Hindi Love Poem-Ab Dil Ye Meri Sunta Nahi


heart-3056182_960_720

अब दिल ये मेरी सुनता नहीं

बहुत समझाया है मैने इस दिल को
पर अब ये मेरी सुनता नहीं
हर धड़कन में अब तुम हो बसे
कि ये सपना कोई बुनता नहीं
तुम अब मेरे नही हो सकते ये दिल भी जानता है
पर इस दिल का क्या कसूर ये तो तुझे ही खुदा मानता है
तुम कहते हो जीवन में आगे बढ़ो सब ठीक होगा
लेकिन तुम्हें भी पता है कि तुम्हारी तरह कोई मुझे समझ सकता नहीं
बहुत समझाया है मैने इस दिल को
पर अब ये मेरी सुनता नहीं
भले ही ऊपरवाले ने हमारी जोड़ी ना बनाई हो
लेकिन इस जीवन में कुछ पल ही सही तेरे होने का एहसास हुआ , इससे बड़ी क्या खुदाई हो
बस दुआ है यही रब से…….
जब जिंदगी दे तो तेरे साथ नही तो जिंदगी ना दें
बहुत समझाया है मैने इस दिल को
पर अब ये मेरी सुनता नही
ऐ मेरे हमदम मुझपर एक और एहसान कर
आखिरी ख्वाहिश है दिल की यही समझकर
मेरा दिल तो रौशन है बस तेरे ही होने से
इसलिए इस दिल में तुम कभी अंधेरा करना नही
बहुत समझाया है मैने इस दिल को
पर अब ये मेरी सुनता नहीं

-प्रशांत आयुष वर्मा 

Ab Dil Ye Meri Sunta Nahi

Bahut samjhaya hai maine is dil ko 
Par ab ye meri sunta nahi
Har dhadakan mein ab tum ho base
Ki ye sapna koi bunta nahin
Tum ab mere nahin ho sakate ye dil bhee jaanata hai
Par is dil ka kya kasoor ye to tujhe hee khuda maanata hai
Tum kehte ho jeevan mein aage badho sab theek hoga
Lekin tumhein bhee pata hai ki tumhaaree tarah koee mujhe samajh sakata nahi
Bahut samjhaya hai maine is dil ko 
Par ab ye meri sunta nahi
Bhale hee uparavaale ne hamaaree jodee na banaee ho
Lekin ye jeevan mein kuchh pal hee sahee tumhaara hone ka ehasaas hua,

Isse badi kya khudai ho 
Bas dua hai yahi rab se …….
Jab jindagi de to tere saath nahin to jindagi na den
bahut samjhaya hai maine is dil ko
Par ab ye meri sunta nahi
Ae mere hamadam mujhapar ek aur ahasaan kar
Aakhri khvaahish hai dil kee yahee samajhakar
Mera dil to raushan hai bas tumhaara hee hone se
Isiliye is dil mein tum kabhee andhera karana nahin
Bahut samjhaya hai maine is dil ko
Par ab ye meri sunta nahi

-Prashant Aayush Verma

Order Customized 3D Animated Image for Your Love

love-image-anushka.gif

Now you can order a customized animated 3D image for your boyfriend, girlfriend, husband, wife, friend or valentine!

Each customized animation costs only INR 20 and will be delivered via email in  GIF file format.

Click here to order now!

Hindi Love Poem For Her – रात होते ही


 

रात होते ही फलक पे सितारे जगमगाते हैं
वो चुपके से दबे पांव मुझसे मिलने आते हैं
याद रहे बस नाम उनका भूल के जमाने को
वो चुनरी को इस तरह मेरे चेहरे पे गिराते हैं
सौ गम और हज़ार ज़ख़्म हो चाहे
दुनिया के हर दर्द भूल जाये
कुछ इस तरह गुदगुदाते हैं
डूब जाये ये कायनात तो हम नाचीज़ क्या हैं
इतनी मोहब्बत वो दामन में भर के लाते हैं
तिश्नगी कम ना होने पाये चाहत की
मुझमे प्यास बढाकर मेरी फिर वो मय बन जाते हैं
सख़्त हिदायत है हमे खुद पे काबू रखने की
रोक के हमको मगर वो खुद ही बहक जाते हैं
बयां करने को दास्तान-ए-इश्क़ लब्ज़ ना मिलें वो
यूँ हक़ मुझपे जताते हैं कि ‘मौन’ कर जाते हैं

-अमित मिश्रा

Raat hote hi falak pe sitare jagmgate hain
Wo chupke se dabe paaw mujse milne aate hain
Yaad rhe bus naam unka bhul ke jamane ko
Wo chunri ko es tarh mere chehre pe girate hain
So gum aur hzar jkham ho chahe
Duniya k har dard bhul jaye
Kuch es trah gudgudate hain
Dub jaye ye kaynaat to hum nachiz kya hain
Etni mhobbat wo daman mein bhar ke late hain
Tisngi kam na hone paye chahhat ki
Mujme pyas bdakar meri fir wo may ban jate hain
Skhat hidayat hai hme khud pe kabu rkhne ki
Rok k hamko magar wo khud hi bahk jate hain
Byan krne ko dastaan a ishq labz na mile wo
Yoon haq mujpe jatate hai ki moon kar jate hain

