Hindi Love Poem for Him-Mujhe Tumse Ishq Ho Gaya

मुझे तुमसे इश्क़ हो गया
खुदा से मिला रहमत है तू
मेरे लिए बहुत अहम् है तू
तेरे प्यार का मुझपे रंग चढ़ गया
मुझे तुमसे इश्क़ हो गया
न न करते कब हाँ कर बैठी
दिमाग का सुनते सुनते कब दिल की सुन ली
बस इतना पता है तुमसे इश्क़ हो गया
कब हुआ कैसे हुआ बस हाँ तुमसे इश्क़ हो गया
तेरे ख्यालों में रहती हूँ
खुद से ही तेरी बातें करती हूँ
तेरे नाम से ही मुस्कुरा देती हूँ
तुम्हें खबर भी नहीं और मैं तुम्ही से बेइंतहा प्यार करती हूँ
खुदा की मुझपे नेमत है तू
मेरी बरकत है तू
तुझसे दिल का राब्ता हो गया
मुझे तुमसे इश्क़ हो गया
-अंजलि महतो

Mujhe Tumse Ishq Ho Gaya (I fell in love with you)
Khuda se mila rehmat hai tu (You are God’s blessing for me)
Mere liye bahut ahem hai tu (You are very important for me)
Tere pyaar ka mujhpe rang chadh gaya (I am colored in your love)
Mujhe tumse ishq ho gaya (I fell in love with you)
Na na karte kab haan kar baithi (I did not realize when I said yes after repeatedly saying no)
Dimaag ki sunnte sunte kb dil ki sun li (While listening to my brain, when did I listen to my heart)
Bas itna pata hai tumse ishq ho gaya (I only know that I have fallen in love with you)
Kab hua kaise hua bas haan tumse ishq ho gaya (I do not know when and how, but I fell in love with you)
Tere khayalon mein rehti hoon (I keep thinking about you)
Khud se hi teri baatein karti hoon (I talk to myself about you)
Tere naam se hi muskura deti hoon (I smile on listening to your name)
Tumhe khabar bhi nahin aur main tumhi se beinteha pyaar karti hoon (You are not even aware and I love you a lot)
Khuda ki mujhpe naimat hai tu (You are God’s blessing for me)
Meri barkat hai tu (You are my prosperity)
Tujhse dil ka raabta ho gaya (My heart made a connection with you)
Mujhe tumse ishq ho gaya (I fell in love with you)
-Anjali Mahto

Hindi Love Poem on Relationships-Ek Pehal Rishtey Ki Ore

एक पहल रिश्ते की ओर (कविता का शीर्षक )
सुनो… सुनो न!
कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें
और बदलके इस रिश्ते को ढेर सारा प्यार देते हैं !
चलो न, वक़्त रहते इस रिश्ते को सवार लेते हैं!
जो गलतियां तुमने की हैं, जो गलतियां मैंने की हैं!
साथ बैठके आज उन्हें सुधार लेते हैं
चलो न, वक़्त रहते इस रिश्ते को सवार लेते हैं
प्यार तुमको भी है, प्यार हमको भी है
आओ इस बात को मन से स्वीकार लेते हैं!
चलो न, वक़्त रहते इस रिश्ते को सवार लेते हैं
थोड़ा तुम मुझे समझ लो, थोड़ा मैं तुम्हें समझ लूँ!
और कारण इस तकरार का जान लेते हैं!
चलो न, वक़्त रहते इस रिश्ते को सवार लेते हैं
यूं तो तुम भी कुछ वायदे करते हो, और मैं भी करती हूँ!
आओ वायदे का दिल से ऐतबार करते हैं
चलो न वक़्त रहते इस रिश्ते को सवार लेते हैं
प्लीज़ चलो न
वक़्त रहते इस रिश्ते को सवार लेते हैं
आरती सैनी (कवयित्री)

English Translation:

