Hindi Love Poem on Separation- प्यार की धड़कन

बिछड़ी प्यार की धड़कने
आँखों में नमी दे
बन्द राहों की उलझनें जीने न दे
वो खामोशियाँ भी इश्क़ को ही तलाशे
कुछ अनकही सी ख्वाइशें
दिल तो छुपा दे ये मोहोब्बत
कैसा जो अंग अंग लुटा न दे……

-स्वेता

Bichadi pyaar ki dhadkaney
Aankhon mein nami de
Bandh raahon ki uljhan Jeene na de
Vo khamoshiyaan bhi Ishq ko hi talashe
Kuch ankahi si khwaahishey
Dil ne chupa de Yeh mohobbat
kaisa Jo ang ang luta na de

-Swetha

Hindi Love Poem for Him :  तुम हो मेरी जिंदगी

तुम हो मेरी जिंदगी का एक ऐसा आईना ,
जो टूट कर भी नहीं टूटता
बिखर कर भी नही बिखरता।
यही बात तुझे सबसे अलग करती है।
जी करता है कितनी करूँ तेरी तारीफ
चाह कर भी खत्म नहीं होता है ।
तुझे देख के जिनेवा का तमन्ना बढ़ जाती है,
तेरी बाते मुझे अपनी लगने लगती है।
तुझे देखा तो आईना देखने लगता हूँ
तु भी मुझे शायद अपना लगने लगता है।
तुम हो मेरी जिंदगी का एक ऐसा आईना,
जो टूट कर भी नही टूटता
बिखर कर भी नही बिखरता ।

-अंजली कुमारी  

Tum ho meri zindagi ka esa aaina
Jo toot kar bhi nahi tootata
Bikhar kar bhi nahi bikharta
Yahi baat tujhe sabse alag karti hai
Ji karta hai kitni karu teri tari
Chah kar bhi khatam nahi hota hai
Tujhe dekh ke jineva ka tamanna bad jati ha
Teri baatein muje apni lagane lagti hai
Tujhe dekha to aaina dekhne lagta hoon
Tu bhi mujhe sayad apna lagne lagta hai
Tum ho meri zindagi ka esa aaina
Jo tut kar bhi nahi tootata
Bikhar kar bhi nahi bikharta

-Anjali kumari   

Hindi Love Poem on Separation-आँखें जो खुली

आँखें जो खुली तो उन्हें अपने करीब पाया ना था
कभी थे रूह में शामिल आज उनका साया ना था
बेपनाह मोहब्बत की जिनसे उम्मीदें लिये बैठे थे
उनसे तन्हाइयों की सौगातें मिलेंगी बताया ना था
एक हम ही कसीदे हुस्न के हर बार पढ़ते रहे पर
उसने तो कभी हाल-ए-दिल सुनाया ना था
वो फिरते रहे दिल में ना जाने कितने राज लिये
हमने तो कभी उनसे जज्बातों को छुपाया ना था
जाने क्यों हम बेवजह मदहोश हुआ करते थे
जाम आँखों से तो कभी उसने पिलाया ना था
मीलों कब्ज़ा कर बना रखा था सपनों का महल पर
उसने वो ख़्वाब कभी आँखों में सजाया ना था
धड़कन ‘मौन’ हुई अब एक आह की आवाज़ है
शिकवा क्या उनसे जिसने कभी अपना बनाया ना था

-अमित मिश्रा

Aankhein jo khuli thi to unhe apne kareeb paya naa tha
Kabhi they ruh mein shamil aaj unka saya naa tha
Bepanaah mohabbat ki jinse umid liye beithe they
Unse tanhai ki saugate milegi btaya naa tha
Ek hum hi kaside husan ke har baar padte rahe par
Unse to kabhi haal ae dil sunaya naa tha
Wo firte rahe dil me naa jane kitne raaz liye
Hamne to kabhi unse jazbaton ko chupaya naa tha
Jane kyon hum bevajah madhosh hua karte they
Jaam aankhon se to kabhi usne pilaya na tha
Milon kabza kar bana rakha tha sapno ka mahal par
Usne wo khwab kabhi aankhon me sajaya na tha
Dhadkan maun hue ab ek aah ki aawaz hai
Shikwa kya unse jisne kabhi apna banaya naa tha

