Hindi Romantic Poem-आशिक़ बन कर

आशिक़ बन कर तेरे हो गये हम बदनाम

तेरे इश्क़ में आखिर आया है ये मुकाम

दर्दे दिल का मत पूछो अब हाल

दिन रात ये अब ये तड़पता है

दीदार हो जाये बस एक बार तेरा

करता हूँ मैं बस यही एक दुआ

-अनुष्का सूरी

Leave a Reply