Hindi Romantic Poetry -नज़रों की ज़ुबान

people-2563491__340.jpg

नज़रों की ज़ुबान
सिमटे वो हम में इस कदर
कि हमारे जज़्बात बह गये..
बरसों से दिल में बसे एहसास थम गये..
नज़रों नज़रों में होने लगी हमारी बातें..
आँखें बन गयी दिल की ज़ुबान..
कहने लगी तुम्हारे दिल की कहानी..
अब कोई कुछ ना कह पायेगा..
प्यार तुमसे बेपनाह है
आँखों आँखों में बयाँ हो जायेगा.
-गौरव

Nazron ki zubaan
Simate wo ham mein is kadar ki hamare jazbat bah gaye..
Barson se dil mein basey ehsaas tham gaye..
Nazron nazron mein hone lagi hamari batein..
Aankhein ban gayi dil ki zubaan..
Kahne lagi tumhare dil ki kahani..
Ab koi kuch na kah payega..
Pyar tumse bepanah hai
Aankhon aankhon mein bayan ho jayega.
-Gaurav

2 thoughts on “Hindi Romantic Poetry -नज़रों की ज़ुबान

Leave a Reply