Hindi Love Poem for Her -रूठूँ  जो तुमसे

रूठूँ  जो तुमसे मुझे मना लेना दूर अगर हो जाऊँ तो मुझे बुला लेना दिल दिया है तुमको नाज़ुक मेरा हाये देखो संभालना ज़रा कहीं गिर न ये जाये फूलो से खुश्बू लेना तुम पंछियो के पंख मन को लगा लेना तुमसे बहुत मोहब्बत करते हैं हम कहीं कभी हमको न भुला देना रोज़ मिलना […]

Read More

Hindi Poem on Love – कैसे बताऊँ तुम मेरे दिल के कितने करीब हो

कैसे बताऊँ तुम मेरे दिल के कितने करीब हो जो धरती पर जन्नत दिखा दे वही मेरे नसीब हो तुम जो चलते हो लगता है हवा चली हो हल्की हल्की तुम जो कुछ कह दो तो लगता है बजा हो गीत सुरीला तुम्हारा रंग है गोरा जैसे हो मद्धम धूप तुम्हारे बाल हैं काले जैसे […]

Read More

Hindi Love Poem-तेरी आंखो मे जो अजब सा नशा है

तेरी आंखो मे जो अजब सा नशा है क्या बताऊँ दिल किस कदर तुझ पर फिदा है उफ तेरी ज़ुल्फ़ों का वो घना अंधेरा चुराता है दिल जैसे हो कोई लुटेरा तेरे गाल पर वो जो काला काला तिल है हाये उसे देख मचलता ये दिल है वो तेरा बार बार मुझसे नज़रें चुराना और […]

Read More

Hindi Love Poem-क्या बताऊँ कैसे सुनाऊँ

क्या बताऊँ कैसे सुनाऊँ किस हाल में हूँ तेरे साथ तो आकाश में था आज पाताल में हूँ तुझ बिन कटते नहीं दिन ना कटती हैं रात मुझे याद आती हैं तेरी प्यारी सी मीठी मीठी बातें तुझको पाकर के खुल गये थे अपने नसीब पर तुझको खोकर हो गया मैं आज फिर गरीब हर […]

Read More

Hindi Love Poem-आँखें बन जायें जब दिल की ज़ुबा

आँखें बन जायें जब दिल की ज़ुबा तो कैसे करें दिल की हालत बयान वो ठंडी रातें वो भीगी बरसातें वो प्यार में डूबी उसकी भोली बातें वो उसका रुक रुक कर धीरे धीरे चलना और उसको आता हुआ देख इस दिल का मचलना काश कुछ बदल जाये अपनी भी ये तकदीर बनूं मैं उसका […]

Read More

Hindi Love Poem-आँखों में है मेरी जो थोड़ी सी नमी

आँखों में है मेरी जो थोड़ी सी नमी क्या बताऊँ तुम्हें बस हैं तुम्हारी ही कमी याद करके तुम्हें नहीं थकता है ये दिल या खुदा आई है ये कैसी मुश्किल तुम्हारी आँखों का वो छलकता पानी लफ्ज़ निकलते थे जो तुम्हारी ज़ुबानी आज भी याद हैं मुझे वो सुबह और शाम जो मैं करता […]

Read More

Hindi Love Poem-अब तो तेरी ही याद में

अब तो तेरी ही याद में तड़पता है मेरा ये दिल तू ही तो है मेरे प्यार की वो मंज़िल तुझे खोजा है मैने जाने कितने ठिकानों मे कभी अपनो में तो कभी कुछ बेगानों में अब राहत है इस दिल को कि तू मेरे पास है तुझे क्या मालूम तू मेरे लिये कितनी खास है तेरी […]

Read More

Hindi Love Poem – बस और प्यार

प्यार की मंज़िल क्या है बस और प्यार दिल के समंदर का साहिल तू ही है यार तू मेरा दिलबर तू ही है मेरा प्यार तेरा ही तो रात दिन मैं करूँ इंतज़ार बस एक तेरे लिये ही है मेरा दिल बेकरार बढ़ता जा रहा है अब ये खुमार तुझको पुकारे मेरा ये दिल बार […]

Read More

Hindi Love Poem-बहुत दिन गुज़र चुके

बहुत दिन गुज़र चुके तेरी जुदाई में कटती है मेरी रातें आज भी तन्हाई में तुझे याद करके आज भी में रोता हूँ क्या बताऊँ न कुछ पाता बस खोता हूँ तेरी वो प्यारी सी मुस्कान याद आती है तेरी वो हँसी की आवाज़ मेरे कानो में गुदगुदाती है तेरे वो मीठे बोल आज भी […]

Read More

Hindi Love Kavita -आँखों के रास्ते

आँखों के रास्ते छलकता जो पानी है  क्या बताएं आप से प्यार की एक निशानी है  नाम सुनकर आपका दिल जोर से यूँ धड़कता है  याद में बस आपकी रात दिन ये तड़पता है  मिल लो आकार मुझे करलो याद मुझे भी  मुझे दिल देकर देखो चैन आयेगा तुम्हें भी  प्यार के इस खेल में […]

Read More

Hindi Prem Kavya – हर पल

हर पल हम इस बात का इज़हार करते हैं  बार बार न जाने क्यों हम आपसे ही प्यार करते हैं  आप दिख जाओ तो हो जाती है अपनी सुबह  आप ने ही तो दी हैं मुझे जीने की एक वजह  आप के बिना फीकी मेरी हर सुबह शाम है  आप के बिना इस दिल को […]

Read More

Hindi Prem Kavita-रेशम की डोरी

रेशम की डोरी से हैं तेरे बाल गोरी हिरणी जैसे तेरे नैन कर लेते हैं दिल चोरी मिश्री से मीठी लगती हैं तेरी बातें हसीं होती हैं अपनी मुलाकातें अब रहना तुझ बिन है बड़ा मुश्किल अब जल्दी से आकार तू मुझे मिल resham ki dori se hain tere baal gori hirni jaise tere nain […]

Read More

Hindi Prem Kavita -प्यार की खातिर

फूलो सी सुन्दर प्यारी एक हसी की खातिर हवा से झूमती पत्तियों की एक टहनी की खातिर बादलों को चुमते आसमानी पंछियों की खातिर आकश में टिमटिमाते अनगिनत तारों की खातिर मेरी आखों में थोड़ी नमी की खातिर मुझे तेरी खलती कमीं की खातिर कि आजा अब मिलने मेरे प्यार की खातिर

Read More

Hindi Prem Kavita-फूलों  से तेरे चेहरे पर

फूलों  से तेरे नाज़ुक चेहरे पर खिलती है जब एक मुस्कान सारे बगीचों में मच जाता है शोर सब भंवरे हो जाते हैं हैरान यूँ तो तेरी मोहब्बत में सोचतें हैं हम भी पा लें कोई मुकाम तेरे चाहने वालों की उस कतार में अपना भी एक हो जाये नाम इश्क की गलियों से गुजरने […]

Read More