Hindi love Poem on Separation-बिरह


girl-517555_960_720
आज जब वो बहुत दूर है तो
ये बिरह के आंसू थमते ही नहीं
और कहते हैं-बिरह के ये पल
शोलों से चुभ जाते हैं,
याद करके तुझको पल पल
आँखों मैं आंसू लाते हैं,
काँटो सी हैं चुभती रातें,
पल पल आग लगाती हैं,
जलती रहती पल पल
मुझको तेरी याद दिलाती हैं,
खाली सा है ये मन मेरा,
तेरे प्यार को तरसे है,
मंद मंद सी होती साँसें,
सीने में हलचल मचाती हैं,
बोझिल होती मेरी आँखें
गम के आंसू लाती हैं,
ना समझती हो तुम मेरी बातें,
ना समझेंगी अब ये आँखें,
ये तो पल पल आंसू बहायेंगी,
याद तुझे पल पल करके
ये तो रोती जाएंगी,
ये तो रोती जाएंगी
-गौरव

One thought on “Hindi love Poem on Separation-बिरह

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s