-Amit Mishra

Hindi Love Poem for Life Partner-हमसफ़र

आँखों ही आँखों में
बातें इशारों में
तुमने जो मुझसे कहीं है
ऐसा क्यों लगता है
जैसे की तुमको भी मुझसे
मोहब्बत हुई है
ऐ हमसफ़र,मेरे हमसफ़र
देखूँ हर जगह
आये तू ही नज़र
ऐ हमसफ़र, मेरे हमसफ़र
तारीफें तेरी
कैसे करे हम कैसे करे हम
ख्वाईशें हलचल मची है
दिल में ये मेरे दिल में जो मेरे
तुम आ गए सांसो में तू
मेरी बातों में तू
मैंने माँगा जिसे
वो दुआ तू ही तू
आँखों ही आँखों में
बातें इशारों में
तुमने जो मुझसे कही है
ऐसा क्यों लगता है
जैसे की तुमको को भी
मुझसे मोहब्बत हुई है
ऐ हमसफ़र मेरे हमसफ़र
देखूँ हर एक जगह
आये तू ही नज़र

-गौरव

Aankho hi aankhon mein
Baatein isharon mein
Tumne jo mujhse kahi hai
Aisa kyu lagta hai
Jaise ki tumko bhi
Mujhse mohabbat hui hai
Ae humsafar, Mere humsafar
Dekhu har ek jagah
Aaaye tu hi nazar
Ae humsafar,  Mere humsafar
Taarife teri
Kaise kare hum Kaise kare hum
Khwaishe Hulchal machi hai
Dil mein ye mere Dil jo mere
Tum aa gaye Saanso mein tu
Meri baaton mein tu
Maine manga jise
Wo dua tu hi tu
Aankhon hi aankhon mein
Baatein isharon mein
Tumne jo mujhse kahi hai
Aisa kyu lagta hai
Jaise ki tumko bhi
Mujhse mohabbat hui hai
Ae humsafar,Mere humsafar
Dekhu har ik jagah
Aaaye tu hi nazar

-Gaurav

Hindi Love Poem Expressing Love – दिल की इस दीवार पर

प्यार भरे शब्दों से कोई पैगाम लिखता हूँ।
तड़प कर जिया हूँ बरसों तक।
इस तड़प का कोई एहसास लिखता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
हँसा था जो तूने मुझे देख प्यार से।
उन जादू भरी नजरों का अंदाज लिखता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
नाम तेरा बेनाम है सावन का कोई पैगाम है।
बरसती हुई इन बूंदों में भीगा सी एक शाम है।
जीवन की हर शाम को आज तेरे नाम लिखता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
मेरी हर तमन्ना अधूरी थी तुझे पाने से पहले।
इन तमन्नाओं को आज जीने की वजह लिखता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
सीने में धड़कते दिल को तेरा खत मिल गया।
सायरो की भीड़ में एक सायर नया बन गया।
आज इसी सायरी को तेरे नाम लिखता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
मैं कोई शायर नहीँ न तू मेरी कोई कल्पना है।
तू हकीकत है तू इबारत है तू ही इस दिल की इबादत है।
दिल में तेरी मोह्बत का कलमा बार बार पढता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
दुआओं की भीड़ है तेरे लिये बहुत सी।
मगर मेरी भी एक दुआ छोटी सी कबूल कर लेना ऐ खुदा।
उसको रखना सदा दिल के पास।
कैसे कहूँ तुझे दिल से आज खुदा लिखता हूँ।
दिल की दीवार पर तेरा नाम लिखता हूँ।
बस तेरा ही नाम लिखता हूँ।

