Hindi Love Poem for Life Partner-हमसफ़र


आँखों ही आँखों में
बातें इशारों में
तुमने जो मुझसे कहीं है
ऐसा क्यों लगता है
जैसे की तुमको भी मुझसे
मोहब्बत हुई है
ऐ हमसफ़र,मेरे हमसफ़र
देखूँ हर जगह
आये तू ही नज़र
ऐ हमसफ़र, मेरे हमसफ़र
तारीफें तेरी
कैसे करे हम कैसे करे हम
ख्वाईशें हलचल मची है
दिल में ये मेरे दिल में जो मेरे
तुम आ गए सांसो में तू
मेरी बातों में तू
मैंने माँगा जिसे
वो दुआ तू ही तू
आँखों ही आँखों में
बातें इशारों में
तुमने जो मुझसे कही है
ऐसा क्यों लगता है
जैसे की तुमको को भी
मुझसे मोहब्बत हुई है
ऐ हमसफ़र मेरे हमसफ़र
देखूँ हर एक जगह
आये तू ही नज़र

-गौरव

Aankho hi aankhon mein
Baatein isharon mein
Tumne jo mujhse kahi hai
Aisa kyu lagta hai
Jaise ki tumko bhi
Mujhse mohabbat hui hai
Ae humsafar, Mere humsafar
Dekhu har ek jagah
Aaaye tu hi nazar
Ae humsafar,  Mere humsafar
Taarife teri
Kaise kare hum Kaise kare hum
Khwaishe Hulchal machi hai
Dil mein ye mere Dil jo mere
Tum aa gaye Saanso mein tu
Meri baaton mein tu
Maine manga jise
Wo dua tu hi tu
Aankhon hi aankhon mein
Baatein isharon mein
Tumne jo mujhse kahi hai
Aisa kyu lagta hai
Jaise ki tumko bhi
Mujhse mohabbat hui hai
Ae humsafar,Mere humsafar
Dekhu har ik jagah
Aaaye tu hi nazar

-Gaurav

Hindi Love Poem Expressing Love – दिल की इस दीवार पर


प्यार भरे शब्दों से कोई पैगाम लिखता हूँ।
तड़प कर जिया हूँ बरसों तक।
इस तड़प का कोई एहसास लिखता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
हँसा था जो तूने मुझे देख प्यार से।
उन जादू भरी नजरों का अंदाज लिखता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
नाम तेरा बेनाम है सावन का कोई पैगाम है।
बरसती हुई इन बूंदों में भीगा सी एक शाम है।
जीवन की हर शाम को आज तेरे नाम लिखता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
मेरी हर तमन्ना अधूरी थी तुझे पाने से पहले।
इन तमन्नाओं को आज जीने की वजह लिखता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
सीने में धड़कते दिल को तेरा खत मिल गया।
सायरो की भीड़ में एक सायर नया बन गया।
आज इसी सायरी को तेरे नाम लिखता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
मैं कोई शायर नहीँ न तू मेरी कोई कल्पना है।
तू हकीकत है तू इबारत है तू ही इस दिल की इबादत है।
दिल में तेरी मोह्बत का कलमा बार बार पढता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
दुआओं की भीड़ है तेरे लिये बहुत सी।
मगर मेरी भी एक दुआ छोटी सी कबूल कर लेना ऐ खुदा।
उसको रखना सदा दिल के पास।
कैसे कहूँ तुझे दिल से आज खुदा लिखता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
बस तेरा ही नाम लिखता हूँ।

-गौरव

Dil ki es diwar par tera naam likhta hoon
Pyar bhre shbdo se koi paigaam likhta hoon
Tadap kr jiya hu barso tak
Es tadap ka koi ehsas likhta hoon
Dil ki es diwar par tera naam likhta hoon
Hansa tha jo tune muje dekh pyar se
Un jadu bhari nazron ka andaaz likhta hoon
Dil ki es diwar par tera naam likhta h
Naam tera bennaam hai sawan ka koi paigaam hai
Barsti hue en bundo mein bhiga si ek sham hai
Jivan ki har shma ko aaj tere naam likhta hoon
Dil ki es diwar par tera naam likhta hoon
Meri har tamnna adhuri thi tujhe pane se pahle
En tamnnao ko aaj jine ki bajah likhta hoon
Dil ki es diwar par tera naam likhta hoon
Sine mein dhdkte dil ko tera khat mil gya
Shayron ki bheed me ek shayr nya ban gya
Aaj esi shayri ko tere naam likhta hoon
Mein koi shayar nahi na meri tu koi kalpana hai
Tu haqikat hai tu ebarat hai tu hi dil ki ebadat hai
Dil me teri muhabbat ka kalma bar bar padta hoon
Dil ki es diwar par tera naam likhta hoon
Duaao ki bheed hai tere liye bhut si
Magar meri bhi ek dua choti si kabool kar lena ae khuda
Usko rakhna sada dil ke paas
Kese kahu tujhe dil se aaj khuda likhta hoon
Dil ki es deewar par tera naam likhta hoon
Bas tera hi naam likhta hoon

