Romantic Poem for Her-Agar Mere Bas Mein Hota

अगर मेरे बस में होता (कविता का शीर्षक)
आसमान के सारे चाँद-तारे तोड़ लाता,
दुनिया की सारी सुंदरता,
तुम्हारे बालों में सजा देता,
अगर मेरे बस में होता,
दुनिया के सभी झरनों को ,
मैं “माही” बना देता,
आँखों से बहते आँसू,
और लबों पर मुस्कान झलकते,
दोनों को मैं संगम बना देता,
अगर मेरे बस में होता,
रातों में भी तुम्हारे, ख्बाबों में सोता,
सपनों में तेरी यादों को संजोता,
इन सपनों को मैं शाही बनाता,
अगर मेरे बस में होता,
हम-तुम से तुम्हारा हमसफर बन जाता,
तुमसे बात करने का बहाना मिल जाता,
मिलती तुम तो, किस्मत को खज़ाना मिल जाता,
अगर मेरे बस में होता ।
-अजय राजपूत (झाँसी) (कवि)

Agar Mere Bas Mein Hota (Title of the Poem)
Asmaan ke saare chand-taarey tod lata (I would have plucked all stars from the sky)
Duniya ki saari sundarta (The entire beauty of this world)
Tumhare baalo mein saja deta (I would have decorated your hair with)
Agar mere bas mein hota (If I had the power to do so)
Duniya ke sabhi jharno ko (The entire waterfalls of this world)
Main Mahi bana deta (I would have turned them divine)
Ankho se bahte ansu (The tears shedding from eyes)
Aur labo par muskaan jhalakte (And smile on lips)
Dono ka main sangam bana deta (I would have got them together)
Agar mere bas mein hota (If I had the power to do so)
Raato mein bhi tumhare, khwabo mein sota (I would have slept in your dreams every night)
Sapno mein teri yaado ko sanjota (I would have remembered you in my dreams)
In sapno ko main shahi banata (I would have turned these dreams luxurious)
Agar mere bas mein hota (If I had the power to do so)
Ham-tum se tumhara hamsafar ban jata (I would have become your life partner)
Tumse baat karne ka bahaana mil jata (I would have got the excuse to talk to you)
Milti tum to, kismat ka khazana mil jata (If I had you, my destiny would have won a jackpot)
Agar mere bas mein hota (If I had the power to do so)
-Ajay Rajput (Jhansi) (Poet)

Longing for Her Love Poem-Lagta Hai Us Se Mohabbat Hone Lagi Hai

लगता है उससे मोहब्बत होने लगी है
सूरत ना देखी मैंने उसकी,
मूरत फिर भी उसकी बनने लगी है,
दिन को चैन नहीं आता,
और रातों की नींद उड़ने लगी है,
लगता है उससे मोहब्बत होने लगी है,
उसकी यादों में, आँखों से नीर बहते है,
अब तो आँखों को आँसू से मोहब्बत होने लगी है,
कलम लिखना चाहती है, केवल तुम्हारे बारे में,
और बातें मेरी कविताओं में ढलने लगी है,
लगता है उससे मोहब्बत होने लगी है,
उसकी यादों में, रातें गुजार देता हूँ,
अपनी ही बातों में, खुद को सँवार देता हूँ,
सुनसान रातों में, मेरी बातें गहराई में उतरने लगी हैं,
अब तो मेरे दिल की तन्हाई मोहब्बत में बदलने लगी है,
लगता है उससे मोहब्बत होने लगी है,
सुबह सूरज की रोशनी भी अधूरी सी लगती है,
बाज़ार की भरी सड़के भी सुनी सी लगती है,
उसके आने की ये आँखें राह देखने लगी हैं,
अब तो माह भी सालों की राह देखने लगी है,
लगता है उससे मोहब्बत होने लगी है,
उसके चेहरे की चमक सादी लगती है,
चाँद पूरा निकलता है पर रोशनी आधी लगती है,
बारिश की बूँदें भी अब मुझे भिगोने लगी हैं,
अब तो दिल की धड़कन भी यादों को पिरोने लगी है,
लगता है उससे मोहब्बत होने लगी है,
अभी भी घर की चौखट पर, उसकी राह तके बैठा हूँ,
सुबह से शाम और शाम से सुबह, उसकी राह में गुज़ार देता हूँ,
कब आओगी ये मेरी तन्हाई कहने लगी है,
तन्हाई की बातें दिल को झूठी लगने लगी हैं,
लगता है उससे मोहब्बत होने लगी है
-अजय राजपूत (झाँसी)

