Hindi Love Poem- तुम


मेरे हर सवाल का जवाब हो तुम
मैं लहर तो दरिया हो तुम
पूछने की गलती अब मत करना तुम-
कौन है यह तुम ?
मेरे हर लफ्ज़ का मतलब हो तुम
मैं रांझा तो मेरी हीर हो तुम
क्या अब भी पूछोगी तुम
कौन है यह तुम ?
मैं गायक तुम मेरा गीत हो
तुम मेरे हर प्रयास का नतीजा हो तुम
एक बार आईने पर देखो तुम
हां वही जो खूबसूरत चांद का टुकड़ा दिख रहा है
वही हो तुम

~योगेन्द्र राज अंधेरिया

Mere har sawaal ka jawab ho tum
Me lehar to dariya ho tum
Pucchne ki galti ab mat karna tum –
kon hai ye ‘tum’ ?
Mere har lafz ka matlab ho tum
Me raanjha to meri heer ho tum
Kya ab bhi pucchogi tum –
kon hai ye ‘tum?’
Me gayak to mera geet ho
tum Mere har prayaas ka nateeja ho tum
Ek baar aaine pr dekho tum
Haan vahi jo khubsurat chand ka tukda dikh raha hai
vahi ho tum

~Yogendra Raj Andheriyaa

Hindi Love Poem for Her – तुम हो


मेरे दिन और रात में तुम हो
मेरी हर साँस में तुम हो ।
अब जो दिलदार हो किसी और की तो सुन लो !
दिल तोड़ना अच्छी बात नही
बिखर के निखरना इतना आसान नही ,
थोड़ी सी खुशियां छिनी है बस
जीने का अरमान नही ।

मेरे दिन और रात में तुम हो
मेरी हर साँस में तुम हो ।
पर मुझे तेरा इंतेजार भी नही ।
अब जो मेहबूब हो किसी औऱ की तो सुन लो !
महज एक तारा हो तुम कोई चाँद नही
हाँ मैंने कभी कहा था
रुख़सारो पर यूँ बाल न बिखराया करो !
बादलो में चाँद कहीं छिप जाता है ।
पर क्या करे इश्क में
रेगिस्तान भी उपवन सा नजर आता है

तुम मेरी जमीन तुम मेरा आसमान हो
पर अब जो दिलदार हो किसी और कि तो सुन लो!
तेरी रुसवाइयों के किस्से सरेआम हो गए
तेरे साथ हम भी बदनाम हो गए ।
कभी शायरों की महफ़िल में मत आ जाना
वरना कहोगे नीलाम हो गए ।

मगर अब जो हमसफर हो किसी और कि फिर भी सुन लो
मेरे दिन रात में तुम हो
मेरे अंधकार और प्रकाश में तुम हो ।

-प्रियांशु शेखर

Mere din aur raat mein tum ho
Meri har sans mein tum ho
Ab jo dildar ho kisi aur ki to sun lo
Dil todna achi baat nahi
Bikhar ke nikhrana itna aasan nahi
Thodi si khushiya chahni hain bas
Jeene ka arman nahi

Mehaz ek tara ho tum koi chand nahi
Haan maine kabhi kha tha
Ruksaron par yoon baal na bikhraya karo
Badalo mein chand kahi chhip jata hain
Par kya kare ishq mein
Registaan bhi upvan sa nazar aata hain

Tum meri zameen tum mera aasmaan ho
Par ab jo dildar ho kisi aur ki to sun lo
Teri rusvaiyon ke kisse sare aam ho gaye
Tere sath hum bhi badnaam ho gaye
Kabhi shayaron ki mehfil mein mat jana
Varna kahoge neelaam ho gaye

Magar ab jo humsafar ho kisi aur ki fir bhi sun lo
Mere din raat mein tum ho
Mere andhkar aur prakash mein tum ho

-Priyanshu Shekhar

Hindi Poem on First Love – बस तेरी याद में


 

दुनिया से में छिपता – छिपाता ,
न जाने कब तुझको चाहने लगा !
न चाहते हुए भी चुपके से तेरे पीछे आने लगा !

तुझे देखे बिना न ही नींद आती , और न ही चैन ,
लगता है , ये दीवाना दिल कहीं खोने लगा ।
याद में तेरी रातों को रोने लगा !

सोचता हूँ ,
क्या था तेरा मेरा रिश्ता ?
जो तुम मुझे याद नहीं करते ,
और हम तुम्हे भुला नहीं पाते !

काश ! तुम मेरे होते , फिर रोज नए सबेरे होते ,
लेकिन ये हो न सका ….

तुम न मेरे हुए , और न ही मेरे दिल के
तुम तो बस मेरी यादों के होकर रह गए !

ये रिश्ता जो है , तेरे मेरे दरमियां ,
इक मुलाकात की ख्वाहिश रखता है !

दिल जलता है , रोता है ,
तेरी याद में ,
बस तेरी याद में !