-Gaurav

Hindi Love Poem For Her-जाने क्या रिश्ता है


जाने क्या रिश्ता है जाने क्या नाता है तुमसे
अनजाना सा एहसास है अनजानी सी राह है
जाने क्या चाहता है यह बावरा मन
इसकी लीला यही जाने
ना कहुँ तुझे चाँद का टुकड़ा
ना कहुँ तुझे मेरे लिये बनाया है
बस इतना कहुँ की तू जीने का सहारा है
जाने क्या रिश्ता है तुमसे जाने क्या नाता है
अनजानी सी राहों पर चलना
अनकही बातें महसूस करना
हर आहट में तुझे महसूस करना
शायद तुम्हे याद करने के तरीके बन गये है
तेरी आँखों की नमकीन मस्तियाँ क्यों घायल करे मुझे
इन एहसासों को कैसे बाँधू मैं
मैं खो जाऊँ तुम्हारी इन नशीली आँखों में
मैं फिर कहा जोर इस ज़माने को
जाने क्या रिश्ता है क्या नाता है तुमसे

-सोना

Jane kya rishta hai jane kya nata hai tumse
Anjana sa ehsas hai anjani si rahe hai
Jane kya chahta hai yeh bawra man
Iski leela yahi jane
Na khu tuje chand ka tukda
Na khu tuje mere liye banaya hai
Bs itna khu ki tu jine ka sahara hai
Jane kya rishta hai tumse jane kya nata hai
Anjani si raho par chalna
Ankahi baatein mehsus karna
Har aahat mai tumhe mehsus karna
Sayd tumhe yad krne ke tarike ban gye hai
Teri aankhon ki namkeen mastiyan kyu gayal kare muje
En ehsaso ko kese bandhu mai .
Mai kho jau tumhari in nashili aankho mai
Fir kha jaur is jamane ko
Jane kya rishta hai jane kya nata hai tumse..

-Sona

Hindi Love Poem Expressing Love-मेरी बात


आज फिर हमारी नज़रे मिली
वो मुझे देखकर मुस्कुराने लगी
उसके होठों की हसी मुझे बहाने लगी
मुझे लगा की आज अपने दिल की बात कह दूंगा
जो होगा उसे सच मान आगे बढ़ लूँगा
मगर उसे किसी और से प्यार था
वो तो किसी और पे मरती थी और
मैं उसके लिये सिर्फ उसका एक यार था
मेरे दिल में उसके लिये सिर्फ और सिर्फ प्यार था
इसलिये मेरी हिम्मत फिर से हार गयी
उससे अपने दिल की बात कहने की
अपने दिल के जज़्बात कहने की
वो खवाहिश फिर से खत्म कर दी
ये दिल की फ़रमाइश पूरी ना हो सकी और
फिर से मेरी बात अधूरी रह  गयी

– मनोहर मिश्रा

Aaj fir humari nazare mili
Vo mujhe dekhkar muskurane lagi
Uske hotho ki hasi mujhe bhane lagi
Mujhe laga ki aaj apne dil ki baat keh dunga
Jo hoga usse sach maan aage badh lunga
Magar usse kisi or se pyar tha
Vo to kisi or pe marti thi or
Mai uske lye sirf uska ek yaar tha
Mere dil me uske lye sirf or sirf pyar tha
Islye meri himmat fir se haar gayi
Usse apne dil ki baat kehne ki
Apne dil ke jazbaat kehne ki
Vo khawahish fir se khatm kar di
Ye dil ki farmaish puri na ho saki Or
Phir se meri baat adhuri reh gayi

-Manohar Mishra

 

