Miss You Love Poem – एक रोज़

sad

एक रोज़ तुझे याद करना है
एक रोज़ तेरे सपनो में रहना है
एक रोज़ मैं तुझे चूरा ले जाऊँ
एक रोज़ तेरी साँसों में जीना है

एक रोज़ वो शाम होगी
एक रोज़ चांदनी मेरे साथ होगी
एक रोज़ मैं तुझे पलकों पर सजा लूँ
एक रोज़ वो हसीन मुलाक़ात होगी

एक रोज़ ख्वाबों का सिलसिला होगा
एक रोज़ तेरी यादों का मेला होगा
एक रोज़ मैं तुझें सबसे छुपा लूँ
एक रोज़ मीठी बातों का कहना होगा

एक रोज़ प्यार की हमारी कहानी होगी
एक रोज़ फिर ये दुनिया अपनी दीवानी होगी
एक रोज़ तेरे पहलू में संवर जाऊँ
एक रोज़ अपनी ये जन्‍नत सुहानी होगी

एक रोज़ तेरे लिए लिखना है
एक रोज़ तेरे लिये जीना है
एक रोज़ मैं साथ रहने की कस्में खाऊँ
एक रोज़ फिर भी तेरे लिए मरना है

एक रोज़ तुझे याद करना है
एक रोज़ तेरे सपनो में रहना है

-योगेश जमदागनी

Ek roj tujhe yad krna h,
ek roj tere spno m rehna h,
ek roj m tujhe chura le jau,
ek roj Teri sanso m jeena h..

Ek roj wo sham hogi,
ek roj chandni mere sath hogi,
Ek roj m tujhe palko pr sja Lu,
ek roj wo haseen mulaqat hogi..

Ek roj khwabo ka silsila hoga,
ek roj Teri yadoo ka mela hoga,
ek roj m tujhe sbse chupa Lu,
Ek roj meethi baton ka kehna hoga..

Ek roj pyar ki hmari kahani hogi,
ek roj fir ye duniya apni deewani hogi,
ek roj tere pehlu me m sanwar jau,
ek roj apni ye jannat suhaani hogi..

Ek roj tere liye likhna h,
ek roj tere liye jeena h,
ek roj m sath rehne ki kasmein khau,
ek roj fir bhi tere liye mrna h,

ek roj tujhe yad krna h ,
ek roj tere spno m rehna h..

-Yogesh Jamdagni

 

Hindi Miss You Poem for Girlfriend – इंतज़ार

ढलती

ढलती हुई शाम में आज भी उनका इंतज़ार है
थक के ये आँखें बोझिल होने लगी हैं फिर भी उनका इंतज़ार है
सोच के ये दिल मुस्कुरा देता है की नहीँ हैं
बेवफा वो। कम से कम जीने का सहारा ख्वाबों में तो दिया करती हैं
जब भी ख्वाबों में मुलाकात होती हैं
वो हमेशा मिलूंगी वादा करके सुबह कहीं चली जाती हैं
और सुबह फिर से उनका इंतेजार किया करता हूँ
समय तो रेत की तरह हाथों से फिसल रहा है
कई बरसाते आई और चली गयीं पर कोई बारिस की बूँद मुझे भिगो न पायी
ठण्ड की सिहरन तो बहुत लगी पर उस सिहरन में तेरी गर्मी का एहसास न था
हवा का झोंका जब भी मुझसे टकराया तेरी यादो की खुश्बू को लाया
सावन,सर्द हवाएं,सुबह की किरन,ओस की बूँद,चाँदनी सब से तेरी बातें किया करता हूँ
मेरी साँसें आज साथ छोड़ती सी लग रहीँ हैं
पर बन्द होती आँखों को आज भी तेरा इंतज़ार है
की सपना देख लूँ आज की तू हकीकत में आ गयी है
आज फिर से गले लगाया है
और सो गया हूँ मैं तुझे दिल में बसा के कभी ख़त्म न होने वाले सपने की तरह
की अब ये इंतज़ार साँसों के साथ खत्म होता सा लग रहा है

~ गौरव

Painful Love Story-तेरा ही इंतज़ार था

romance-wallpaper-1366x768

आ गयी तू मुझे तेरा ही इंतज़ार था …
तुझे शायद नहीं पता होगा, मैं कितना बेक़रार था

खैर, पता है जब तू यहाँ नहीं थी
तो मेरे साथ क्या हो रहा था
मैं तो आँखें बंद करके सो रहा था
फिर भी लोग कहते हैं की मैं रो रहा था

