Hindi Love Poem on Pain-मैं तन्हा हूँ


मैं तन्हा हूँ मुझे तन्हा ही रहने दो
देखकर मेरे बहते आंसू
तुम अपने लहू न बहने दो
मैं आपका दीवाना हूँ
मुझे बस अपना पागल रहने दो
मिट गया जो सवेरा मेरा
अब कैसे खोजूं घर मैं तेरा
मुझे रोशनी से नफरत सी है
ए मेरे दोस्त तुम मुझे अब
चांदनी के काजल में रहने दो
वो किस्से क्या जो मुझे रुलाते रहें
वो सपने क्या जो मुझे जलाते रहें
अब मैं बेफिक्र सा हो गया हूँ
आप मुझे आबारा ही रहने दो
तेरी गलियों को भूल सा गया हूँ
मैं वो तेरी बातों को खो सा गया हूँ
मैं अब तुम भी मुस्कुराओ
जी भर के और मुझे भी
ज़िन्दगी बात करने दो।।

-अभी राजा फर्रुखाबादी

Main tanha hoon muje tanha hi rahne do
Dekhkar mere bahte aansu
Tum apna lahu na bahne do
Main aapka diwana hoon
Mujhe bas apna pagal rahne do
Mit gya jo swera mera
Ab kese khoju ghar main tera
Muje roshni se nafrat si hai
Aei mere dost mum mujhe
Chandani ke kajal mein rahne do
Wo kisse kya jo muje rulate rahe
Wo sapne kya jo muje jalate rahe
Ab main befikar sa ho gya hoon
Aap mujhe aawara hi rhne do
Teri galiyon ko bhul sa gya hoon
Main wo teri baaton ko kho sa gya hoon
Main ab tum bhi muskurao
Ji bhar ke aur mujhe bhi
Zingadi baat karne do

-Abhi Raja Farukhabadi

 

 

 

Hindi Love Poem on Separation-आखिरी मुलाकात


काश दिल की बात दिल में ही रह जाती
तब ये दुनिया तेरे मेरे बीच ना आती
तब ना होती ये दूरियां और ना ही कोई खामोशी
बस तु अनजान होकर भी अनजाना ना होता
तब अगर हो जाती मुलाकात तो
मुस्कुराने का एक बहाना भी होता
ख्यालों में ही सही पर तेरे पास होने का
एहसास तो होता काश तब दिल की बात
दिल में ही रह जाती तब तेरे दूर होने का
कोई गम ना होता और ना होती
कोई आखिरी मुलाकात

-अनन्या

Kash dil ki baat dil me hi rah jati
Tab yeh duniya tere mere bich na aati
Tab na hoti yeh duriya aur na hi koi khamoshi
Bas tu anjan hokar bhi anjana n hota
Tab agar ho jati mulakat to
Muskurane ka ek bhana bhi hota
Khayalo me hi sahi pr tere pas hone ka
Ehsas to hota kash tab dil ki baat
Dil me hi rah jati tab tere dur hone ka
Koi gam na hota aur na hoti
Koi aakhiri mulakat

-Ananya

Hindi Love Poem on Separation -तेरा सहारा है


नहीं होता है एहसास किसी को किसी के दिल के दर्द का
क्यों करता है ग़ुनाह की किसी के दिल को दुखाने का

क्यूँ ये दर्द इतना इतना गहरा है
फिर भी इसमें ना कोई पहरा है

मैंने तो मौत को करीब से देखा है
फिर भी वक़्त मेरे इंतज़ार में ठहरा है

क्यों नहीं समझता है कोई अपना अपनों के दिल के दर्द को
वो अपने ही क्या जो किसी अपने के दिल को दुखा के किसी गैर के पास जाके ठहरा है

नहीं होता है बर्दास्त ये जानकर
कि मेरा अपना हो गया पराया है

क्यों छीन लेता है कोई किसी की खुशियों को
क्या भगवन के घर अँधेरा है

कौन हूँ मैं क्या है मेरी पहचान
क्या इस दर्द का नहीं कोई किनारा है

मेरा तो घर परिवार भी अपना नहीं रहा
अब तो बस एक तेरा ही सहारा है

तुम भी चले गये अगर मुझसे दूर
मैं कैसे कहूँगी की ये रिश्ता हमारा है

कसम है रब की ये जिस्म क्या
ये जान ये दिल तुम्हारा है

-पूनम

Nahi hota hai ehsas kisi ko kisi ke dil ke dard ka,
Kyun karta hai gunah koi kisi ke dil ko dukhane ka,

Kyun ye dard itna gehra hai,
Fir bhi ismein na koi pehra hai.

