Hindi Love Poem for Friendship – बचपन

वो बचपन अच्छा था
ये जवानी हार गई स्कूल के दिन अच्छे थे
ये कॉलेज की इंजीनियरिंग मार गई
वो मोज मस्ती तो स्कूल की थी
जहाँ पहली से ना छोड़ा दसवीं तक का साथ
वो स्कूल नहीं परिवार था
जहां सब एक दूसरे के लिए मरते थे
बिछडने का ना ग़म कोई और खुशी के पल साथ जिया करते थे
टिफिन कोई लाता था और खा कोई जाता था
पर भूखा कोई ना जाता था
फिर युँ निकले दिन और रातें
फिर शरुआत कॉलेज कि हुई
नऐ दोस्त नया परिवार फिर बनाने जा रहा था
अपने दिल को फिर से बहला रहा हूँ
वो मोज मस्ती शायद यहाँ भी हो पर
यहाँ ना कोई प्यार ना कोई परिवार
मतलब से मतलब रखता है
यहाँ हर एक इंसान दुनिया मानो मतलबी सी है
इसका एहसास कॉलेज मे आकर पता चला
फिर सोचा इससे अचछा तो स्कूल था
वो छुट्टी की घंटी सुनते ही वो भाग के कमरे से बाहर आना
फिर हँसते हँसते दोस्तों से मिल जाना
काश वो दोस्त आज भी मिल जाते
दिल में फिर से बचपन के फूल खिल जाते… !!!

-रोहित

Wo bachapan achha tha
Ye jawaani haar gai School k din ache the
Ye college ki engineering mar gai
Wo moj masti to school ki thi
Jaha pheli(1st) se na chhoda dasvi(10th) tk sath tha
Wo school ni pariwar tha
Jaha sb ek dusre k liye marte the
Bichadne ka na gam koi Or Khushi k pal sath jiya krte the
Tiffin koi lata tha or kha koi jata tha
Pr bhuka koi na jata tha
Phir uh nikle din or nikli raate
Fir shurat college ki hui
Naye dost naya pariwar dubara bnane ja rha hu
Apne dil ko fir se behla rha hu
Wo moj masti shyd
yaha bhi ho Pr yaha Na koi pyar na koi parwar
Mtlb se mtlb rkhta ha
yaha hr ek insaan Duniya mano matlbi si ha
Is ka ehsaas college me aakr pta chal
Fir socha ise acha to school tha
wo Chhutti ki ghanti sunte hi wo bhag ke kamre se bahar aana
Fir hanste hanste doston se mil jaana
Kaash woh dost aaj bhi mil jaate
Dil mein fir se bachpan ke phool khil jaaye..!!

– Rohit

Hindi Love Poem For Her-हाल-ए दिल

प्यार तो बहुत पहले से था
तुझसे बस तुझे खोने का डर था
तेरी नाराज़गी से मुझे तेरे दूर जाने का डर था
सोचा तो बहुत था बता दूँ
तुझे हाले दिल अपना पर
तुझसे बिछड़ जाने का डर था
इज़हार तो किया तुझसे
अपनी मोहब्बत का तुझे खुशी देकर,
तेरे गमों को भुलाने का पर तुझे -मुझसे
यूँ छिन जाने का डर था

-नीरज सिंह

Pyar to bahut pehle se tha
Tujhse Bas khone ka dar tha
Teri naarazgi se mujhe Tere door jane ka dar tha
Socha to bahut tha Bata du
Tujhe haal-a-dil apna Par
Tujhse bichhad jane ka dar tha
Izhaar to kiya tujhse
Apni mohabbat ka Tujhe khushi dekar ,
Tere gamon ko bhulane ka Par tujhe-mujhse
Yun chhin jane ka dar tha….

-Neeraj Singh

Hindi Love Poem-किस ओर

थम गई है सोच भी
थम गई है मंज़िल भी
ना कोई साथी है
ना कोई हमसफ़र
चलना तो है
लेकिन किस ओर
अँधेरे को चीर कर
जाना है कही
लेकिन किस ओर
और क्यूँ ?

-दिव्या

Tham gayi hai soch bhi
Tham gayi hai manzil bhi
Na koi sathi hai
Na koi ham safar
Chalana tho hai
Lekin kis or
Adhera ko cheer kar
Jana hai kai
Lekin kis or
Aur kyun ?