-रोहित चौरसिया

Duniya se main chhipata-chhipata
Na jane kab tujhko chahne laga
Na chahte hue bhi chupke se tere peeche aane laga

Tujhe dekhe bina na hi neend aati aur na hi chain
Lagta hai ye deewana dil kahi khone laga
Yaad mein teri raaton ko rone laga

Sochta hoon
Kya tha tera mera rishta
Jo tum mujhe yaad nahi krte
Aur hum tumhe bhula nahi pate

Kash tum mere hote,Fir roz naye savere hote
Lekin ye ho na saka

Tum na mere hue na hi mere dil ke
Tum to bas meri yaadon ke ho kar reh gaye

Ye rishta jo hain tere mere darmiyaan
Ek mulakat ki khvahish rakhta hai

Dil jalta hai rota hain
Teri yaad mein
Bas teri yaad mein

-Rohit Chaurasiya

Hindi Love Poem Expressing Love – मेरा दिल


प्यार अब कुछ इस कदर हम पर छा रहा है
मेरा दिल मुझे मेरे महबूब का हाल बता रहा है
बड़ा समझाया इस दिल ए नादान को
पर ये तो मस्त गगन में उड़ता चला जा रहा है
प्यार अब कुछ इस कदर हम पर छा रहा है
मेरा दिल मुझे मेरे महबूब का हाल बता रहा है
चाहता है अब ये दिलबर को अपने सामने हर पल
महसूस करना चाहता है उसकी सांसो को अपनी सांसो में हर पल
इसको भी खुद पर कुछ ज्यादा ही एतबार आ रहा है
प्यार अब कुछ इस कदर हम पर छा रहा है
मेरा दिल मुझे मेरे महबूब का हाल बता रहा है
कहता है बस कुछ दिन और। . फिर हम एक हो जायेंगे
जो जो सपने संजोये थे हमने। . सब पूरे वो हो जायेगे
अब तो गौरव को भी रिया का इंतज़ार हो रहा है
प्यार अब कुछ इस कदर हम पर छा रहा है
मेरा दिल मुझे मेरे महबूब का हाल बता रहा है
मिले थे जो कभी अनजान बनकर ,वो अब अपने हो जायेंगे
हर कोई शायद अब हमारे प्यार के साथ होगा
दिल को इस बात पर गुमान आ रहा है
प्यार अब कुछ इस कदर हम पर छा रहा है
मेरा दिल मुझे मेरे महबूब का हाल बता रहा है

-गौरव अग्रवाल

Pyar ab kuch is kadar ham par chaa raha hai…
Mera dil mujhe mere mehboob ka haal bata raha hai..
Bada samjhaya is dil e nadan ko..
Par ye to mast gagan me udta chala ja raha hai..
Pyar ab kuch is kadar hum par chaa raha hai…
Mera dil mujhe mere mehboob ka haal bata raha hai..
Chahta hai ab ye dilbar ko apne samne har pal
mehsoos karna chahta hai uski sanson ko apni sanson me har pal
Isko bhi khud par kuch jyada hi aitbar aa raha hai
Pyar ab kuch is kadar hum par chaa raha hai…
Mera dil mujhe mere mehboob ka haal bata raha hai..
Kahta hai bas kuch din aur..fir hum ek ho jayenge
Jo jo sapne sanjoye they humne .. sab poore vo ho jayenge
Ab to “Gorav “ko bhi “Riya” ka intezar ho rahahai
Pyar ab kuch is kadar hum par chaa raha hai…
Mera dil mujhe mere mehboob ka haal bata raha hai..
Mile they jo kabhi anjan bankar vo ab apne ho jayenge
Har koi shayad ab hamare pyar ke sath hoga..
Dil ko isi baat par guman aa raha hai…
Pyar ab kuch is kadar hum par chaa raha hai…
Mera dil mujhe mere mehboob ka haal bata raha hai..

-Gorav Aggarwall

Hindi Love Poem For Her – आँखे तेरी भी नम हो


आँखे तेरी भी नम हो पर मुझसे कम हो
दिल तेरा भी टूटे पर गम जो मिले मुझसे कम हो
तू भूल जाये किसी को पर मैं ना भुला पाऊंगा
जिस शिद्दत से चाहा था तुझको उसी शिद्दत से चाहुँगा
ना पास आऊँगा ना दूर जाऊँगा बस छुप छुप कर तुझे चाहुँगा
मेरी तम्मनाओं के सागर में तू हर रोज़ डुबकी लगाती है
तू तो भीग कर निकलती है मेरी यादों से
पर मैं अकेला तन्हा रह जाता हूँ
जाने क्यूँ ऐसा होता है जो सच्चा हो वो अधूरा रह जाता है
चल हम भी वादा करते है तुझसे
कि हर साँस में तुझे बसा लेंगे
और जब ये सांसो की डोर छूटेगी हम तेरा ही नाम लेंगे
-संदीप कुमार साव

Aankhei teri bhi num ho par mujhse kam ho,
Dil tere bhi tute par gum jo mile mujhse kam ho.
Tu bhul jaye chahe kisi ko par main na bhula paunga.
Jis shiddat se chaha tha tujhko usi shiddat se chahunga,
Na pas aaunga na dur jaunga bas chhup chhup kar tujhe chahunga.
Meri tammanao ke sagar me tu har roz dubki lagati hai,
Tu to bhig kar nikalti hai meri yadon se,
Par mai akela tanha rah jata hu.
jane kyon aisa hota hai jo pyar saccha ho wo adhura rah jata hai.
Chal Hum bhi wada karte hai tujhse,
Ki har sans me tujhe basa lenge,
Aur jab ye sanso ki dor chutegi hum tera hi nam lenge.
-Sandip Kumar Saw

Hindi Poem for Girlfriend – आशिक़ हूँ मैं तेरा


love_hug_2-wallpaper-1366x768

आशिक़ हूँ मैं तेरा
आशिक़ी मेरा काम है
दीवाना हूँ तेरा
पर तू अनजान है
हर पल मैं दिल से
तुझको पुकारूँ
छिप छिप के चुपके से
तुझको निहारूं
तू पूजा
तू दर्पण
तू मंज़िल
तू साहिल
तू कोमल
तू खुशबू
तू चम चम
तू जादू
है तुझको ही चाहा
है तुझको ही पाना
कल आज और कल
मैं तेरा दीवाना
-अनुष्का