Miss her love poem -Aisa Laga

ऐसा लगाक्यों ऐसा लगा मैंने उसे देखाक्यों ऐसा लगा मैंने उसे सोचारातें ये दिनसिर्फ उसकी यादों मेंखोए रहते हैंपर इक खामोशी की चादर मेंछुपकर सोए रहते हैंन दिखाते हैं चेहरा अपनाआंसू भी इनकीआँखों में ख्वाब पिरोए रहते हैंआज उसकी यादें कुछ कहना चाहती हैंमरे इन सपनों को अपना बनाना चाहती हैंहो सकता है देख रहा […]

Read More

Hindi Love Poem on Relationship-Rishtey Ki Ehmiyat

रिश्ते की एहमियतजड़ों में ज़ख्म लग जायेंतो शाखें सूख जाती हैं,मिले हों मन अगरतो बातें रास आती हैं,दो लोगों की ज़रूरत कोकोई क्या जान पाया है,जुदाई एक दूजे कीअहमियत को बताती है ।भदौरिया निहारिका (रचनाकार ) Meaning with English Translations (for international and non-Hindi readers): Rishtey Ki Ehmiyat (The Importance of a Relationship) Jadon mein […]

Read More

Hindi Love Poem on Separation- प्यार की धड़कन

बिछड़ी प्यार की धड़कने आँखों में नमी दे बन्द राहों की उलझनें जीने न दे वो खामोशियाँ भी इश्क़ को ही तलाशे कुछ अनकही सी ख्वाइशें दिल तो छुपा दे ये मोहोब्बत कैसा जो अंग अंग लुटा न दे…… -स्वेता Bichadi pyaar ki dhadkaney Aankhon mein nami de Bandh raahon ki uljhan Jeene na de […]

Read More

Hindi Love Poem on Separation-आँखें जो खुली

आँखें जो खुली तो उन्हें अपने करीब पाया ना था कभी थे रूह में शामिल आज उनका साया ना था बेपनाह मोहब्बत की जिनसे उम्मीदें लिये बैठे थे उनसे तन्हाइयों की सौगातें मिलेंगी बताया ना था एक हम ही कसीदे हुस्न के हर बार पढ़ते रहे पर उसने तो कभी हाल-ए-दिल सुनाया ना था वो […]

Read More

Hindi Love Poem For Her – तो क्या हो गया

हाँ मचला था कुछ पल को दिल फिर सो गया आज उससे फिर मिल भी लिये तो क्या हो गया मोहब्बत की राहों में हर किसी को भटकना है सामना उनसे अगर हो भी गया तो क्या हो गया माना की ज़ख्म अभी अभी तो भरा था मेरा उसके मिलने से हरा हो भी गया […]

Read More

Hindi love poem on separation-जीवन जीना हो तो

जीवन जीना हो तो कुछ तो खोना ही पड़ेगा, चाह कर भी किसी को खोना ही पड़ेगा, मिलना ना मिलना तो तकदीर का खेल है। अपनी तक़दीर ही समझ कर खुद को समझना ही पड़ेगा। कुछ तो कमी रही है जो ये सजा मिली है। दिल मे हा है और ना चाहते हुए भी हमे […]

Read More

Hindi love Poem on Separation-बिरह

आज जब वो बहुत दूर है तो ये बिरह के आंसू थमते ही नहीं और कहते हैं-बिरह के ये पल शोलों से चुभ जाते हैं, याद करके तुझको पल पल आँखों मैं आंसू लाते हैं, काँटो सी हैं चुभती रातें, पल पल आग लगाती हैं, जलती रहती पल पल मुझको तेरी याद दिलाती हैं, खाली […]

Read More