Posted in Emotional Hindi Love Poems, Hindi Love Poem, Hindi Love Poem Expressing Love, Hindi Love Poem For Boyfriend, Hindi Love Poem For Him, Hindi Love Poem for Husband, Hindi love poems, Hindi Love Poems by Readers, Hindi Love Shayari for Him

Hindi Poem for Him – नयनों में काजल लगा के चली


love-1643452_960_720

आज मैं नयनों में काजल लगा के चली
पलकों पर आपकी खूबसूरत तस्वीर सजा के चली
दिल की धड़कनों को साँसों में छुपा के चली
थोड़ा इतरा के चली
सावन की मयूरी सी बलखा के चली
लहराती हवाओं में केशों को बिखरा के चली
थोड़ा शर्मा के चली
अल्फ़ाज़ों में मीठी सरगमों को मिला के चली
उलझी बेचैनियों को सुलझा के चली
सच्ची मुहब्बत अपनी रूह में बसा के चली
दुनिया की हर खूबी हांथों की लकीरों में ठहरा के चली
अब तो बोल दो कि मैं आपकी ज़िन्दगी हूँ
आपकी खुशियों की बन्दग़ी हूँ
आपकी तक़दीर में संवरती आपकी जीवन संगनी हूँ
अब बस करो बोल भी दो कि मैं ही आपकी अर्धांगिनी हूँ

-संघमित्रा मौर्य

Aj mai nayano me kajal laga ke chali,
Palko par apki khubsoorat tasveer saja ke chali,
Dil ki dhadkano ko sanso me chhupa ke chali,
Thoda itra ke chali,
Sawan ki mayoori si balkha ke chali,
Lahraati hawaao me kesho ko bikhra ke chali,
Thoda sharma ke chali,
Alfaazo me mithi sargamo ko mila ke chali,
Uljhi bechaniyo ko suljha ke chali,
Sachhi mohabbat apni rooh me basa ke chali,
Duniya ki har khoobi hatho ki lakiro me thahara ke chali,
Ab to bol do ki mai apki jindagi hu, apki khushiyo ki bandagi hu,
Apki taqdeer me sawarti apki jeewan sangini hu,
Ab bas karo bol bhi do ki mai hi apki ardhangini hu

-Sanghmitra Maurya

Author:

Official Publisher for poetry on hindilovepoems.com

6 thoughts on “Hindi Poem for Him – नयनों में काजल लगा के चली

  1. वाह लाजवाब कविता लिखा आपने……पढ़कर मन में कुछ भाव आया…शेयर कर रहा हूँ शायद आपको पसंद आये.
    आँखों का काजल बोल रहा,
    आँखों में अपने रहने दो,
    दिल की धड़कन भी बोल उठी,
    सांसों में मुझको रहने दो,
    है तेरी हर एक मस्त अदा,
    वो दूर मयूरी ठिठक गयी,
    लहराती जुल्फों के आगे,
    ये मेघ मचलाना भूल गयी,
    ये इतराना,ये शर्माना,
    ये अदा तुम्हारी,मुश्काना,
    मदहोश हुआ मैं होश कहाँ,
    मैं भूल गया ये दर्शाना,
    ऐ प्राणप्रिये मैं धन्य हुआ,
    जीवन में जब से आयी तुम,
    ऐ मीत संगिनी तुम मेरी,
    धड़कन में मुझे बसाई तुम,
    तुम छोड़ मुझे अब मत जाना,
    मैं तुम बिन प्रियतम आधा हूँ,
    हां हां अर्धांगिनी तुम मेरी,
    मैं तेरा ही शहजादा हूँ,
    हां हां अर्धांगिनी तुम मेरी,
    मैं तेरा ही शहजादा हूँ|

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s