English Translation:

Lagta Hai Us Se Mohabbat Hone Lagi Hai (It seems that I am falling in love with her)
Surat na dekhi maine uski (I have not seen her face)
Moorat phir bhi uski ban ne lagi hai (Still, I am creating her statue)
Din ko chain nahi ata (I am restless during the day)
Aur raato ki neend udne lagi hai (And I cannot sleep at night)
Lagta hai us se mohabbat hone lagi hai (It seems that I am falling in love with her)
Uski yado mein ankho se neer behte hain (Tears flow down my eyes in her remembrance)
Ab to ankho ko ansu se mohabbat hone lagi hai (Now my eyes have started loving tears)
Kalam likhna chahti hai, keval tumhare baare mein (Pen wants to write only about you)
Aur baatein meri kavitaon mein dhalne lagi hain (And your talks have started appearing in my talks)
Lagta hai us se mohabbat hone lagi hai (It seems that I am falling in love with her)
Uski yaado mein ratein guzaar deta hoon (I spend my nights in her memories)
Apni hi baato mein khud ko sawar deta hoon (I groom myself in my own talks)
Sunsaan raato mein meri baatein gehrayi mein utarne lagi hain (My talks have started getting deep in lonely nights)
Ab to mere dil ki tanhai mohabbat mein badalne lagi hai (Now my heart’s loneliness has started converting into love)
Lagta hai us se mohabbat hone lagi hai (It seems that I am falling in love with her)
Subah suraj ki roshni bhi adhuri si lagti hai (I find the morning sunlight somewhat incomplete)
Bazaar ki bhari sadakein bhi suni si lagti hain (The heavily crowded roads of market also seem deserted to me)
Uske aane ki ye ankhein raah takne lagi hain (My eyes have started looking for her arrival)
Ab to mah bhi salon ki rah takne lagi hai (Now, even months have started waiting for the years)
Lagta hai us se mohabbat hone lagi hai (It seems that I am falling in love with her)
Uske chehre ki chamak sadi lagti hai (The glow on her face seems simple)
Chand pura nikalta hai par raushni adhi lagti hai (The moon is full but the light seems half)
Barish ki boondein bhi ab mujhe bhigone lagi hain (The raindrops have started drenching me now)
Ab to dil ki dhadkan bhi yaado ko pirone lagi hai (Now my heartbeat has also started forming memories)
Lagta hai us se mohabbat hone lagi hai (It seems that I am falling in love with her)
Abhi bhi ghar ki chaukhat par uski rah takey baitha hoon (Now also I am waiting for her while sitting at my doorstep)
Subah se sham aur sham se subah uski rah mein guzar deta hoon (From morning until evening and evening until morning is spent in her wait)
Kab aogi ye meri tanhai kehne lagi hai (My loneliness has started saying when will you come)
Tanhai ki batein dil ko jhuthi lagne lagi hain (The talks of loneliness seem false to my heart)
Lagta hai us se mohabbat hone lagi hai (It seems that I am falling in love with her)
-Ajay Rajput (Jhansi)