Ek Pahal Rishtey Ki Ore (One step towards our relationship) (Title of the Poem)
Suno…. Suno na! (Listen, listen please)
Kuch tum badlo, kuch hum badle.. (Bring some change within you, I change too)
Aur badalke is rishte ko dher sara pyar dete hain… ! (And let us nurture our relationship with lots of love)
Chalo na, waqt rehte iss rishtey ko sawaar lete hain!(Come, let us strengthen our relationship while there is time)
Jo galtiya tumne ki hain, jo galtiya maine ki hain! (The mistakes you have made, the ones I have made)
Sath baithke aaj unhe sudhar lete hain.. (Let us correct them together today)
Chalo na, waqt rehte iss rishtey ko sawaar lete hain.. (Come, let us strengthen our relationship while there is time)
Pyar tumko bhi hai, pyar humko bhi hai ! (You love me, I love you too)
Aao iss baat ko mann se sweekar lete hain! (Come, let us confess this fact from our heart)
Chalo na waqt rehte Iss rishte ko sawaar lete hain.. (Come, let us strengthen our relationship while there is time)
Thoda tum mujhe samajh lo, thoda main tumhe samjh lu! (You understand me a little, I understand you a little)
Aur kaaran is takraar ka jaan lete hain! (And let is find out the reason for our conflict)
Chalo na, waqt rehte iss rishtey ko sawaar lete hain.. (Come, let us strengthen our relationship while there is time)
Yun to tum bhi kuch vaayede krte ho, or main bhi krti hu! (You make some promises to me, and I make some to you)
Aao aaj us wayede ka dil se aitbar krte hain.. (Come, let us trust each other’s promise today)
Chalo na waqt rehte iss rishtey ko sawaar hain…. (Come, let us strengthen our relationship while there is time)
Please chalo na…… (Please, come along)
Waqt rehte iss rishtey ko sawaar lete hain!! (Let us strengthen our relationship while there is time)
Arti Saini (Poetess)

Hindi Love Poem for Him-Ishq

इश्क़

ज़िक्र तेरा मेरी बातों में होने लगा है
तेरा हर ख्वाब आँखों में रहने लगा है
सोचते हैं हर पल बस अब तेरे ही बारे में
कैसे कहूँ मुझे इश्क़ अब तुझसे होने लगा है
जब देखे वो मुझे आँखें भी मानो शर्मा सी जाती हैं
मेरी हर अदा पर उसका जैसे पहरा सा रहने लगा है
देखूं जब भी आईना मैं अक्स उसका मुझमें दिखने लगा है
रहती हूँ हर वक़्त बस उसके ही ख्यालों में और दिल भी अजब सा धड़कने लगा है
-निशि

English Translations for International Audience:

Ishq (Love)

Zikr tera meri baaton me hone laga hai, (You have started coming up as a reference in my conversations)
Tera har khwaab aankhon me rehne laga hai, (Your every dream stays in my eyes)
Sochte hain har pal bas ab tere hi baare mein, (I keep thinking only about you every moment)
Kaise kahun mujhe Ishq ab tujhse hone laga hai, (How do I say that I have started falling in love with you)
Jab dekhe voh mujhe aankhein bhi mano sharma si jati hain, (Whenever he looks at me, even my eyes blush)
Meri har adaa pr uska jaise pehra sa rehne laga hai, (He keeps an eye on my every activity)
Dekhun jab bhi aaina main aks uska mujhme dikhne laga hai, (Whenever I look at the mirror, I see him in me)
Rehti hoon har waqt bs uske hi khayalon me aur dil bhi ajab sa dhadakna laga hai.. (I am engrossed only in his thoughts and my heart is also beating in an irregular manner)

-Nishi (Poet)

Hindi Poem for Him-Ishq

इश्क़
इश्क़ किया है तुमसे
तुम्हारी इबादत की है
दिल दिया है तुमको
तुमसे मुहब्बत की है

मेरे दिल के हो तुम राजा
तुम्हारे लिए है घर मेरा सजा
तुमसे ही दिन है मेरा
तुमसे ही मेरी रात है
तुम हो तो सब बात है
तुमसे ही सब जज़्बात हैं

