There are so many griefs and my eyes are also wet)
Phir bhi jiye ja rahe hain, dheere-dheere hi sahi par do ghut piye ja rahe hain, (Still I am carrying on with my life and drinking this poison slowly sip by sip)
Ek neela sa asmaan hai, kehne ko to saara jahaan hai, (The sky appears blue and the entire world is there for you)
Par tere bina jab manzar banjar sab registan hai, (But without you every destination is like a barren land, a desert)
Ye ehsas mere dil ka tere dil se yu na jayega, (My feelings won’t disappear from your heart so easily)
Meri yaado ka zarra zarra kissa mere tujhe sunayega, (Each particle of my memories will recite a story to you)
Meri ankho se girta har ek ansu meri kahani tujhe batayega, (Each tear falling from my eye will tell you my story)
Kehne ko to zindagi nadi ki behti ek dhara hai, (Life is life a flowing river)
Kismat wale hain wo jinhein mil jaye jo milna kinara hai, (Fortunate are those who have met their life goals)
Mukammal ho jaye tera sath mere sath mein, shayad mere hath mein wo lakeer hi nahi, (May be your company is not in my destiny)
Dhan daulat hai bahut par tera sath hi nahi, chalo phir tere liye ek fakeer hi sahi, (I have a lot of material wealth, but I do not have your company; I am like a beggar for you)
Ye roshni, ye hawa, ye zindgani sab teri hi to hai, (This light, this wind, this life- all are yours)
Ye kahani wo jawani, meri ravani teri hi to hai, (This story, our youth, my enthusiasm are all yours)
Tu akar meri yaado mein mujhe na gamkeen kar, (Please do not make me sad by appearing in my memories)
Bahut mushkil se seekha hai jeena, is tarha se meri zindagi ko namkeen na kar, (I have learnt living without you with a great difficulty, please do not make my life tougher)
Tu kahe to tere naam ko amar main kar du, (If you say I can make your name immortal)
Mera kuch mol na sahi teri nazro mein, (I may not have any value in your eyes)
Par tu kahe to kohinoor tujhe kar du, (But if you say I can turn you into a Kohinoor (diamond))
Log bharte hain sagar mein gagar, par tu kahe to sang ji ke tere sath, (People fill their pots from ocean, but if you say, while living with you)
Gagar mein sagar main bhar du (I can गागर में सागर मैं भर दूँ।।।।
Komal Singh (Poet)

Do not break anyone’s heart Hindi love poem-Dil Kisi Ka Todna Mat

दिल किसी का तोड़ना मत

प्यार सच्चा झूठा करना मत,
कभी भी दिल किसी का तोड़ना मत
तोड़ना मत

दिल नाज़ुक होता है तो
उसे तोड़ना मत

दिल कोई खेल का मैदान नहीं
उसपे प्यार का खेल खेलना मत

चाहते हो तुम किसी को दिल से
तो उसकी आँखों में आँसू लाना मत

कभी भी दिल किसी का तोड़ना मत
तोड़ना मत

प्यार एक खूबसूरत दरिया है

उसमें झूठ का कचरा फैलाना मत

जिसे तुम प्यार करते हो
उसे धोखा देना मत

कभी भी किसी का दिल तोड़ना मत
तोड़ना मत

-नरेश दिला

Hindi Shayari for Her-शायरी करना सीख गया

kimi_ni_todoke__romance_manga-wallpaper-1366x768

दर्द दिए कुछ ज़माने ने हर लम्हा कुछ यूँ बीत गया
इसी तरह हुई शुरआत कुछ मैं शायरी करना सीख गया
बढ़ा कुछ आगे तब झूठे दोस्तों में समय बीत गया
कुछ ऐसे ही हुई शुरुआत यारों मैं शायरी करना सीख गया
फिर कुछ झूठे रिश्तो में मेरे भोलेपन को वो जीत गया
बढ़ा दर्द कुछ इस कदर कि मैं शायरी करना सीख गया
रूह मेरी गम में डूबी थी अब हर लम्हा हंसी का बीत गया
इस तरह मैं दर्द-ए-दिल शायरी करना सीख गया
कुछ नामुराद दिल भी ऐसी जगह लगा जो मेरे दिल को भी साथ ले गयी
बस इस टूटे हुए बेख़ौफ़ शायर को कुछ प्यार का दर्द दे गयी
आज जब सभी हमें शायर शायर कहते हैं
वो कहते हैं कि हम और हमारी शायरी उनके दिल में रहते हैं
अरे हम तो बस शायर हैं महखानों में रहते हैं
आलम कुछ ऐसा है की कलम से कागज़ पर दर्द बयान कर दें तो लोग शायर श्यार कहते हैं
हम तो आज भी एक रूह हैं बस
जो उनके दिल में रहते हैं…
उनके दिल में रहते हैं….

