Hindi Love Poem Missing Her-वादा

woman-872815_960_720
मेरी आँखों में आंसू हैं
मगर मैं रो नहीं सकता,
तुझसे वादा किया है
उसे तोड़ नहीं सकता.
तुझे सीने से लगाना चाहता हूँ
मगर लगा नहीं सकता,
तुझे बाहों में भरना चाहता हूँ
मगर भर नहीं सकता .
तेरी खुश्बू मुझे छू के जाती है
मगर उसे मैं छू नहीं पाता हूँ,
तेरी याद बहुत आती है
मगर तेरी याद में रो नहीं पाता हूँ.
वादा जो किया है तुझसे
उसे मैं तोड़ नहीं सकता.
वो तेरा हाथों में हाथ कैसे भूल सकता हूँ,
वो तेरी नटखट सी मुस्कुराहट कैसे भूल सकता हूँ,
तुझे दी हुई कसमें
कैसे तोड़ सकता हूँ.
मेरी आँखों में आंसू हैं
मगर मैं रो नहीं सकता
तुझसे वादा किया है
उसे तोड़ नहीं सकता..
-कविता परमार

3 thoughts on “Hindi Love Poem Missing Her-वादा

Leave a Reply