Miss You Love Poem – एक रोज़

sad

एक रोज़ तुझे याद करना है
एक रोज़ तेरे सपनो में रहना है
एक रोज़ मैं तुझे चूरा ले जाऊँ
एक रोज़ तेरी साँसों में जीना है

एक रोज़ वो शाम होगी
एक रोज़ चांदनी मेरे साथ होगी
एक रोज़ मैं तुझे पलकों पर सजा लूँ
एक रोज़ वो हसीन मुलाक़ात होगी

एक रोज़ ख्वाबों का सिलसिला होगा
एक रोज़ तेरी यादों का मेला होगा
एक रोज़ मैं तुझें सबसे छुपा लूँ
एक रोज़ मीठी बातों का कहना होगा

एक रोज़ प्यार की हमारी कहानी होगी
एक रोज़ फिर ये दुनिया अपनी दीवानी होगी
एक रोज़ तेरे पहलू में संवर जाऊँ
एक रोज़ अपनी ये जन्‍नत सुहानी होगी

एक रोज़ तेरे लिए लिखना है
एक रोज़ तेरे लिये जीना है
एक रोज़ मैं साथ रहने की कस्में खाऊँ
एक रोज़ फिर भी तेरे लिए मरना है

एक रोज़ तुझे याद करना है
एक रोज़ तेरे सपनो में रहना है

-योगेश जमदागनी

Ek roj tujhe yad krna h,
ek roj tere spno m rehna h,
ek roj m tujhe chura le jau,
ek roj Teri sanso m jeena h..

Ek roj wo sham hogi,
ek roj chandni mere sath hogi,
Ek roj m tujhe palko pr sja Lu,
ek roj wo haseen mulaqat hogi..

Ek roj khwabo ka silsila hoga,
ek roj Teri yadoo ka mela hoga,
ek roj m tujhe sbse chupa Lu,
Ek roj meethi baton ka kehna hoga..

Ek roj pyar ki hmari kahani hogi,
ek roj fir ye duniya apni deewani hogi,
ek roj tere pehlu me m sanwar jau,
ek roj apni ye jannat suhaani hogi..

Ek roj tere liye likhna h,
ek roj tere liye jeena h,
ek roj m sath rehne ki kasmein khau,
ek roj fir bhi tere liye mrna h,

ek roj tujhe yad krna h ,
ek roj tere spno m rehna h..

-Yogesh Jamdagni

 

5 thoughts on “Miss You Love Poem – एक रोज़

Leave a Reply