Hindi Love Poem Expressing Love – दिल की इस दीवार पर

प्यार भरे शब्दों से कोई पैगाम लिखता हूँ।
तड़प कर जिया हूँ बरसों तक।
इस तड़प का कोई एहसास लिखता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
हँसा था जो तूने मुझे देख प्यार से।
उन जादू भरी नजरों का अंदाज लिखता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
नाम तेरा बेनाम है सावन का कोई पैगाम है।
बरसती हुई इन बूंदों में भीगा सी एक शाम है।
जीवन की हर शाम को आज तेरे नाम लिखता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
मेरी हर तमन्ना अधूरी थी तुझे पाने से पहले।
इन तमन्नाओं को आज जीने की वजह लिखता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
सीने में धड़कते दिल को तेरा खत मिल गया।
सायरो की भीड़ में एक सायर नया बन गया।
आज इसी सायरी को तेरे नाम लिखता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
मैं कोई शायर नहीँ न तू मेरी कोई कल्पना है।
तू हकीकत है तू इबारत है तू ही इस दिल की इबादत है।
दिल में तेरी मोह्बत का कलमा बार बार पढता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
दुआओं की भीड़ है तेरे लिये बहुत सी।
मगर मेरी भी एक दुआ छोटी सी कबूल कर लेना ऐ खुदा।
उसको रखना सदा दिल के पास।
कैसे कहूँ तुझे दिल से आज खुदा लिखता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
बस तेरा ही नाम लिखता हूँ।

-गौरव

Dil ki es diwar par tera naam likhta hoon
Pyar bhre shbdo se koi paigaam likhta hoon
Tadap kr jiya hu barso tak
Es tadap ka koi ehsas likhta hoon
Dil ki es diwar par tera naam likhta hoon
Hansa tha jo tune muje dekh pyar se
Un jadu bhari nazron ka andaaz likhta hoon
Dil ki es diwar par tera naam likhta h
Naam tera bennaam hai sawan ka koi paigaam hai
Barsti hue en bundo mein bhiga si ek sham hai
Jivan ki har shma ko aaj tere naam likhta hoon
Dil ki es diwar par tera naam likhta hoon
Meri har tamnna adhuri thi tujhe pane se pahle
En tamnnao ko aaj jine ki bajah likhta hoon
Dil ki es diwar par tera naam likhta hoon
Sine mein dhdkte dil ko tera khat mil gya
Shayron ki bheed me ek shayr nya ban gya
Aaj esi shayri ko tere naam likhta hoon
Mein koi shayar nahi na meri tu koi kalpana hai
Tu haqikat hai tu ebarat hai tu hi dil ki ebadat hai
Dil me teri muhabbat ka kalma bar bar padta hoon
Dil ki es diwar par tera naam likhta hoon
Duaao ki bheed hai tere liye bhut si
Magar meri bhi ek dua choti si kabool kar lena ae khuda
Usko rakhna sada dil ke paas
Kese kahu tujhe dil se aaj khuda likhta hoon
Dil ki es deewar par tera naam likhta hoon
Bas tera hi naam likhta hoon

-Gaurav

Hindi Love Poem Expressing Love-मेरी बात

आज फिर हमारी नज़रे मिली
वो मुझे देखकर मुस्कुराने लगी
उसके होठों की हसी मुझे बहाने लगी
मुझे लगा की आज अपने दिल की बात कह दूंगा
जो होगा उसे सच मान आगे बढ़ लूँगा
मगर उसे किसी और से प्यार था
वो तो किसी और पे मरती थी और
मैं उसके लिये सिर्फ उसका एक यार था
मेरे दिल में उसके लिये सिर्फ और सिर्फ प्यार था
इसलिये मेरी हिम्मत फिर से हार गयी
उससे अपने दिल की बात कहने की
अपने दिल के जज़्बात कहने की
वो खवाहिश फिर से खत्म कर दी
ये दिल की फ़रमाइश पूरी ना हो सकी और
फिर से मेरी बात अधूरी रह  गयी

– मनोहर मिश्रा

Aaj fir humari nazare mili
Vo mujhe dekhkar muskurane lagi
Uske hotho ki hasi mujhe bhane lagi
Mujhe laga ki aaj apne dil ki baat keh dunga
Jo hoga usse sach maan aage badh lunga
Magar usse kisi or se pyar tha
Vo to kisi or pe marti thi or
Mai uske lye sirf uska ek yaar tha
Mere dil me uske lye sirf or sirf pyar tha
Islye meri himmat fir se haar gayi
Usse apne dil ki baat kehne ki
Apne dil ke jazbaat kehne ki
Vo khawahish fir se khatm kar di
Ye dil ki farmaish puri na ho saki Or
Phir se meri baat adhuri reh gayi

