Sad Hindi Love Poems- गम-ए-महफ़िल


गम-ए-महफ़िल मे रुतबा हमारा और था
आशिकों की भीड़ मे रुतबा हमारा और था
फख्त हर वक्त आरजु उनकी बस दिल्लगी थी
कैसे समझाते ‘साहिल’, लिये तिरे जज्बा हमारा और था।
यू तो कई शख्सियते,शहर मे रूबरू थी
कुछ ख्वाहिशे तो,कुछ को पाने की आरजु थी
हर दफ़ा किसी बहाने नजरे चुरा ही लेते हम
पर इस दफा न जाने,वो चेहरा नुराना और था॥

– साहिल

Gum a mahfil mein rutba hamara aur tha.
Aashikon ki bheed me rutwa hmara aur tha
Faqkat har waqt aarju unki bus dillaggi thi
Kese samjhate sahil
Liye tere jazbba hamara aur tha
Yoon to skhsiyatein sher me ru b ru thi
Kuch khwaishe to kuch ko pane ki aarju thi
Har dfa kisi bhane nazre chura hi lete hum
Par es dafa na jane wo chehra nurana aur tha

Sahil

2 thoughts on “Sad Hindi Love Poems- गम-ए-महफ़िल

Leave a Reply