Maine to maut ko karib se dekha hai,
Fir bhi waqt mere intzar me thehra hai.

Kyun nahi samajhta hai koi apna apnon ke dil ke dard ko,
Wo apne hi kya jo kisi apne ke dil ko dhukha ke kisi gair ke paas jake thehra hai.

Nahi hota hai bardasht ye jaankar
ki ab mera apna ho gaya paraya hai.

Kyun chhin leta hai koi kisi ki khushiyo ko,
Kya Bhagwan ke ghar aandhera hai.

Kaun hun main kya hai meri pehchan,
Kya is dard ka nahi koi kinara hai.

Mera to ghar parivar bhi aapna nahi raha,
Ab to bus ek tera hi sahara hai.

Tum bhi chale gaye agar mujhse dur,
Main kaise kahungi ki ye rishta humara hai.

Kasam hai rab ki ye jism kya
Ye jaan, ye dil tumhara hai

– Punam

Sad Hindi Love Poems- गम-ए-महफ़िल



गम-ए-महफ़िल मे रुतबा हमारा और था
आशिकों की भीड़ मे रुतबा हमारा और था
फख्त हर वक्त आरजु उनकी बस दिल्लगी थी
कैसे समझाते ‘साहिल’, लिये तिरे जज्बा हमारा और था।
यू तो कई शख्सियते,शहर मे रूबरू थी
कुछ ख्वाहिशे तो,कुछ को पाने की आरजु थी
हर दफ़ा किसी बहाने नजरे चुरा ही लेते हम
पर इस दफा न जाने,वो चेहरा नुराना और था॥

– साहिल

Gum a mahfil mein rutba hamara aur tha.
Aashikon ki bheed me rutwa hmara aur tha
Faqkat har waqt aarju unki bus dillaggi thi
Kese samjhate sahil
Liye tere jazbba hamara aur tha
Yoon to skhsiyatein sher me ru b ru thi
Kuch khwaishe to kuch ko pane ki aarju thi
Har dfa kisi bhane nazre chura hi lete hum
Par es dafa na jane wo chehra nurana aur tha

Sahil

Cross-Cultural Love Story-बला होते


inside_out_sadness___disney_pixar-wallpaper-1366x768

ज़ालिम , सितमगर , क़ातिल या बला होते
तुम कुछ भी होते पर मेरी क़िस्मत में तो होते

कुछ और जगह रखते अपने महल में मुलाजिम की
तेरे सजदे में सर झुकाते और तेरी ख़िदमत में हम होते

कभी चखने तो आते तुम मेरी नज़्मों के जाम को
फिर रोज़ पिया करते तेरी आदत में हम होते

तेरे काले लिबास पर करते नारंगी ज़रदोजी
बस टाँकते चाँद सितारे और बड़ी राहत में हम होते

तुम्हें मिलता बड़ा सौदा और वो भी बड़ा सस्ता
तेरी एक झलक की बस लागत में हम होते

तुम होते रंगरेज मेरे फिर चाहे जिस रंग में रंगते
कितना खिल के आते जो तेरी रंगत में हम होते

तुम हो जाते खुदा हमारे हम तुम्हारी इबादत करते
बस एक खुदा होता तो ना मज़हबी झंझट में हम होते
-सौरभ आनंद

How to read:

Zalim sitamgar quatil ya balaa hote
Tum kuch bhi hote par meri kismat me to hote

Kuch aur jagah rakhte apne mahal me mulazil ki
Tere sajde me ser jhukate aur teri khidmat me hum hote

Kabhi chakne to aate tum meri nazmo ke jaam ko
Fir roz piya karte teri adat me hum hote

Tere kale libaas par karte narangi zardozi
Bus tankte chaand sitare aur badi rahat me hum hote

Tumhe milta bada sauda aur vo bhi bada sasta
Teri ek jhalak ki bus lagat me hum hote

Tum hote rangrez mere fir chahe his rang me rangte
Kitna khil ke aate jo teri rangat me hum hote

Tum ho jate khuda humare hum tumhari inadat karte
Bus ek khuda hota to na majhani jhanjhat me hum hote

-Saurabh Anand