-Manohar Mishra

 

Hindi Love Shayari for Her- तुम वो क़िताब हो

एक प्यार का पन्ना लिखने बैठे थे आपके लिये
लिख दी एक पूरी क़िताब ,क्योकि
आप वो पन्ना हैं जिसने हमें ज़िन्दगी की राह पर हर क़दम पर साथ दिया है
आप वो पन्ना है
जिसको एक बार कोई इंसान देख ले तो जैसे नशे में नाच उठता है
आप वो पन्ना है
जो हमारे हर सास में जैसे बस्ती हैं
आप वो पन्ना है
जो कोयल जैसे सबको अपनी आवाज़ से जगलेते हैं
आप वो पन्ना है
जो प्यार से नहीं महोब्बत से लिखा है
आप वो पन्ना है
जो जैसे शाह जहा और मुमताज़ की अमर दस्ता की हकदार है
और आप वो पन्ना है
जिसके दिल से हमारा दिल जुड़ा है

– एक अजनबी

 

Ek pyaar ka Panna likhne bethe the aapke liye
Likh Di ek puri kitab , Kyunki
Aap woh panna hain
Jisne humme zindagi ki rah par har kadam par saath Diya hai
Aap woh panna hain
Jisko ek baar koi insaan Dekh le toh jaise nache mein naach uthta hai
Aap woh panna hain
Jo Hummare har saas mein jaise basti hain
Aap woh panna hain
Jo koyal jaise sabko apni aavaz se jagalete hain
Aap woh panna hain
Jo pyaar SE nahi mohbbat se likha jai
Aap woh panna hain
Jo jaise shah jaha aur Mumtaz ki Amar Dasta ki hakdar hai
Aur aap woh panna hain
Jiske dil se hummara dil juda Hua hain

 – Ek Ajnabi

 

Hindi Love Poem For Her – रात होते ही

 

रात होते ही फलक पे सितारे जगमगाते हैं
वो चुपके से दबे पांव मुझसे मिलने आते हैं
याद रहे बस नाम उनका भूल के जमाने को
वो चुनरी को इस तरह मेरे चेहरे पे गिराते हैं
सौ गम और हज़ार ज़ख़्म हो चाहे
दुनिया के हर दर्द भूल जाये
कुछ इस तरह गुदगुदाते हैं
डूब जाये ये कायनात तो हम नाचीज़ क्या हैं
इतनी मोहब्बत वो दामन में भर के लाते हैं
तिश्नगी कम ना होने पाये चाहत की
मुझमे प्यास बढाकर मेरी फिर वो मय बन जाते हैं
सख़्त हिदायत है हमे खुद पे काबू रखने की
रोक के हमको मगर वो खुद ही बहक जाते हैं
बयां करने को दास्तान-ए-इश्क़ लब्ज़ ना मिलें वो
यूँ हक़ मुझपे जताते हैं कि ‘मौन’ कर जाते हैं

-अमित मिश्रा

Raat hote hi falak pe sitare jagmgate hain
Wo chupke se dabe paaw mujse milne aate hain
Yaad rhe bus naam unka bhul ke jamane ko
Wo chunri ko es tarh mere chehre pe girate hain
So gum aur hzar jkham ho chahe
Duniya k har dard bhul jaye
Kuch es trah gudgudate hain
Dub jaye ye kaynaat to hum nachiz kya hain
Etni mhobbat wo daman mein bhar ke late hain
Tisngi kam na hone paye chahhat ki
Mujme pyas bdakar meri fir wo may ban jate hain
Skhat hidayat hai hme khud pe kabu rkhne ki
Rok k hamko magar wo khud hi bahk jate hain
Byan krne ko dastaan a ishq labz na mile wo
Yoon haq mujpe jatate hai ki moon kar jate hain