-अनूप भंडारी

Sad Hindi Love Shayari for Girlfriend – वीरानियाँ

inside_out_sadness___disney_pixar-wallpaper-1366x768रोने दे कुछ पल मुझको
ये आंसू अच्छे लगते हैँ
कभी कभी ये गम के बादल भी
कुछ अपने लगते हैं
हँसना मेरा सबने देखा
जो मेरी पहचान है
पर छुप छुप के हूँ कितना रोया
इस बात से सब अनजान हैं
रात की छाया ले आई जब तन्हाई
उदासी सी कुछ उमड़ आई
सहसा ढलका आँख का पानी
आंसू बन के बहता गया
कोई न यहाँ जग है तन्हा
हैं बस मैं और मेरी तन्हाईयाँ
साथ मेरा देते हैं आंसू
छाईं हैं वीरानियाँ

-गौरव

Hindi Shayari on Lost Love- काश एक पल

sad_3d-wallpaper-1366x768

काश एक पल दिया होता जो
तुमने मुझे
तो मैं कह पाता वो बातें
जिन्हें मैंने समझने में देर की थी

काश एक पल दिया होता जो
तुमने उन बातों को
जो मेरे अधरों तक न आ पायी
उन रुस्वा हुए बेरुखे से प्यार में

काश एक पल दिया होता जो
तुमने खुद को
तो समझ पाती मेरे दिल में क्या था
जो अनसुना रह गया था हमारे बीच में

काश एक पल दिया होता जो
तुमने उस वक़्त को
तो ये बदल पता उन हालात को
जो लिए बैठे थे उदासी हमारे रिश्ते में

काश एक पल दिया होता जो
तुमने मेरे उन अधूरे ख्वाबों को
जो सिर्फ हसरतें बन के रह गए दिल में

तन्हाई तो उधर भी होगी मैं जनता हूँ
बस उसी पल की तो कमी रह गयी थी
हमारे उन खूबसूरत जज़्बातों में

काश एक पल दिया होता जो
तुमने काश एक पल..
बस एक पल की बात थी..

-राहुल शर्मा

Missing You Hindi Love Poem-रातों के सन्नाटे में

रातों के सन्नाटे में heart_shaped_romance-wallpaper-800x600
दिन के उजाले में
कभी महफ़िल में
कभी वीराने में
तू नहीं मिलता
तो तेरा ख्याल ही सही
दिल ये आशिक़ मेरा
तेरा दीदार मांगता है
तू न मिल सका
आज तेरा नाम ही सही
तेरी याद में यूं तो रोज़ बहाते हैं पानी
आज तेरी याद में एक जाम ही सही
सोचा था कभी तुझसे मुलाकात न होगी
पर आज तुझे देखा तो देखता रह गया |

-अनुष्का सूरी

Fire of Love-इश्क़ की अगन

ये इश्क़ की अगन लगे तो मोरा तन मन ही जल जाये,love fire
जो तेरी लगन लगे तो मेरी सुधबुध ही खो जाये,
वो देश गया था पराए जो मुझको दिल से भुलाये,
फिर यादों ने जब जकडा वो दिल से मुझको बुलाये,
ये इश्क़ की अगन लगे तो मोरा तन मन ही जल जाये,
सांझ लगी कांटों सी, हवा भी दर्द को लाये,
जब बातें करती हैं रातें, सपनों में तू ही आये,
आँखों में आंसु रहते हैं जब नज़रों में तू छाये,
ये इश्क़ की अगन लगे तो मोरा तन मन ही जल जाये,
इस दिल का कतरा कतरा कहता तेरा पयार है मुझको पाना,
ना पाऊँ तुझे तो मर जाऊँ सांसो को अब ना रहना,
बिन तेरे क्या है जीना, जीना मुझको ना जीना,
ये इश्क़ की अगन लगे तो मोरा तन मन ही जल जाये,
जो तेरी लगन लगे तो मेरी सुधबुध ही खो जाये|
-गौरव