Hindi Prem Kavita -प्यार की खातिर

फूलो सी सुन्दर प्यारी एक हसी की खातिर
हवा से झूमती पत्तियों की एक टहनी की खातिर
बादलों को चुमते आसमानी पंछियों की खातिर
आकश में टिमटिमाते अनगिनत तारों की खातिर
मेरी आखों में थोड़ी नमी की खातिर
मुझे तेरी खलती कमीं की खातिर
कि आजा अब मिलने मेरे प्यार की खातिर

4 thoughts on “Hindi Prem Kavita -प्यार की खातिर

  1. Tere ishq me dooba hun
    Tujhme hi beh jaunga
    Na jaane tujhse kb mai keh paunga
    Tujhpe hi mrta hun
    Pyr khoob karta hun

    Bs tujhse ye kehne se darta huu….
    I love u

Leave a Reply