Hindi Love Poem for Her-Kya Ho Tum

क्या हो तुम (कविता का शीर्षक)
तुम्हें पता है कौन हो तुम
मेरे जिंदगी की अनछुई परछाई हो तुम
समझता मैं भी अजनबी था तुझे,
मिला मुझे खुद का पता जब न था,
मिली जब पनाह तेरे प्यार की,
छोड़ हक़ीक़त सपनों में खो गया,
मिला तेरा साथ तो अपनों का हो गया,
बिताये हर एक पल ग़मों से दूर रहा मैं,
रहता जिस गुरुर में था मैं,
उससे दूर रहा मैं,
मुझे नहीं पता क्या सीखा तुमने मुझसे,
मगर इस दिल ने सीखा बहुत तुझसे,
सपनों की हक़ीक़त,
हक़ीक़त का टूटना,
ज़िन्दगी की सच्चाई,
और दिल का रूठना,
अब इससे ज़्यादा क्या बताये ये दिल
प्यार और इबादत की तालीम हो तुम
आज जाना मेरी अधूरी जिंदगी में मीठा सवाब हो तुम,
इस दिल की नहीं तुम,
ऊपर वाले की प्यारी रचना हो तुम,
ये तारीफ नहीं जुबां की,
बस वाक्या है मेरे दिल का,
रहे मेरे पास शायद वजह यही है मेरे सिर झुकाने की,
रहे तू हमेशा मेरी ज़रूरत नहीं मुझे ये बताने की,
यूं निगाहों से नहीं चाहा कभी तुझे,
ये दिल तुझपे निसार था,
ज़िन्दगी पर किसी का हक ये गवारा मुझे न था,
पर पाबंदिया उसूलों से अच्छी होंगी,
ये वक़्त से ज़्यादा तूने बताया था,
रहे उस सोने की तरह जो ढल जाता सांचे में,
रहूँ मैं उस साँचे जैसा ढले जिसकी आस में,
क्योंकि माँ तो नहीं मगर ज़िन्दगी की अंतिम सांस है तू,
आज हक़ीक़त को जाना,
ज़िन्दगी के हर किनारे का साथ है तू,
ये शब्द नहीं जज़्बात हैं मेरे,
वरना दिल-ए फ़क़ीर क्या जाने,
मेरी मुस्कान का राज़ है तू।
-राणा कौशलेंद्र प्रताप सिंह (कवि)

English Translation:

Kya Ho Tum (What do you mean to me?) (Title of the Poem)
Tumhein pata hai kaun ho tum (Do you know who are you for me)
Meri zindagi ki anchui parchayi ho tum (You are the untouchable shadow of my life)
Samajhta main bhi ajnabi tha tujhe (I too used to see you as a stranger)
Mila mujhe khud ka pata jab na tha (When I had not found myself)
Mili jab panah tere pyar ki (When I found shelter of your love)
Chod haqiqat sapno mei kho gaya (I got lost in dreams while forgetting the reailty)
Mila tera sath to apno ka ho gaya (When I got your company, I became closer to relatives)
Bitaye har ek pal gamo se door raha mai (While spending each moment with you, I forgot about all my sorrows)
Rehta jis guroor mei tha main (The pride in which I used to stay)
Us se door raha main (I became more humble)
Mujhe nahi pata kya seekha tumne mujhse (I do not know what you learnt from me)
Magar is dil ne seekha bahut tujhse (But, my heart learnt a lot from you)
Sapno ki haqiqat (The reality of dreams)
Haqiqat ka tootna (The shattering of dreams)
Zindagi ki sacchai (The truth of life) \
Aur dil ka ruthna (And the anguish of the heart)
Ab is se zyada kya bataye ye dil (Now, what more can my heart explain)
Pyar aur ibadat ki taleem ho tum (You are the teacher of love and worship)
Aj jana meri adhuri zindagi mei meetha savab ho tum (Today, I realized that your the best gift of my incomplete life)
Is dil ki nahi tum (You do not belong to this heart)
Upar wale ki pyari rachna ho tum (You are a beautiful creation of God)
Ye tareef nahi zubaa ki (This is not praise of words)
Bas wakya hai mere dil ka (It comes straight from my heart)
Rahe mere pas shayad wajah yahi hai mere sir jhukane ki (Your presence makes me more humble)
Rahe tu hamesha meri zarurat nahin mujhe ye batane ki (I do not need to tell you that I need you)
Yoon nigaho se nahi chaha kabhi tujhe (I never loved you with my eyes)
Ye dil tujhpe nisar tha (My heart fell for you)
Zindagi par kisi ka haq ye mujhe gawara na tha (I never wanted anyone to control my life)
Par pabandiya usoolo se achi hongi (But, limitations will be better than principles)
Ye waqt se zyada tune bataya tha (This was taught to me by you better than time)
Rahe us sone ki tarha jo dhal jata sanche mein (Be like gold that takes the shape of its container)
Rahu main us sanche jaisa dhale jiski aas mein (I want to be like the same gold and adapt)
Kyonki Maa to nahin magar zindagi ki antim sans hai tu (Because you are not my mother, but my least breathe)
Aj haqiqat ko jana (Today I became aware about the reality)
Zindagi ke har kinare ka sath hai tu (You are my support for life)
Ye shabd nahi jazbaat hai mere (These are not words, but my emotions)
Warna dil-ae-fakir kya jaane (Else my poor heart does not know)
Meri muskan ka raaz hai tu (You are the secret of my smile)
-Rana Kaushalendra Pratap Singh (Poet)

