Hindi Love Poem For Her – तो क्या हो गया


हाँ मचला था कुछ पल को दिल फिर सो गया
आज उससे फिर मिल भी लिये तो क्या हो गया
मोहब्बत की राहों में हर किसी को भटकना है
सामना उनसे अगर हो भी गया तो क्या हो गया
माना की ज़ख्म अभी अभी तो भरा था मेरा
उसके मिलने से हरा हो भी गया तो क्या हो गया
सच है की उसे भुलाने को वो गलियां छोड़ आया
उसने भी इसी शहर घर बनाया तो क्या हो गया
बस अभी तो मुस्कुराना शुरू ही किया था
मेरे फिर इन आँखों में आंसू आया तो क्या हो गया
कुछ मुझे भी अब उजाले रास आने लगे थे ‘मौन’
फिर अंधेरो में बिठाया तो क्या हो गया

-अमित मिश्रा

Haan machala tha kuch pal ko dil fir so gya
Aaj usse fir mil bhi liye to kya ho gya
Mohabbat ki rahon mein har kisi ko bhtkana hai
Samana unse agar ho bhi gya to kya ho gya
Mana ki jkham abhi abhi to bhara tha mera
Uske milne se hara ho bhi gya to kya ho gya
Such hai ki use bhulane ko wo galiyaan chor aaya
Usne bhi esi Shahar me ghar bnaya to kya ho gya
Bs abhi to muskurana shuru hi kiya tha
Mere fir en aankhon me aansu aaya to kya ho gya
Kuch muje bhi ab ujale raas aane lage they ‘maun’
Fir andhere me bithaya to kya ho gya

-Amit Mishra

Hindi Love Poem – पलकों की ओट से


model-1525629_960_720 (2)

देखे मैंने कई ख़्वाब पलकों की ओट से।
झुकी झुकी नजरों से भीगी हुई पलकों की ओट से।
सिमटे रहते हो तुम कहीँ गहरे से जाल में।
जैसे कह रहे हो अपना बनालो पलकों की ओट से।
कजरारे से इन नैनों में नमी का ना कोई साथ हो।
भीगी गर तेरी पलकें हो
तो आंसू मुझमेँ साज हों।
इन आंसुओ में भीग ले कहती है
नजर तेरी पलकों की ओट से।
बिन कहे पढ़ ले मुझे ना कह पायी नजरें कभी।
फिर भी कह रही धड़कने अपना बना ले फिर सही पलकों की ओट से।

-गौरव

Dekhe maine khbab palko ki ot se
Jhuki jhuki nazro se bhigi hue palko ki ot se
Simtei rhte ho tum khi ghare se jaal mein
Jese keh rhe ho apna bnalo palko ki ot se
Kjrare se en nano main nami ka na ho koi sath
Bheegi agar teri palke ho
To aansu mujme saaz ho
En aansuon mein bhig le khti hai
Nazr teri palko ki ot se
Bin khe padh le mujhe nai keh pai nazre kabhi
Fir bhi keh rhi dhdkane apna bna le fir shi palko ki ot se

-Gaurav

Hindi Love Poem – याद बस तू


sdd

ख्याल तू
गुज़रता हर साल तू,

वो दो-चार दिनों की मुलाकात तू
मेरी कविताओं में बसी हर बात तू,

मेरे होठों की मुस्कराहट तू
होने वाली हर आहट तू,

ज़िंदगी का हर अहसास तू
कुछ गंदा-बच्चा सा, कुछ खास तू,

तेरी मैं और मेरी पहचान तू
दिल में बसा हर अरमान तू,

मेरे आईने की हर सूरत तू
दिल के मंदिर की इकलौती मूरत तू

कभी “धूप”, कभी छाँव तू, कभी रात है तू
जो ना कही कभी होठों से वो बात है तू,

मेरा गुरूर तू-मेरी औकात तू
खुदा की रहमत से मिली ऐसी शौगात तू….

-राज सोरखी 

 

Khyal tu
Gujarta har sal tu

wo do char dino ki mulakat tu
meri kavitaon me fasi bat tu

mere hoton ki muskrahat tu
haone wali har aahat tu

zindgi ka har ehsas tu
kuch ganda bcha sa, kuch khas tu

teri main aur meri phachaan tu
dil main bsa har armaan tu

mere aaene ki har surat tu
dil k mandir ki eklauti murat tu

kabhi dhub kabhi chav tu kabhi rat hai tu
jo na kabhi khi hotho se wo baat hai tu

mera grur tu meri aukaat tu
khuda ki rehmat se mili esi sogaat tu

-Raaj Sorkhi

Hindi Love Story – मेरी कहानी


young-people-412041_960_720

आज में अपना सब कुछ गवाए बैठा हूँ ,
जाने कौन-कौन से दर्द सीने से लगाये बैठा हूँ ,
ठोकरे और रुस्वाइयां मिलने के बावजूद भी
कुछ यादो को दिल के आइनों में छुपाये बैठा हूँ ,

