Hindi Love Poem – पलकों की ओट से

model-1525629_960_720 (2)

देखे मैंने कई ख़्वाब पलकों की ओट से।
झुकी झुकी नजरों से भीगी हुई पलकों की ओट से।
सिमटे रहते हो तुम कहीँ गहरे से जाल में।
जैसे कह रहे हो अपना बनालो पलकों की ओट से।
कजरारे से इन नैनों में नमी का ना कोई साथ हो।
भीगी गर तेरी पलकें हो
तो आंसू मुझमेँ साज हों।
इन आंसुओ में भीग ले कहती है
नजर तेरी पलकों की ओट से।
बिन कहे पढ़ ले मुझे ना कह पायी नजरें कभी।
फिर भी कह रही धड़कने अपना बना ले फिर सही पलकों की ओट से।

-गौरव

Dekhe maine khbab palko ki ot se
Jhuki jhuki nazro se bhigi hue palko ki ot se
Simtei rhte ho tum khi ghare se jaal mein
Jese keh rhe ho apna bnalo palko ki ot se
Kjrare se en nano main nami ka na ho koi sath
Bheegi agar teri palke ho
To aansu mujme saaz ho
En aansuon mein bhig le khti hai
Nazr teri palko ki ot se
Bin khe padh le mujhe nai keh pai nazre kabhi
Fir bhi keh rhi dhdkane apna bna le fir shi palko ki ot se

-Gaurav

Leave a Reply