-Amit Mishra

Hindi Love Poem For Her – तुम जैसी हो अच्छी हो

है वो थोड़ी अजनबी सी, हर रात ख्वाबो में आती है।।
जी भर देखना चाहता हूँ उसे, उफ़ ये रात गुज़र जाती है…!!!!
कुछ कहना चाहता हूँ उससेे, बात होठो तक रुक जाती है।।
वो आँखों में देख कर मेरी, दिल की बात समझ जाती है…!!!!
समझ कर दिल की बातों को, लब्जो का इंतज़ार करती है।।
नादान इतना भी नही समझती, लब्ज़ नही आँखे बयां करती है…!!!!
मेने इज़हार भी नही किया उससे, मेने इकरार भी नही किया उससे।।
प्यार तो बहुत दूर की बात है, उसने इंकार भी नही किया मुझसे…!!!!
दिल चाहता है उसे बाहों में भर लू दिल चाहता है
उसके होठो को चूम लूँ।। दिल चाहता है
इस रात को यही रोक दू, दिल चाहता है
इस पल को कभी खोने न दूँ…!!!!

-सूरज सात्विक झा

Hai wo thodi ajnabi si, har raat khbabbon mein aati hai
Ji bhr k dekhna chahta hu use,uff ye raat gujar jati hai
Kuch khna chahta hu usse , baat hothon tak ruk jati hai
Wo aankhon me dekh kar mere dil ki bat smajh jati hai
Samjh kar dil ki baaton ko, labzon ka intezar karti hai
Nadan etna bhi nai samjhti,labz nahi aankhe byan krti hai
Maine izhar bhi nai kiya usse,maine ekrar bhi nai kiya usse
Pyar to bhut dur ki baat hai,usne enkar bhi nai kiya mujse
Dil chahta hai use bahon me bhr lu dil chahta hai
Uske hothon ko chum ludil chahta hai
Es raat ko yahi rok du,dil chahta hai
Es pal ko kabhi khone n du.

– Suraj saatvik jhaa

Romantic Hindi Poem – मेरी साँसे

मैं तो अपनी हर सांस में तुम्हें चाहूँगा ,
जो कभी ना ख़त्म हो जज्बात इस तरह ख़्वाबों मैं तुम्हे सजाऊँगा ,
मेरे तो दिन रात है तुमसे ,मैं तो इन सांसो के बाद भी तुम्हे हद से ज्यादा चाहुँगा
ना सुकून होता हो बिना तुम्हारे मुझे एक पल भी
इस कदर सांसो पर अपनी मैं तुम्हारा नाम लिख जाऊँगा
एक दिन ऐसा भी आयेगा के मैं अपने सारे एहसासों को समेट लूँगा
तुम हौसला तो रखो मैं तुम्हारी दूनिया में
तुम्हे अकेला छोड़ कर तुमसे बहुत्त दूर चला जाऊँगा। मेरी सोना।

-विशु

Mai toh apni har saans mai tumhe chahunga,
Jo kbhi na khtm ho jajbat iss trah khwabon mai tumhe sjaunga,
Mere toh din raat hai tumse, Mai toh in saanson ke baad bhi
tumhe hadd se jyada chahunga.
Na sukun hota ho bina tumhare mujhe ek pal bhi,
Iss kadar saansein per apni mai tumhara naam likh jaunga,
Ek din aisa bhi aayega k mai apne sare ehsaso ko samet lunga,
Tum hosla toh rkho mai tumhari duniya mai
tumhe akela chor kr tumse bhut door chla jaunga….. Meri Sona…..

-Vishu

Hindi Love Poems-ऐसा लगता है

महफ़िल भी सुनी लगती है तेरा कसर लगता है,
ग़म भी खुशी लगती है तेरा असर लगता है।
है लगता हर पल सदियो-सा, बरसो-सा बिन तेरे;
तेरा दिल ही मुझे अब मेरा घर लगता है।
है चाहता ये दिल हर पल तेरे दीदार को,
तड़पता हूँ, बेचैन रहता हूँ
मामुली सा पत्थर भी संगेमरमर लगता है।
अनजाना-सा दुनिया की बातों से दिन-पल और रातों से,
ना किसी के कहने का असर ना वाकिफ़ हालातों से।
हद पार कर जाऊँगा तेरे इश्क़ में
दोगे ज़हर इम्तेहान के लिए तो भी पी जाऊँगा
तुझे याद करके मरूँगा नहीं,
हो जाऊँगा अमर लगता हैं ।

-हंसराज केरकर

Mehfeel bhi suni lagti Hai Tera kasar lagta Hai,
Gam bhi Khushi lagti Hai Tera asar lagta Hai.
Hai lagta har Pal Sadiyo sa, Barson sa bin Tere,
Tera Dil hi muze Ab Mera Ghar lagta Hai.
Hai chahta ye Dil Har Pal Tere Didar ko
Tadpta hu, bechain rehta hu
Mamuli sa Patthar bhi Sangemarmar lagta Hai.
Anjaana sa Duniya ki batoon se Din-Pal aur Raaton se
Na kisike kehne ka asar Na waqif halato se,
Had par Kar jaunga Tere Ishq me
Doge Jaher Imtehaan ke liye To bhi pee jaunga
tujhe yaad karke Marunga nhi,
ho jaunga Amar lagta Hai.