Hindi Love Poem for Her-Suno

सुनो (कविता का शीर्षक )

सुनो, क्या दो पल मुझसे बात करोगी?
सुनो, ज़िन्दगी के सफ़र पर तुम मेरे साथ चलोगी?
सुनो, मेरी कहानियों से निकल तुम रास्ते में मेरा हाथ पकड़ोगी?
सुनो, तुम क्यों हर वक्त जानकर भी अनजान बनती हो
कुछ सीख तुम्हें भी तो मिली होगी
कि कैसे किया जाता है प्यार
एक बार फिर पूछता हूँ
सुनो क्या तुम मुझसे प्यार करोगी?
-बसंत चौधरी (कवि )

English Translation:

Suno (Listen)

Suno, kya do pal mujhse baat karogi? (Listen, will you talk to me for two seconds?)

Suno, zindagi ke safar par tum mere sath chalogi? (Listen, will you accompany me in the journey of life?)

Suno, meri kahaniyo se nikal tum raste mei mera hath pakdogi? (Listen, will you please come out of my dreams and hold my hand on the way?)

Suno, tum kyo har waqt jaan kar bhi anjaan banti ho? (Listen, why do you act naive even after knowing everything?)

Kuch seekh tumhein bhi to mili hogi (You might have also gained some experience)

Ki kaise kiya jata hai pyar (That how one is to be loved)

Ek baar phir poochta hoon (I am asking once again)

Suno, kya tum mujhse pyar karogi? (Listen, will you love me?)

-Basant Chaudhary (Poet)

Longing for Love Poem – Kash Kash

काश…काश…

कहने की हैं बातें
डरता हूँ
जब सोता हूँ रातें
सोचता हूँ

काश हम मिलें
कुछ बोलें
दर्द सिले
कुछ न टोले

चाहता नहीं हूँ
पर चाहता भी हूँ
क्यों यह रिश्ता
नहीं जाता बरिस्ता

चलो कुछ लम्हों के लिए
बन जाओ मेरे लिए
मैं रहूँ तुम्हारी बाहों में
और तुम मेरी सांसों में