-Amit Mishra

Hindi Love Poem For Her – तुम जैसी हो अच्छी हो


है वो थोड़ी अजनबी सी, हर रात ख्वाबो में आती है।।
जी भर देखना चाहता हूँ उसे, उफ़ ये रात गुज़र जाती है…!!!!
कुछ कहना चाहता हूँ उससेे, बात होठो तक रुक जाती है।।
वो आँखों में देख कर मेरी, दिल की बात समझ जाती है…!!!!
समझ कर दिल की बातों को, लब्जो का इंतज़ार करती है।।
नादान इतना भी नही समझती, लब्ज़ नही आँखे बयां करती है…!!!!
मेने इज़हार भी नही किया उससे, मेने इकरार भी नही किया उससे।।
प्यार तो बहुत दूर की बात है, उसने इंकार भी नही किया मुझसे…!!!!
दिल चाहता है उसे बाहों में भर लू दिल चाहता है
उसके होठो को चूम लूँ।। दिल चाहता है
इस रात को यही रोक दू, दिल चाहता है
इस पल को कभी खोने न दूँ…!!!!

-सूरज सात्विक झा

Hai wo thodi ajnabi si, har raat khbabbon mein aati hai
Ji bhr k dekhna chahta hu use,uff ye raat gujar jati hai
Kuch khna chahta hu usse , baat hothon tak ruk jati hai
Wo aankhon me dekh kar mere dil ki bat smajh jati hai
Samjh kar dil ki baaton ko, labzon ka intezar karti hai
Nadan etna bhi nai samjhti,labz nahi aankhe byan krti hai
Maine izhar bhi nai kiya usse,maine ekrar bhi nai kiya usse
Pyar to bhut dur ki baat hai,usne enkar bhi nai kiya mujse
Dil chahta hai use bahon me bhr lu dil chahta hai
Uske hothon ko chum ludil chahta hai
Es raat ko yahi rok du,dil chahta hai
Es pal ko kabhi khone n du.

– Suraj saatvik jhaa

Romantic Hindi Poem – मेरी साँसे


मैं तो अपनी हर सांस में तुम्हें चाहूँगा ,
जो कभी ना ख़त्म हो जज्बात इस तरह ख़्वाबों मैं तुम्हे सजाऊँगा ,
मेरे तो दिन रात है तुमसे ,मैं तो इन सांसो के बाद भी तुम्हे हद से ज्यादा चाहुँगा
ना सुकून होता हो बिना तुम्हारे मुझे एक पल भी
इस कदर सांसो पर अपनी मैं तुम्हारा नाम लिख जाऊँगा
एक दिन ऐसा भी आयेगा के मैं अपने सारे एहसासों को समेट लूँगा
तुम हौसला तो रखो मैं तुम्हारी दूनिया में
तुम्हे अकेला छोड़ कर तुमसे बहुत्त दूर चला जाऊँगा। मेरी सोना।

-विशु

Mai toh apni har saans mai tumhe chahunga,
Jo kbhi na khtm ho jajbat iss trah khwabon mai tumhe sjaunga,
Mere toh din raat hai tumse, Mai toh in saanson ke baad bhi
tumhe hadd se jyada chahunga.
Na sukun hota ho bina tumhare mujhe ek pal bhi,
Iss kadar saansein per apni mai tumhara naam likh jaunga,
Ek din aisa bhi aayega k mai apne sare ehsaso ko samet lunga,
Tum hosla toh rkho mai tumhari duniya mai
tumhe akela chor kr tumse bhut door chla jaunga….. Meri Sona…..

-Vishu

Hindi Love Poem Expressing Love – मेरा दिल


प्यार अब कुछ इस कदर हम पर छा रहा है
मेरा दिल मुझे मेरे महबूब का हाल बता रहा है
बड़ा समझाया इस दिल ए नादान को
पर ये तो मस्त गगन में उड़ता चला जा रहा है
प्यार अब कुछ इस कदर हम पर छा रहा है
मेरा दिल मुझे मेरे महबूब का हाल बता रहा है
चाहता है अब ये दिलबर को अपने सामने हर पल
महसूस करना चाहता है उसकी सांसो को अपनी सांसो में हर पल
इसको भी खुद पर कुछ ज्यादा ही एतबार आ रहा है
प्यार अब कुछ इस कदर हम पर छा रहा है
मेरा दिल मुझे मेरे महबूब का हाल बता रहा है
कहता है बस कुछ दिन और। . फिर हम एक हो जायेंगे
जो जो सपने संजोये थे हमने। . सब पूरे वो हो जायेगे
अब तो गौरव को भी रिया का इंतज़ार हो रहा है
प्यार अब कुछ इस कदर हम पर छा रहा है
मेरा दिल मुझे मेरे महबूब का हाल बता रहा है
मिले थे जो कभी अनजान बनकर ,वो अब अपने हो जायेंगे
हर कोई शायद अब हमारे प्यार के साथ होगा
दिल को इस बात पर गुमान आ रहा है
प्यार अब कुछ इस कदर हम पर छा रहा है
मेरा दिल मुझे मेरे महबूब का हाल बता रहा है