-गौरव

Dil ki es diwar par tera naam likhta hoon
Pyar bhre shbdo se koi paigaam likhta hoon
Tadap kr jiya hu barso tak
Es tadap ka koi ehsas likhta hoon
Dil ki es diwar par tera naam likhta hoon
Hansa tha jo tune muje dekh pyar se
Un jadu bhari nazron ka andaaz likhta hoon
Dil ki es diwar par tera naam likhta h
Naam tera bennaam hai sawan ka koi paigaam hai
Barsti hue en bundo mein bhiga si ek sham hai
Jivan ki har shma ko aaj tere naam likhta hoon
Dil ki es diwar par tera naam likhta hoon
Meri har tamnna adhuri thi tujhe pane se pahle
En tamnnao ko aaj jine ki bajah likhta hoon
Dil ki es diwar par tera naam likhta hoon
Sine mein dhdkte dil ko tera khat mil gya
Shayron ki bheed me ek shayr nya ban gya
Aaj esi shayri ko tere naam likhta hoon
Mein koi shayar nahi na meri tu koi kalpana hai
Tu haqikat hai tu ebarat hai tu hi dil ki ebadat hai
Dil me teri muhabbat ka kalma bar bar padta hoon
Dil ki es diwar par tera naam likhta hoon
Duaao ki bheed hai tere liye bhut si
Magar meri bhi ek dua choti si kabool kar lena ae khuda
Usko rakhna sada dil ke paas
Kese kahu tujhe dil se aaj khuda likhta hoon
Dil ki es deewar par tera naam likhta hoon
Bas tera hi naam likhta hoon

-Gaurav

Hindi Love Poem For Her – क़िस्मत

क़िस्मत क़िस्मत की बात है
जब से मिला हूँ तुझसे
तू मेरे साथ है
किस्मत ने हमे मिलाया था
एक दूसरे के साथ जीना सिखाया था
दूर हो कर भी पास रहना सिखाया था
किस्मत को काश मंज़ूर ना था
हमारा साथ रहना तभी
तेरी माँ को हमारे बारे में बताया था
दूर हो गये लेकिन
दिल अभी भी पास है
किस्मत किस्मत की बात है

-नामित जैस्वाल

Kismat kismat ki baat hai
Jab se mila hu tujhse,
Tu mere sath hai
Kismat ne hamme milaya tha,
Ek dusre ke sath jeena sikhaya tha
Dur ho kar bhi paas rehna sikhaya tha,
Kismat ko kaash manzoor na tha,
Humara sath rehnatabhi
Teri maa ko hamare barre me btaya tha,
Dur to ho gye, lekin
Dil abhi bhi paas hai,
Kismat kismat ki baat hai

Namit jaiswal

Hindi Love Poem For Her-जाने क्या रिश्ता है

जाने क्या रिश्ता है जाने क्या नाता है तुमसे
अनजाना सा एहसास है अनजानी सी राह है
जाने क्या चाहता है यह बावरा मन
इसकी लीला यही जाने
ना कहुँ तुझे चाँद का टुकड़ा
ना कहुँ तुझे मेरे लिये बनाया है
बस इतना कहुँ की तू जीने का सहारा है
जाने क्या रिश्ता है तुमसे जाने क्या नाता है
अनजानी सी राहों पर चलना
अनकही बातें महसूस करना
हर आहट में तुझे महसूस करना
शायद तुम्हे याद करने के तरीके बन गये है
तेरी आँखों की नमकीन मस्तियाँ क्यों घायल करे मुझे
इन एहसासों को कैसे बाँधू मैं
मैं खो जाऊँ तुम्हारी इन नशीली आँखों में
मैं फिर कहा जोर इस ज़माने को
जाने क्या रिश्ता है क्या नाता है तुमसे