मांगती हूँ बस खुदा से दुआ हर दिन
न दिन आये ऐसा जब रहना हो तुम्हारे बिन

-अनुष्का सूरी

Hindi Love Poem for Him :  तुम हो मेरी जिंदगी

तुम हो मेरी जिंदगी का एक ऐसा आईना ,
जो टूट कर भी नहीं टूटता
बिखर कर भी नही बिखरता।
यही बात तुझे सबसे अलग करती है।
जी करता है कितनी करूँ तेरी तारीफ
चाह कर भी खत्म नहीं होता है ।
तुझे देख के जिनेवा का तमन्ना बढ़ जाती है,
तेरी बाते मुझे अपनी लगने लगती है।
तुझे देखा तो आईना देखने लगता हूँ
तु भी मुझे शायद अपना लगने लगता है।
तुम हो मेरी जिंदगी का एक ऐसा आईना,
जो टूट कर भी नही टूटता
बिखर कर भी नही बिखरता ।

-अंजली कुमारी  

Tum ho meri zindagi ka esa aaina
Jo toot kar bhi nahi tootata
Bikhar kar bhi nahi bikharta
Yahi baat tujhe sabse alag karti hai
Ji karta hai kitni karu teri tari
Chah kar bhi khatam nahi hota hai
Tujhe dekh ke jineva ka tamanna bad jati ha
Teri baatein muje apni lagane lagti hai
Tujhe dekha to aaina dekhne lagta hoon
Tu bhi mujhe sayad apna lagne lagta hai
Tum ho meri zindagi ka esa aaina
Jo tut kar bhi nahi tootata
Bikhar kar bhi nahi bikharta

-Anjali kumari   

Hindi Love Poem for Life Partner-हमसफ़र

आँखों ही आँखों में
बातें इशारों में
तुमने जो मुझसे कहीं है
ऐसा क्यों लगता है
जैसे की तुमको भी मुझसे
मोहब्बत हुई है
ऐ हमसफ़र,मेरे हमसफ़र
देखूँ हर जगह
आये तू ही नज़र
ऐ हमसफ़र, मेरे हमसफ़र
तारीफें तेरी
कैसे करे हम कैसे करे हम
ख्वाईशें हलचल मची है
दिल में ये मेरे दिल में जो मेरे
तुम आ गए सांसो में तू
मेरी बातों में तू
मैंने माँगा जिसे
वो दुआ तू ही तू
आँखों ही आँखों में
बातें इशारों में
तुमने जो मुझसे कही है
ऐसा क्यों लगता है
जैसे की तुमको को भी
मुझसे मोहब्बत हुई है
ऐ हमसफ़र मेरे हमसफ़र
देखूँ हर एक जगह
आये तू ही नज़र

-गौरव

Aankho hi aankhon mein
Baatein isharon mein
Tumne jo mujhse kahi hai
Aisa kyu lagta hai
Jaise ki tumko bhi
Mujhse mohabbat hui hai
Ae humsafar, Mere humsafar
Dekhu har ek jagah
Aaaye tu hi nazar
Ae humsafar,  Mere humsafar
Taarife teri
Kaise kare hum Kaise kare hum
Khwaishe Hulchal machi hai
Dil mein ye mere Dil jo mere
Tum aa gaye Saanso mein tu
Meri baaton mein tu
Maine manga jise
Wo dua tu hi tu
Aankhon hi aankhon mein
Baatein isharon mein
Tumne jo mujhse kahi hai
Aisa kyu lagta hai
Jaise ki tumko bhi
Mujhse mohabbat hui hai
Ae humsafar,Mere humsafar
Dekhu har ik jagah
Aaaye tu hi nazar

-Gaurav

Hindi Love Poem For Him- साथ

 

तुम आकाश हो अगर कभी मैं रहूंगी धरा तुम्हारी
तुम पेड़ हो अगर कभी मैं रहूंगी छाया तुम्हारी
तुम अगर फूल बन जाओ मैं महकूँगी तुम्हारी महक
तुम अगर सागर बन जाओ तो छल्कुंगी बनकर तुम्हारी लेहेर
तुम मेरे तन के कण-कण में बसे रहोगे
मैं तुम्हारे मन के हर घर में बसी रहूंगी आएगा
जब अंतिम समय हमारा तुम्हारे साथ
तुलसी पत्र बनके आउंगी तुम कभी न होना अलग मुझसे
मैं कभी न बिछड़ूगी तुमसे ज़िन्दगी भर ही की तो बात है,
थोड़ी तुम काट लेना ; थोड़ी मैं बाँट लुंगी ।

