Hindi Love Poem Expressing Love-मेरी बात

आज फिर हमारी नज़रे मिली
वो मुझे देखकर मुस्कुराने लगी
उसके होठों की हसी मुझे बहाने लगी
मुझे लगा की आज अपने दिल की बात कह दूंगा
जो होगा उसे सच मान आगे बढ़ लूँगा
मगर उसे किसी और से प्यार था
वो तो किसी और पे मरती थी और
मैं उसके लिये सिर्फ उसका एक यार था
मेरे दिल में उसके लिये सिर्फ और सिर्फ प्यार था
इसलिये मेरी हिम्मत फिर से हार गयी
उससे अपने दिल की बात कहने की
अपने दिल के जज़्बात कहने की
वो खवाहिश फिर से खत्म कर दी
ये दिल की फ़रमाइश पूरी ना हो सकी और
फिर से मेरी बात अधूरी रह  गयी

– मनोहर मिश्रा

Aaj fir humari nazare mili
Vo mujhe dekhkar muskurane lagi
Uske hotho ki hasi mujhe bhane lagi
Mujhe laga ki aaj apne dil ki baat keh dunga
Jo hoga usse sach maan aage badh lunga
Magar usse kisi or se pyar tha
Vo to kisi or pe marti thi or
Mai uske lye sirf uska ek yaar tha
Mere dil me uske lye sirf or sirf pyar tha
Islye meri himmat fir se haar gayi
Usse apne dil ki baat kehne ki
Apne dil ke jazbaat kehne ki
Vo khawahish fir se khatm kar di
Ye dil ki farmaish puri na ho saki Or
Phir se meri baat adhuri reh gayi

-Manohar Mishra

 

3 thoughts on “Hindi Love Poem Expressing Love-मेरी बात

Leave a Reply