Hindi Love Poem for Him :  तुम हो मेरी जिंदगी


तुम हो मेरी जिंदगी का एक ऐसा आईना ,
जो टूट कर भी नहीं टूटता
बिखर कर भी नही बिखरता।
यही बात तुझे सबसे अलग करती है।
जी करता है कितनी करूँ तेरी तारीफ
चाह कर भी खत्म नहीं होता है ।
तुझे देख के जिनेवा का तमन्ना बढ़ जाती है,
तेरी बाते मुझे अपनी लगने लगती है।
तुझे देखा तो आईना देखने लगता हूँ
तु भी मुझे शायद अपना लगने लगता है।
तुम हो मेरी जिंदगी का एक ऐसा आईना,
जो टूट कर भी नही टूटता
बिखर कर भी नही बिखरता ।

-अंजली कुमारी  

Tum ho meri zindagi ka esa aaina
Jo toot kar bhi nahi tootata
Bikhar kar bhi nahi bikharta
Yahi baat tujhe sabse alag karti hai
Ji karta hai kitni karu teri tari
Chah kar bhi khatam nahi hota hai
Tujhe dekh ke jineva ka tamanna bad jati ha
Teri baatein muje apni lagane lagti hai
Tujhe dekha to aaina dekhne lagta hoon
Tu bhi mujhe sayad apna lagne lagta hai
Tum ho meri zindagi ka esa aaina
Jo tut kar bhi nahi tootata
Bikhar kar bhi nahi bikharta

-Anjali kumari   

2 thoughts on “Hindi Love Poem for Him :  तुम हो मेरी जिंदगी

  1. दर्पण हमारे इंटीरियर को प्रतिबिंबित करने और प्यार या अस्वीकृति देखने के लिए काम करते हैं। आपकी कविता बहुत सुंदर है। वेनेज़ुएला से नमस्ते

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s