अब उन नासमझों को कौन समझाए
क़ि वो मैं रो नहीं रहा था
वो तो अंदर का सैलाब बह रहा था
तुझे तो पता होगा कि मैं रोता नहीं
हर आंसू में तस्वीर है तेरी
इसीलिए मैं उनको खोता नहीं

अरे यार तू कुछ बोलती क्यों नहीं
पहले की तरह ये अश्क़ मेरे पोंछती क्यों नहीं

पता है जब तू गयी थी
तो सब बोलते थे
कि जो चले जाते हैं वो कभी लौटते नहीं
पय मुझे यकीं था, की तू आएगी
क्योंकि तू प्यार है मेरा
और जज़्बात कभी मरते नहीं

पर खफा हूँ तेरे उस धोखे से
तूने बिना मांगे जो दिया उस तोहफे से
माना मैंने कहा था
अपना दिल देदे मुझे
इसका ये मतलब नहीं
पगली दिल देके ज़िन्दगी देगी मुझे
जब होश आया डॉक्टर ने बताया सब,
रुक गयी मेरी सब सांसें तब
फिर फैसला किया
मैं भी आरहा हूँ तेरे पास
पर फिर डिल से आई आवाज़ तेरी
पगले हूँ तो मैं तेरे साथ

याद है तुझे
वो रास्ते जो
तुझे बहुत पसंद थे
अक्सर आज भी मैं
वहां से गुज़रा करता हूँ
जो तू मुझे बातें करती
उन रास्तों पर वही आवाज़ें सुना करता हूँ मैं

तू यहाँ नहीं थी
तो तेरे लिए कविता लिखता था
अक्सर कागज़ के पन्ने
हवा में फेकता था
अब तू कहेगी, ऐसा क्यों?
क्या मैं पागल हो गया था?

पर मैं उन पन्नो पर
तेरी ही खुशबु खोजता था
अगर इसे पागलपन कहते हैं,
तो हाँ यार मैं पागल हो गया था

-नितेश गौर (बृजवासी)

Hindi Miss You Love Poem-तेरी जुदाई रात भर तड़पाये

man-1394395_960_720
हंसना भुला दिया तेरी इस जुदाई ने,
रोना सिखा दिया तेरी इस जुदाई ने,
सोचती रही हर पल हर घड़ी तेरे बारे में,
तेरी इन यादों ने आंसू दे दिये,
तेरी जुदाई में इस कदर शामिल हो गयी
कि मेरे होठों की मुस्कान ले गयी,
मुस्‍कान की जो वजह कभी देते थे तुम,
तुम ही मेरे होठों की मुस्कान ले गये,
तेरी बेवफाई ने भरोसा मेरा तोड़ दिया,
तेरी जुदाई ने मुझको तोड़ दिया,
जो खुशियों के फूल मेरे दिल में खिलते थे,
वहीं आज ग़म के काँटे चुभते हैं,
बिखर के टूट गये इस कदर
कि अब ना जीने के बहाने रह गये,
आँसू नहीं बहते थे जो पलकों से मेरी,
आज वही हर पल इन आँखों की पहचान बन गये,
तेरे प्यार की खुशबू में जो झूम उठती थी मैं,
उन्ही आँखों में तुम आज नफ़रत के आंसू दे गये,
जो जीने का एहसास देते थे तुम
आज तुम ही मेरे आँसुओं की वज़ह बन गये,
सोचा ना करूं तुम से प्यार
पर प्यार तुम तो मेरे रोने की वजह बन गये.
-कविता परमार

Hindi Love Poem -मेरा इंतज़ार

flowerpot-2756428_960_720
यूँ तो हज़ारों सवाल करती हैं तेरी आँखें
मैं जवाब ना दे पाता हूँ
समझता हूँ सब कुछ
पर दिल को ना समझा पाता हूँ
देखता हूँ तुझको सिर्फ इसीलिये
कि तेरे चहरे पर हंसी बन के बस जाऊँ
ना बस पाऊँ अगर प्यार बनके तेरी पलकों पे
तो चहरे पर हँसी बनके खिल जाऊँ
तू तो खुद खोई है कहीं
अपने आप में खुद को तलाश करती है
पर ये मेरा दिल इतना पागल है तेरे प्यार में
कि ये तो बस तेरे चहरे की मुस्कान चाहता है
इंतज़ार मुझको भी है तेरी मुस्कान का
जानता है ये दिल मेरा
कि एक दिन तू फिर से मुस्कुराएगी
हँसेगी मेरे साथ जी भर के मुस्कुराएगी
बरसों में छुपे
मेरे प्यार के इंतज़ार को समझ पायेगी
-गौरव