Hindi Love Shayari for Her- तुम वो क़िताब हो


एक प्यार का पन्ना लिखने बैठे थे आपके लिये
लिख दी एक पूरी क़िताब ,क्योकि
आप वो पन्ना हैं जिसने हमें ज़िन्दगी की राह पर हर क़दम पर साथ दिया है
आप वो पन्ना है
जिसको एक बार कोई इंसान देख ले तो जैसे नशे में नाच उठता है
आप वो पन्ना है
जो हमारे हर सास में जैसे बस्ती हैं
आप वो पन्ना है
जो कोयल जैसे सबको अपनी आवाज़ से जगलेते हैं
आप वो पन्ना है
जो प्यार से नहीं महोब्बत से लिखा है
आप वो पन्ना है
जो जैसे शाह जहा और मुमताज़ की अमर दस्ता की हकदार है
और आप वो पन्ना है
जिसके दिल से हमारा दिल जुड़ा है

– एक अजनबी

 

Ek pyaar ka Panna likhne bethe the aapke liye
Likh Di ek puri kitab , Kyunki
Aap woh panna hain
Jisne humme zindagi ki rah par har kadam par saath Diya hai
Aap woh panna hain
Jisko ek baar koi insaan Dekh le toh jaise nache mein naach uthta hai
Aap woh panna hain
Jo Hummare har saas mein jaise basti hain
Aap woh panna hain
Jo koyal jaise sabko apni aavaz se jagalete hain
Aap woh panna hain
Jo pyaar SE nahi mohbbat se likha jai
Aap woh panna hain
Jo jaise shah jaha aur Mumtaz ki Amar Dasta ki hakdar hai
Aur aap woh panna hain
Jiske dil se hummara dil juda Hua hain

 – Ek Ajnabi

 

Hindi Love Poem For Her-हाल-ए दिल


प्यार तो बहुत पहले से था
तुझसे बस तुझे खोने का डर था
तेरी नाराज़गी से मुझे तेरे दूर जाने का डर था
सोचा तो बहुत था बता दूँ
तुझे हाले दिल अपना पर
तुझसे बिछड़ जाने का डर था
इज़हार तो किया तुझसे
अपनी मोहब्बत का तुझे खुशी देकर,
तेरे गमों को भुलाने का पर तुझे -मुझसे
यूँ छिन जाने का डर था

-नीरज सिंह

Pyar to bahut pehle se tha
Tujhse Bas khone ka dar tha
Teri naarazgi se mujhe Tere door jane ka dar tha
Socha to bahut tha Bata du
Tujhe haal-a-dil apna Par
Tujhse bichhad jane ka dar tha
Izhaar to kiya tujhse
Apni mohabbat ka Tujhe khushi dekar ,
Tere gamon ko bhulane ka Par tujhe-mujhse
Yun chhin jane ka dar tha….

-Neeraj Singh

Hindi Love Poems-ऐसा लगता है


महफ़िल भी सुनी लगती है तेरा कसर लगता है,
ग़म भी खुशी लगती है तेरा असर लगता है।
है लगता हर पल सदियो-सा, बरसो-सा बिन तेरे;
तेरा दिल ही मुझे अब मेरा घर लगता है।
है चाहता ये दिल हर पल तेरे दीदार को,
तड़पता हूँ, बेचैन रहता हूँ
मामुली सा पत्थर भी संगेमरमर लगता है।
अनजाना-सा दुनिया की बातों से दिन-पल और रातों से,
ना किसी के कहने का असर ना वाकिफ़ हालातों से।
हद पार कर जाऊँगा तेरे इश्क़ में
दोगे ज़हर इम्तेहान के लिए तो भी पी जाऊँगा
तुझे याद करके मरूँगा नहीं,
हो जाऊँगा अमर लगता हैं ।

-हंसराज केरकर

Mehfeel bhi suni lagti Hai Tera kasar lagta Hai,
Gam bhi Khushi lagti Hai Tera asar lagta Hai.
Hai lagta har Pal Sadiyo sa, Barson sa bin Tere,
Tera Dil hi muze Ab Mera Ghar lagta Hai.
Hai chahta ye Dil Har Pal Tere Didar ko
Tadpta hu, bechain rehta hu
Mamuli sa Patthar bhi Sangemarmar lagta Hai.
Anjaana sa Duniya ki batoon se Din-Pal aur Raaton se
Na kisike kehne ka asar Na waqif halato se,
Had par Kar jaunga Tere Ishq me
Doge Jaher Imtehaan ke liye To bhi pee jaunga
tujhe yaad karke Marunga nhi,
ho jaunga Amar lagta Hai.

-Hansraj Kerekar