Hindi Love Poem For Her – तुम जैसी हो अच्छी हो

है वो थोड़ी अजनबी सी, हर रात ख्वाबो में आती है।।
जी भर देखना चाहता हूँ उसे, उफ़ ये रात गुज़र जाती है…!!!!
कुछ कहना चाहता हूँ उससेे, बात होठो तक रुक जाती है।।
वो आँखों में देख कर मेरी, दिल की बात समझ जाती है…!!!!
समझ कर दिल की बातों को, लब्जो का इंतज़ार करती है।।
नादान इतना भी नही समझती, लब्ज़ नही आँखे बयां करती है…!!!!
मेने इज़हार भी नही किया उससे, मेने इकरार भी नही किया उससे।।
प्यार तो बहुत दूर की बात है, उसने इंकार भी नही किया मुझसे…!!!!
दिल चाहता है उसे बाहों में भर लू दिल चाहता है
उसके होठो को चूम लूँ।। दिल चाहता है
इस रात को यही रोक दू, दिल चाहता है
इस पल को कभी खोने न दूँ…!!!!

-सूरज सात्विक झा

Hai wo thodi ajnabi si, har raat khbabbon mein aati hai
Ji bhr k dekhna chahta hu use,uff ye raat gujar jati hai
Kuch khna chahta hu usse , baat hothon tak ruk jati hai
Wo aankhon me dekh kar mere dil ki bat smajh jati hai
Samjh kar dil ki baaton ko, labzon ka intezar karti hai
Nadan etna bhi nai samjhti,labz nahi aankhe byan krti hai
Maine izhar bhi nai kiya usse,maine ekrar bhi nai kiya usse
Pyar to bhut dur ki baat hai,usne enkar bhi nai kiya mujse
Dil chahta hai use bahon me bhr lu dil chahta hai
Uske hothon ko chum ludil chahta hai
Es raat ko yahi rok du,dil chahta hai
Es pal ko kabhi khone n du.

– Suraj saatvik jhaa

One thought on “Hindi Love Poem For Her – तुम जैसी हो अच्छी हो

Leave a Reply