काश …काश …

-रोहन भरद्वाज

Hindi Love Poem Expressing Love – दिल की इस दीवार पर

प्यार भरे शब्दों से कोई पैगाम लिखता हूँ।
तड़प कर जिया हूँ बरसों तक।
इस तड़प का कोई एहसास लिखता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
हँसा था जो तूने मुझे देख प्यार से।
उन जादू भरी नजरों का अंदाज लिखता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
नाम तेरा बेनाम है सावन का कोई पैगाम है।
बरसती हुई इन बूंदों में भीगा सी एक शाम है।
जीवन की हर शाम को आज तेरे नाम लिखता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
मेरी हर तमन्ना अधूरी थी तुझे पाने से पहले।
इन तमन्नाओं को आज जीने की वजह लिखता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
सीने में धड़कते दिल को तेरा खत मिल गया।
सायरो की भीड़ में एक सायर नया बन गया।
आज इसी सायरी को तेरे नाम लिखता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
मैं कोई शायर नहीँ न तू मेरी कोई कल्पना है।
तू हकीकत है तू इबारत है तू ही इस दिल की इबादत है।
दिल में तेरी मोह्बत का कलमा बार बार पढता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
दुआओं की भीड़ है तेरे लिये बहुत सी।
मगर मेरी भी एक दुआ छोटी सी कबूल कर लेना ऐ खुदा।
उसको रखना सदा दिल के पास।
कैसे कहूँ तुझे दिल से आज खुदा लिखता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
बस तेरा ही नाम लिखता हूँ।

-गौरव

Dil ki es diwar par tera naam likhta hoon
Pyar bhre shbdo se koi paigaam likhta hoon
Tadap kr jiya hu barso tak
Es tadap ka koi ehsas likhta hoon
Dil ki es diwar par tera naam likhta hoon
Hansa tha jo tune muje dekh pyar se
Un jadu bhari nazron ka andaaz likhta hoon
Dil ki es diwar par tera naam likhta h
Naam tera bennaam hai sawan ka koi paigaam hai
Barsti hue en bundo mein bhiga si ek sham hai
Jivan ki har shma ko aaj tere naam likhta hoon
Dil ki es diwar par tera naam likhta hoon
Meri har tamnna adhuri thi tujhe pane se pahle
En tamnnao ko aaj jine ki bajah likhta hoon
Dil ki es diwar par tera naam likhta hoon
Sine mein dhdkte dil ko tera khat mil gya
Shayron ki bheed me ek shayr nya ban gya
Aaj esi shayri ko tere naam likhta hoon
Mein koi shayar nahi na meri tu koi kalpana hai
Tu haqikat hai tu ebarat hai tu hi dil ki ebadat hai
Dil me teri muhabbat ka kalma bar bar padta hoon
Dil ki es diwar par tera naam likhta hoon
Duaao ki bheed hai tere liye bhut si
Magar meri bhi ek dua choti si kabool kar lena ae khuda
Usko rakhna sada dil ke paas
Kese kahu tujhe dil se aaj khuda likhta hoon
Dil ki es deewar par tera naam likhta hoon
Bas tera hi naam likhta hoon

-Gaurav

Hindi Love Poem Expressing Love-मेरी बात

आज फिर हमारी नज़रे मिली
वो मुझे देखकर मुस्कुराने लगी
उसके होठों की हसी मुझे बहाने लगी
मुझे लगा की आज अपने दिल की बात कह दूंगा
जो होगा उसे सच मान आगे बढ़ लूँगा
मगर उसे किसी और से प्यार था
वो तो किसी और पे मरती थी और
मैं उसके लिये सिर्फ उसका एक यार था
मेरे दिल में उसके लिये सिर्फ और सिर्फ प्यार था
इसलिये मेरी हिम्मत फिर से हार गयी
उससे अपने दिल की बात कहने की
अपने दिल के जज़्बात कहने की
वो खवाहिश फिर से खत्म कर दी
ये दिल की फ़रमाइश पूरी ना हो सकी और
फिर से मेरी बात अधूरी रह  गयी

– मनोहर मिश्रा

Aaj fir humari nazare mili
Vo mujhe dekhkar muskurane lagi
Uske hotho ki hasi mujhe bhane lagi
Mujhe laga ki aaj apne dil ki baat keh dunga
Jo hoga usse sach maan aage badh lunga
Magar usse kisi or se pyar tha
Vo to kisi or pe marti thi or
Mai uske lye sirf uska ek yaar tha
Mere dil me uske lye sirf or sirf pyar tha
Islye meri himmat fir se haar gayi
Usse apne dil ki baat kehne ki
Apne dil ke jazbaat kehne ki
Vo khawahish fir se khatm kar di
Ye dil ki farmaish puri na ho saki Or
Phir se meri baat adhuri reh gayi

