Hindi Love Poem on Separation -तेरा सहारा है


नहीं होता है एहसास किसी को किसी के दिल के दर्द का
क्यों करता है ग़ुनाह की किसी के दिल को दुखाने का

क्यूँ ये दर्द इतना इतना गहरा है
फिर भी इसमें ना कोई पहरा है

मैंने तो मौत को करीब से देखा है
फिर भी वक़्त मेरे इंतज़ार में ठहरा है

क्यों नहीं समझता है कोई अपना अपनों के दिल के दर्द को
वो अपने ही क्या जो किसी अपने के दिल को दुखा के किसी गैर के पास जाके ठहरा है

नहीं होता है बर्दास्त ये जानकर
कि मेरा अपना हो गया पराया है

क्यों छीन लेता है कोई किसी की खुशियों को
क्या भगवन के घर अँधेरा है

कौन हूँ मैं क्या है मेरी पहचान
क्या इस दर्द का नहीं कोई किनारा है

मेरा तो घर परिवार भी अपना नहीं रहा
अब तो बस एक तेरा ही सहारा है

तुम भी चले गये अगर मुझसे दूर
मैं कैसे कहूँगी की ये रिश्ता हमारा है

कसम है रब की ये जिस्म क्या
ये जान ये दिल तुम्हारा है

-पूनम

Nahi hota hai ehsas kisi ko kisi ke dil ke dard ka,
Kyun karta hai gunah koi kisi ke dil ko dukhane ka,

Kyun ye dard itna gehra hai,
Fir bhi ismein na koi pehra hai.

Maine to maut ko karib se dekha hai,
Fir bhi waqt mere intzar me thehra hai.

Kyun nahi samajhta hai koi apna apnon ke dil ke dard ko,
Wo apne hi kya jo kisi apne ke dil ko dhukha ke kisi gair ke paas jake thehra hai.

Nahi hota hai bardasht ye jaankar
ki ab mera apna ho gaya paraya hai.

Kyun chhin leta hai koi kisi ki khushiyo ko,
Kya Bhagwan ke ghar aandhera hai.

Kaun hun main kya hai meri pehchan,
Kya is dard ka nahi koi kinara hai.

Mera to ghar parivar bhi aapna nahi raha,
Ab to bus ek tera hi sahara hai.

Tum bhi chale gaye agar mujhse dur,
Main kaise kahungi ki ye rishta humara hai.

Kasam hai rab ki ye jism kya
Ye jaan, ye dil tumhara hai

– Punam

2 thoughts on “Hindi Love Poem on Separation -तेरा सहारा है

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s