-Hansraj Kerekar

Hindi Love Poem- तुम

मेरे हर सवाल का जवाब हो तुम
मैं लहर तो दरिया हो तुम
पूछने की गलती अब मत करना तुम-
कौन है यह तुम ?
मेरे हर लफ्ज़ का मतलब हो तुम
मैं रांझा तो मेरी हीर हो तुम
क्या अब भी पूछोगी तुम
कौन है यह तुम ?
मैं गायक तुम मेरा गीत हो
तुम मेरे हर प्रयास का नतीजा हो तुम
एक बार आईने पर देखो तुम
हां वही जो खूबसूरत चांद का टुकड़ा दिख रहा है
वही हो तुम

~योगेन्द्र राज अंधेरिया

Mere har sawaal ka jawab ho tum
Me lehar to dariya ho tum
Pucchne ki galti ab mat karna tum –
kon hai ye ‘tum’ ?
Mere har lafz ka matlab ho tum
Me raanjha to meri heer ho tum
Kya ab bhi pucchogi tum –
kon hai ye ‘tum?’
Me gayak to mera geet ho
tum Mere har prayaas ka nateeja ho tum
Ek baar aaine pr dekho tum
Haan vahi jo khubsurat chand ka tukda dikh raha hai
vahi ho tum

~Yogendra Raj Andheriyaa

Hindi Love Poem for Her – तुम हो

मेरे दिन और रात में तुम हो
मेरी हर साँस में तुम हो ।
अब जो दिलदार हो किसी और की तो सुन लो !
दिल तोड़ना अच्छी बात नही
बिखर के निखरना इतना आसान नही ,
थोड़ी सी खुशियां छिनी है बस
जीने का अरमान नही ।

मेरे दिन और रात में तुम हो
मेरी हर साँस में तुम हो ।
पर मुझे तेरा इंतेजार भी नही ।
अब जो मेहबूब हो किसी औऱ की तो सुन लो !
महज एक तारा हो तुम कोई चाँद नही
हाँ मैंने कभी कहा था
रुख़सारो पर यूँ बाल न बिखराया करो !
बादलो में चाँद कहीं छिप जाता है ।
पर क्या करे इश्क में
रेगिस्तान भी उपवन सा नजर आता है

तुम मेरी जमीन तुम मेरा आसमान हो
पर अब जो दिलदार हो किसी और कि तो सुन लो!
तेरी रुसवाइयों के किस्से सरेआम हो गए
तेरे साथ हम भी बदनाम हो गए ।
कभी शायरों की महफ़िल में मत आ जाना
वरना कहोगे नीलाम हो गए ।

मगर अब जो हमसफर हो किसी और कि फिर भी सुन लो
मेरे दिन रात में तुम हो
मेरे अंधकार और प्रकाश में तुम हो ।

-प्रियांशु शेखर

Mere din aur raat mein tum ho
Meri har sans mein tum ho
Ab jo dildar ho kisi aur ki to sun lo
Dil todna achi baat nahi
Bikhar ke nikhrana itna aasan nahi
Thodi si khushiya chahni hain bas
Jeene ka arman nahi

Mehaz ek tara ho tum koi chand nahi
Haan maine kabhi kha tha
Ruksaron par yoon baal na bikhraya karo
Badalo mein chand kahi chhip jata hain
Par kya kare ishq mein
Registaan bhi upvan sa nazar aata hain

Tum meri zameen tum mera aasmaan ho
Par ab jo dildar ho kisi aur ki to sun lo
Teri rusvaiyon ke kisse sare aam ho gaye
Tere sath hum bhi badnaam ho gaye
Kabhi shayaron ki mehfil mein mat jana
Varna kahoge neelaam ho gaye

Magar ab jo humsafar ho kisi aur ki fir bhi sun lo
Mere din raat mein tum ho
Mere andhkar aur prakash mein tum ho

-Priyanshu Shekhar