-Manohar Mishra

 

Hindi Love Shayari for Her- तुम वो क़िताब हो

एक प्यार का पन्ना लिखने बैठे थे आपके लिये
लिख दी एक पूरी क़िताब ,क्योकि
आप वो पन्ना हैं जिसने हमें ज़िन्दगी की राह पर हर क़दम पर साथ दिया है
आप वो पन्ना है
जिसको एक बार कोई इंसान देख ले तो जैसे नशे में नाच उठता है
आप वो पन्ना है
जो हमारे हर सास में जैसे बस्ती हैं
आप वो पन्ना है
जो कोयल जैसे सबको अपनी आवाज़ से जगलेते हैं
आप वो पन्ना है
जो प्यार से नहीं महोब्बत से लिखा है
आप वो पन्ना है
जो जैसे शाह जहा और मुमताज़ की अमर दस्ता की हकदार है
और आप वो पन्ना है
जिसके दिल से हमारा दिल जुड़ा है

– एक अजनबी

 

Ek pyaar ka Panna likhne bethe the aapke liye
Likh Di ek puri kitab , Kyunki
Aap woh panna hain
Jisne humme zindagi ki rah par har kadam par saath Diya hai
Aap woh panna hain
Jisko ek baar koi insaan Dekh le toh jaise nache mein naach uthta hai
Aap woh panna hain
Jo Hummare har saas mein jaise basti hain
Aap woh panna hain
Jo koyal jaise sabko apni aavaz se jagalete hain
Aap woh panna hain
Jo pyaar SE nahi mohbbat se likha jai
Aap woh panna hain
Jo jaise shah jaha aur Mumtaz ki Amar Dasta ki hakdar hai
Aur aap woh panna hain
Jiske dil se hummara dil juda Hua hain

 – Ek Ajnabi

 

Hindi Love Poems-ऐसा लगता है

महफ़िल भी सुनी लगती है तेरा कसर लगता है,
ग़म भी खुशी लगती है तेरा असर लगता है।
है लगता हर पल सदियो-सा, बरसो-सा बिन तेरे;
तेरा दिल ही मुझे अब मेरा घर लगता है।
है चाहता ये दिल हर पल तेरे दीदार को,
तड़पता हूँ, बेचैन रहता हूँ
मामुली सा पत्थर भी संगेमरमर लगता है।
अनजाना-सा दुनिया की बातों से दिन-पल और रातों से,
ना किसी के कहने का असर ना वाकिफ़ हालातों से।
हद पार कर जाऊँगा तेरे इश्क़ में
दोगे ज़हर इम्तेहान के लिए तो भी पी जाऊँगा
तुझे याद करके मरूँगा नहीं,
हो जाऊँगा अमर लगता हैं ।

-हंसराज केरकर

Mehfeel bhi suni lagti Hai Tera kasar lagta Hai,
Gam bhi Khushi lagti Hai Tera asar lagta Hai.
Hai lagta har Pal Sadiyo sa, Barson sa bin Tere,
Tera Dil hi muze Ab Mera Ghar lagta Hai.
Hai chahta ye Dil Har Pal Tere Didar ko
Tadpta hu, bechain rehta hu
Mamuli sa Patthar bhi Sangemarmar lagta Hai.
Anjaana sa Duniya ki batoon se Din-Pal aur Raaton se
Na kisike kehne ka asar Na waqif halato se,
Had par Kar jaunga Tere Ishq me
Doge Jaher Imtehaan ke liye To bhi pee jaunga
tujhe yaad karke Marunga nhi,
ho jaunga Amar lagta Hai.

-Hansraj Kerekar