-Divya

Hindi Love Poem on Separation- ये जरुरी तो नहीं

हम जिसे चाहें वो भी हमें चाहे ये जरुरी तो नहीं,
मिले प्यार के बदले प्यार ये जरुरी तो नहीं।

मिलाकर मन कुछ लोग उतर जाते हैं दिल में,
हो मिलन तन का तन से ये जरुरी तो नहीं।

होते हैं कुछ लोग जो पा लेते हैं चाहकर कुछ भी,
हो सबका नसीब एक जैसा ये जरुरी तो नहीं।

सूरत मिल जाती है अक्सर कइयों से तेरी,
सीरत भी हो तुझसी ये जरुरी तो नहीं।

कवि ‘राज़’ मत रख हसरत किसी पर मरकर जीने की
सबके नसीब हो आसां मौत ये जरुरी तो नहीं।

~राज़ सोरखी “दीवाना कवि”

 

Hum jise chahe wo bhi hme chahe ye jaruri to nahi
Mile pyar k badle pyar ye jaruri to nahi

Milakar man kuch log mil jate hai dil mein
Ho milan tan ka tan se ye jaruri to nahi

Hote hai kuch log jo paa lete hai chah kar kuch bhi
Ho sabka nasib ek jesa ye jaruri to nahi

Surat mil jati hai aksar kaiyon se teri
Sirat bhi ho tujhsi ye jaruri to nahi

Kavi raj mat rakh hasrat kisi par markar jine ki
Sabke nasib ho aasaan mauot ye jaruri to nahi

~Raj sorkhi”diwana kavi”

 

 

Hindi Poem for Him – सब कुछ हार गया हूँ

ना सता यूँ, ए ज़िन्दगी ! की मन हार गया हूँ मैं,
जीत कर दुनिया सारी, सब कुछ हार गया हूँ मैं।

आ और आकर थाम ले हाथ मेरा ए मौला !
जीने की चाह में, मौत के पार गया हूँ मैं।

रिश्ते-नसीब-मेहनत सब आजमाए हैं मैंने,
पासे ही उल्टे पड़ते हैं अब, हर बाज़ी हार गया हूँ मैं।

दर-ब-दर मिली ठोकरें, हौसलों पर आंच ना आने दी,
अब जाकर टूटा हूँ, जब सब कुछ हार गया हूँ मैं।

कवि ‘राज़’ हो गई अब शान्त हर चिंगारी
होकर राख सब अरमान, मौत के पार गया हूँ मैं,

~राज़ सोरखी “दीवाना कवि”

Na stta yoon, aei zindagi! ki man haar gya hoon main
Jeet kar duniya sari sab kuch haar gya hoon main

Aa aur aa kar tham le hath mera aei maulla
Jine ki chah main maut k paar gya hoon main

Rishtei nasib mehanat sab ajmayein hain main
Paase hi ultei padte hai ab har baji haar gya hoon main

Dar b dar mili thokrei hoslon par aanch na aane di
Abb ja kar tutta hoon jab sab kuch haar gya hoon main

Kavi raaz ho gai ab shant har chingari
Ho kar raakh sab armaan maut ke paar gya hoon main

~Raj sorkhi”diwana kavi”

Emotional Hindi Love Poem – तेरे मेरे बीच के पल

यह पल धीरे धीरे बीत जायेंगे
कुछ नये पल इसमें जुड़ जाएंगे
कुछ पलों बाद तुम इनको याद करके मुस्कुराओगे
नये खूबसूरत पलों में पुरानी बातें
सोच के हमेशा ही खिल खिलाओगे
सोचेंगे कितने नादान थे हम
जो ऐसे रूठा करते थे
वो बचपन था हमारा जो ज़िद कर लिया करते थे
मनाना तो हमे भी आता था
पर तुम्हारे मनाने का इंतज़ार किया करते थे
वो पल थे हसीन
जब आये तुम मेरे करीब
तेरी मौजूदगी ही सब कुछ है
तू मेरा आसमां तू ही मेरी ज़मीन है
हर मोड़ पे तेरा साथ है
मेरे लिए सारी बातें तेरे बाद है
तेरी आँखे बातें प्यारी लगती है
तेरी सारी आदतें मुझे सबसे न्यारी लगती है
खुश्बू तेरी बहो की हम से ऐसे जुड़ गयी
ना चाहते हुये भी हमारी ज़िन्दगी बन गयी