अश्कों की बरसात होती ही रहती है इन आँखों में,
फिर भी इनमे कुछ हसीं सपने सजाये बैठा हूँ ,
मिले कांटे ही हमें जिस राह पैर भी चले हम
में ज़माने की हर राह को आजमाए बैठा हूँ ,

निग़ाहें मिलायी थी हमने तुमसे वफा की चाह में ,
वफा के बदले सीने पर अपने जखमो को खाए बैठा हूँ ,
किसी कीमत पर नहीं झुका सिर मेरा कभी किसी के आगे
बस तेरे लिए ही इसे कब से झुकाये बैठा हूँ ,

कही लग न जाये काँटा कोई तेरे पाव में ,
इसलिए रास्तो पर तेरे कलिया फैलाये बैठा हूँ ,
सिर्फ तुम्हारा प्यार पाने के खातिर
में ज़माने के बाकि सारे सुखो को ठुकराये बैठा हूँ ,

कभी तो आकर देख ले एक बार ,
तेरी यादो में , मै खुद को लुटाए बैठा हूँ ,
बस तेरे प्यार का ही कर्ज बाकी है मुझपर
वरना ज़माने के हर कर्ज को चुकाए बैठा हूँ ,

खुद भी न जाने ‘कब उठ जाये अर्थी मेरी’ ,
बस तेरे इन्तेजार मै दिल को सजाये बैठा हूँ ,

-नीरव

Aaj me apna sab kuch gabayein betha hoon
Jane kon kon se dard sine se lgaye betha hoon
Thokre aur ruswai milne k babjud bhi
Kuch yado ko dil k aaeno mein chupaye betha hoon

Ashko ki barsat hoti rhti hai en aankho mein
Fir bhi enme kuch hasi spne sjaye betha hoon
Mile kante hi jis rah pr bhi chle hum
Main jmane ki har rah ko ajmaye betha hoon

Nigaahe milayi thi hmne tumse bfa ki chah mein
Bffa k badle apne sine pr apne jkhmo ko khaye betha hoon
Kisi kimat par nai jhuka seer mera kbhi kisi k aage
Bas tere lye hi ese kab se jhukaye betha hoon

Khi lag na jaye koi kanta tere paw mein
Eslye rasto par tere kliyaan falaye betha hoon
Sirf tumahra pyara pane k khatir
Main jmane k baki sare sukho ko thukare betha hoon

Kabhi to aa kar dekh le ek bar
Teri yado mein main khud ko lutaye betha hoon
Bas tere pyar pyar ka hi karj baki hai mujpar
Vrna jamane kei har karj ko chukaye betha hoon

Khud bhi na jane kb uth jaye arthi meri
Bas tere entejar me dil ko sajaye betha hoon

 –Neerav 

Hindi Shayari for Girlfriend- तेरी आँखों की मस्ती


love_car-wallpaper-1366x768

तेरी आँखों की मस्ती
तेरी शोख अदा
तेरी मीठी बातें
ये हंसी मुलाकातें
यूं ही चलती रहे
हम मिलते रहे
तू है कितनी भोली
तू है इतनी प्यारी
तू ही बता दे
तुझे कैसे न चाहें
मेरे अंदर भी  तू
मेरे बहार भी तू
मेरी सांसें
मेरी राहें
सब में बसी तू
तू ही मेरी पूजा
तू ही मेरी सेवा
तुझे चाहने की अलावा
न जानू काम दूजा
तू ही मेरा मंदिर
तू ही मेरी मूरत
तू ही है जाना
बस मेरी ज़रूरत
तुझको पुकारूँ
तुझको निहारूं
तुझको ही चाहूँ
तुझको ही पा लूँ
यही है चाहत
बस एक बार
बस एक बार

-अनुष्का सूरी

Hindi Love Shayari for Her-दिल ने कहा


one_heart-wallpaper-1366x768

दिल ने कहा सुबह सुबह
तू कहाँ
खोजूं कहाँ मैं बता
तेरे निशाँ
दिल की हुकूमत तू
दिल की  ज़रूरत तू
तू कहाँ
वो लम्हे जो साथ बीते
वो यादें जो दिल में सीचे
वो बातें वो वादे
ढूंढें तुझे यहाँ
तू कहाँ

-अनुष्का सूरी

Hindi Love Poem for Girlfriend-जान तेरे नाम


लाल गुलाब की क्या मजाल animated_rose1.
जो तुम्हारे सामने खिल जायें
तुम एक बार इशारा करदो
हम यहीं धूल हो जायें
झील सी गहरी नीली आँखें
मीठी मीठी मिश्री सी बातें 
लम्बे काले घनेरे बाल
हाय मतवारी तेरी चाल
अगर हो जाये कुछ गुस्ताखी
आज दे देना हमको माफी
जबसे तुमको देखा है
खुद से हुये बेगाने
तुम को बार बार सोचा है
तू माने या ना माने
आज मैं भी एक एलान करता हूँ
मैं ये जान तेरे नाम करता हूँ
-अनुष्का सूरी