Hindi Love Poetry-तू कहाँ है

रात का समां है
तू कहाँ है
सूना मेरा जहां है
तू कहाँ है
तारों से सजा आसमां है
तू कहाँ है
तेरी खुश्बू भरी हवा है
तू कहाँ है
दिल का दर्द यूं बयाँ है
तू कहाँ है
आजा पास तुझसे इल्तजा है
तू कहाँ है

One thought on “Hindi Love Poetry-तू कहाँ है

Leave a Reply