Hindi Love Poem-किस ओर

थम गई है सोच भी
थम गई है मंज़िल भी
ना कोई साथी है
ना कोई हमसफ़र
चलना तो है
लेकिन किस ओर
अँधेरे को चीर कर
जाना है कही
लेकिन किस ओर
और क्यूँ ?

-दिव्या

Tham gayi hai soch bhi
Tham gayi hai manzil bhi
Na koi sathi hai
Na koi ham safar
Chalana tho hai
Lekin kis or
Adhera ko cheer kar
Jana hai kai
Lekin kis or
Aur kyun ?

-Divya

4 thoughts on “Hindi Love Poem-किस ओर

Leave a Reply