-प्रियंका जोशी

Tum akash ho agar kabhi mein rahungi dhara tumhari ,
Tum ped ho agar kabhi mein rahungi chaya tumhari,
Tum agar phool ban jao mein mehekungi tumhari mehek,
Tum agar sagar ban jao to chalkungi bankar tumhari leher,
Tum mere tan ke kan – kan me bassey rahoge
mein tumhare man ke har ghar mein basi rahungi Ayega
jab antim samay hamara tumahre saath
tulsi patra banke aaungi Tum kabhi na hona alag mujhse
Mein kabhi na bichadungi tumse zindagi bhar ki hi to baat hai
thodi tum kaat lena, thodi mein baat lungi .

-Priyanka Joshi

Hindi Love Poem on Separation- ये जरुरी तो नहीं

हम जिसे चाहें वो भी हमें चाहे ये जरुरी तो नहीं,
मिले प्यार के बदले प्यार ये जरुरी तो नहीं।

मिलाकर मन कुछ लोग उतर जाते हैं दिल में,
हो मिलन तन का तन से ये जरुरी तो नहीं।

होते हैं कुछ लोग जो पा लेते हैं चाहकर कुछ भी,
हो सबका नसीब एक जैसा ये जरुरी तो नहीं।

सूरत मिल जाती है अक्सर कइयों से तेरी,
सीरत भी हो तुझसी ये जरुरी तो नहीं।

कवि ‘राज़’ मत रख हसरत किसी पर मरकर जीने की
सबके नसीब हो आसां मौत ये जरुरी तो नहीं।

~राज़ सोरखी “दीवाना कवि”

 

Hum jise chahe wo bhi hme chahe ye jaruri to nahi
Mile pyar k badle pyar ye jaruri to nahi

Milakar man kuch log mil jate hai dil mein
Ho milan tan ka tan se ye jaruri to nahi

Hote hai kuch log jo paa lete hai chah kar kuch bhi
Ho sabka nasib ek jesa ye jaruri to nahi

Surat mil jati hai aksar kaiyon se teri
Sirat bhi ho tujhsi ye jaruri to nahi

Kavi raj mat rakh hasrat kisi par markar jine ki
Sabke nasib ho aasaan mauot ye jaruri to nahi

~Raj sorkhi”diwana kavi”

 

 

Hindi Poem for Him – सब कुछ हार गया हूँ

ना सता यूँ, ए ज़िन्दगी ! की मन हार गया हूँ मैं,
जीत कर दुनिया सारी, सब कुछ हार गया हूँ मैं।

आ और आकर थाम ले हाथ मेरा ए मौला !
जीने की चाह में, मौत के पार गया हूँ मैं।

रिश्ते-नसीब-मेहनत सब आजमाए हैं मैंने,
पासे ही उल्टे पड़ते हैं अब, हर बाज़ी हार गया हूँ मैं।

दर-ब-दर मिली ठोकरें, हौसलों पर आंच ना आने दी,
अब जाकर टूटा हूँ, जब सब कुछ हार गया हूँ मैं।

कवि ‘राज़’ हो गई अब शान्त हर चिंगारी
होकर राख सब अरमान, मौत के पार गया हूँ मैं,

~राज़ सोरखी “दीवाना कवि”

Na stta yoon, aei zindagi! ki man haar gya hoon main
Jeet kar duniya sari sab kuch haar gya hoon main

Aa aur aa kar tham le hath mera aei maulla
Jine ki chah main maut k paar gya hoon main

Rishtei nasib mehanat sab ajmayein hain main
Paase hi ultei padte hai ab har baji haar gya hoon main

Dar b dar mili thokrei hoslon par aanch na aane di
Abb ja kar tutta hoon jab sab kuch haar gya hoon main

Kavi raaz ho gai ab shant har chingari
Ho kar raakh sab armaan maut ke paar gya hoon main

~Raj sorkhi”diwana kavi”