–कविता परमार

Yeh pal dheere dheere beet jayenge,
Kuch naye pal isme jud jayenge,
Kuch palo bad tum inko yad karke muskuraoge,
Naye khubsurat palo main purani bate,
Soch ke hamesha hi khilkhilaoge,
Sochoge kitne nadan the hum,
Jo aise rutha karte the,
Vo bachpana tha hamara jo zidd kar liya karte the,
Manana to hume bhi aata tha,
Par tumhare manane ka intzar kiya karte the,
Muskurana to hame bhi aata tha,
Par tumhare muskuraht ka intazar kiya krte the,
Vo pal the haseen,
Jab aaye tum mere karib,
Teri mouzudgi hi sab kuch hai,
Tu hi mera aasama tu hi meri zameen hai,
Har mod pe tera sath hai
Mere liye sari bate tere bad hai,
Teri ankahi bate pyari lagti hai,
Teri sari aadte mujhe sabse nyari lagti hai,
khushboo teri baho ki hum se aise jud gayi,
Na chahte huye bhi hamari zindgi ban gyi.

–Kavitha parmar

Waiting for love Hindi Poem – हमसफ़र का इंतेजार

woman-872815_960_720

दिल को इंतेजार है उस हमसफ़र का जो आने वाला है,
जो मेरे ख्वाबों की दुनिया का राजकुमार बनें वाला है,
जिस के आने की आहट ही दिल को बेताब कर जाती है,
नजरें खुद-बा-खुद झुक जाती हैं,
पलकें उठाऊँ तो आइना भी ठिठोलिया किया करता है,
पूछता है किसने बढ़ाई है ये गालोँ की रंगत,
किसने जगाई है ये इश्क़ की चाहत,
कितना हँसा करता है,
अब कैसी है बेताबी आईने को बताऊँ कैसे,
किस कदर बह रहा है
हसरतों का तूफ़ान ये जताऊं कैसे,
कैसे कहूँ की दिल करता है
आँखों में काजल सजाऊँ,
होंटों पे शबनमी इश्क़ की लाली लगाऊँ,
सीने से लगाके उसको बस उसके प्यार में खो जाऊँ,
अब कैसे कहूँ किस कदर दिल बेकरार है,
दिल को सायद किसी हमसफ़र का इंतेजार है।

-गौरव

Dil ko intezaar hai us humsafar ka jo aane wala hai
Jo mere khbabo ki duniya ka rajkumar bne wala hai
Jiske aane ki aahat dil ko betab kr jati hai
Nazre khud wa khud jhuk jati hai
Palke uthau to aaena bhi thitholiya kiya krta hai
Phuchta hai kisne bnai hai ye galon ki rangat
Kisne jgai hai ye ishq ki chahat
Kitnna hsa krta hai
Ab kesi hai betabi aaene ko bulaun kese
Kis kadar beh rha hai
Hasraton ka tufaan yei jataun kese?
Kese khun dil krta hai
Aankhon main kajal sajaun
Hothon pe shbnami ishq ki lali lgaun
Sine se lga k usko
Bas uske pyar main kho jau
Ab kese khun kis kadar dil bekrar hai
Dil ko sayd kisi humsafar ka intzar hai

-Gaurav

Hindi Poem for Love – वो आये हमारी जिंदगी में इस तरह

sc

वो आये हमारी जिंदगी में इस तरह
की हमें खुद से मिला दिया
हमने पूछा उस से की क्या न्यौछावर करें आप पे
तो आके उन्होंने धीमे से मेरे कानो में कहा
मुझे सिर्फ आप चाहिये जिंदगी जीने के लिये

– रुबी ग्रोवर

Wo aaye hamari jindagi mein is tarah …
ki hamein khud se mila diya…
hamne pocha us se ki kya nyauchaavar karein ap pe…
to aake unhone dheeme se hamare kaano mai kha….
Muje sirf aap chaiye jindagi jeene ke liye…

– Ruby Grover

Hindi Shayari for Wife – कितनी प्यारी

wife poem

तुम हो कितनी सुँदर
तुम हो कितनी प्यारी
तभी तो बनाया तुमको
मैंने बीवी हमारी
हंसती हो जैसे हो फुलवारी
सारी पहनके लगती कितनी न्यारी
बोल तुम्हारे मीठे
जैसे हो शहद की धारी 
बाल तुम्हारे घने काले
जैसे हो जंगल बाड़ी
अच्छा अब कह दूँ तुमको
ई लव यू प्यारी

-अनुष्का सूरी

Tum ho kitni sundar
Tum ho kitna pyari
Tabhi to banaya tumko
Maine biwi hamari
Hasti ho jaise ho phulwari
Sari pehanke lagti kitni nyari
Bol tumhare meethe
Jaie ho shehad ki dhari
Bal tumhare ghane kale
Jaise ho jungal badi
Acha ab keh du tumko
I love you pyaari

-Anushka Suri