-सोना

Jane kya rishta hai jane kya nata hai tumse
Anjana sa ehsas hai anjani si rahe hai
Jane kya chahta hai yeh bawra man
Iski leela yahi jane
Na khu tuje chand ka tukda
Na khu tuje mere liye banaya hai
Bs itna khu ki tu jine ka sahara hai
Jane kya rishta hai tumse jane kya nata hai
Anjani si raho par chalna
Ankahi baatein mehsus karna
Har aahat mai tumhe mehsus karna
Sayd tumhe yad krne ke tarike ban gye hai
Teri aankhon ki namkeen mastiyan kyu gayal kare muje
En ehsaso ko kese bandhu mai .
Mai kho jau tumhari in nashili aankho mai
Fir kha jaur is jamane ko
Jane kya rishta hai jane kya nata hai tumse..

-Sona

Hindi Love Poem Expressing Love-मेरी बात

आज फिर हमारी नज़रे मिली
वो मुझे देखकर मुस्कुराने लगी
उसके होठों की हसी मुझे बहाने लगी
मुझे लगा की आज अपने दिल की बात कह दूंगा
जो होगा उसे सच मान आगे बढ़ लूँगा
मगर उसे किसी और से प्यार था
वो तो किसी और पे मरती थी और
मैं उसके लिये सिर्फ उसका एक यार था
मेरे दिल में उसके लिये सिर्फ और सिर्फ प्यार था
इसलिये मेरी हिम्मत फिर से हार गयी
उससे अपने दिल की बात कहने की
अपने दिल के जज़्बात कहने की
वो खवाहिश फिर से खत्म कर दी
ये दिल की फ़रमाइश पूरी ना हो सकी और
फिर से मेरी बात अधूरी रह  गयी

– मनोहर मिश्रा

Aaj fir humari nazare mili
Vo mujhe dekhkar muskurane lagi
Uske hotho ki hasi mujhe bhane lagi
Mujhe laga ki aaj apne dil ki baat keh dunga
Jo hoga usse sach maan aage badh lunga
Magar usse kisi or se pyar tha
Vo to kisi or pe marti thi or
Mai uske lye sirf uska ek yaar tha
Mere dil me uske lye sirf or sirf pyar tha
Islye meri himmat fir se haar gayi
Usse apne dil ki baat kehne ki
Apne dil ke jazbaat kehne ki
Vo khawahish fir se khatm kar di
Ye dil ki farmaish puri na ho saki Or
Phir se meri baat adhuri reh gayi

-Manohar Mishra

 

Hindi Love Poem For Her – तो क्या हो गया

हाँ मचला था कुछ पल को दिल फिर सो गया
आज उससे फिर मिल भी लिये तो क्या हो गया
मोहब्बत की राहों में हर किसी को भटकना है
सामना उनसे अगर हो भी गया तो क्या हो गया
माना की ज़ख्म अभी अभी तो भरा था मेरा
उसके मिलने से हरा हो भी गया तो क्या हो गया
सच है की उसे भुलाने को वो गलियां छोड़ आया
उसने भी इसी शहर घर बनाया तो क्या हो गया
बस अभी तो मुस्कुराना शुरू ही किया था
मेरे फिर इन आँखों में आंसू आया तो क्या हो गया
कुछ मुझे भी अब उजाले रास आने लगे थे ‘मौन’
फिर अंधेरो में बिठाया तो क्या हो गया

-अमित मिश्रा

Haan machala tha kuch pal ko dil fir so gya
Aaj usse fir mil bhi liye to kya ho gya
Mohabbat ki rahon mein har kisi ko bhtkana hai
Samana unse agar ho bhi gya to kya ho gya
Mana ki jkham abhi abhi to bhara tha mera
Uske milne se hara ho bhi gya to kya ho gya
Such hai ki use bhulane ko wo galiyaan chor aaya
Usne bhi esi Shahar me ghar bnaya to kya ho gya
Bs abhi to muskurana shuru hi kiya tha
Mere fir en aankhon me aansu aaya to kya ho gya
Kuch muje bhi ab ujale raas aane lage they ‘maun’
Fir andhere me bithaya to kya ho gya

-Amit Mishra