-गौरव अग्रवाल

Pyar ab kuch is kadar ham par chaa raha hai…
Mera dil mujhe mere mehboob ka haal bata raha hai..
Bada samjhaya is dil e nadan ko..
Par ye to mast gagan me udta chala ja raha hai..
Pyar ab kuch is kadar hum par chaa raha hai…
Mera dil mujhe mere mehboob ka haal bata raha hai..
Chahta hai ab ye dilbar ko apne samne har pal
mehsoos karna chahta hai uski sanson ko apni sanson me har pal
Isko bhi khud par kuch jyada hi aitbar aa raha hai
Pyar ab kuch is kadar hum par chaa raha hai…
Mera dil mujhe mere mehboob ka haal bata raha hai..
Kahta hai bas kuch din aur..fir hum ek ho jayenge
Jo jo sapne sanjoye they humne .. sab poore vo ho jayenge
Ab to “Gorav “ko bhi “Riya” ka intezar ho rahahai
Pyar ab kuch is kadar hum par chaa raha hai…
Mera dil mujhe mere mehboob ka haal bata raha hai..
Mile they jo kabhi anjan bankar vo ab apne ho jayenge
Har koi shayad ab hamare pyar ke sath hoga..
Dil ko isi baat par guman aa raha hai…
Pyar ab kuch is kadar hum par chaa raha hai…
Mera dil mujhe mere mehboob ka haal bata raha hai..

-Gorav Aggarwall

Hindi Love Poem Expressing Love – जीवन को मेरे तूने महकाया


जीवन को मेरे तूने महकाया है ऐसे,
खुशबू से गुलिस्तां महकता हो जैसे।

हर जन्म रहे साथ बस तेरा,
सागर में पानी रहता हो जैसे।

बांहों में भर कर आगोश में ले लो,
सीप में मोती रमता हो जैसे।

छुपा लो दिन के किसी कोने में,
आँखों में कोई ख्वाब बसता हो जैसे।

तेरी जुदाई का असर ये हो चला अब,
पर कटा पंछी तड़पता हो जैसे।

कवि ‘राज़’ भी है नादान कितना,
दूर होकर भी कोई यूँ मिटाना है ऐसे ?

~राज़ सोरखी “दीवाना कवि”

Jivan ko mere tune mekaya hai ese
Khusbu se gulisthan mehkta hai jese

Har janam rhe sath bus tera
Sagar me pani rehta ho jese

Bahon me bhar kar aagosh mein le lo
Seep me moti ramta ho jese

Chupa lo din k kisi kone mein
Aankhaon me koi khbab basta ho jese

Teri judai ka asar ye ho chla ab
Par kta panchi tadpta ho jese

Kavi raj bhi hai nadan kitna
Dur hokar bhi yun mitana hai ese

~Raj sorkhi”diwana kavi”

Hindi Love Poem- तुम मिले


कभी तो वक़्त ठहरा होगा जो तुम मिले
क्या मुहब्बत की ओस गिरी होंगी जो तुम मिले
या खिंचती हुई पवनों ने छुआ था जो तुम मिले
समय की उस अबूझ पहेली में कोई तो बात थी जो तुम मिले
धीमी सी दिल की धकधक में कुछ तो था जो तुम मिले
तेरी पलकों के इशारे कुछ तो कह रहे थे जो तुम मिले
कुछ तो जोड़ रहा था तेरे दिल को मेरे दिल से जो तुम मिले
अब तुम ही बताओ इन इशारों की सदायें..
ये साजिश है या इत्तेफ़ाक जो तुम मिले सिर्फ तुम मिले?

-गौरव

Kabhi to waqt thaira hoga jo tum mile
Kya muhabbat ki os giri hogi jo tum mile
Ya khichti hui pavano ne chua tha jo tum mile
Samay ki us abujh paheli mei koi to baat hogi jo tum mile
Dheemi si dil ki dhakdhak mei kuch to tha jo tum mile
Teri palko ke ishare kuch to keh rahe the jo tum mile
Kuch to jod raha tha tere dil ko mere dil se jo tum mile
Ab tum hi batao in isharo ki saayein
Ye sazish hai ya ittfak jo tum mile sirf tum mile

– Gaurav