Heart Touching Love Poem- ऐसा लगता है


महफ़िल भी सूनी लगती है
तेरा कसर लगता है,
ग़म भी खुशी लगती है
तेरा असर लगता है।

है लगता हर पल सदियों -सा,
बरसों -सा बिन तेरे;
तेरा दिल ही मुझे
अब मेरा घर लगता है।

है चाहता ये दिल
हर पल तेरे दीदार को,
तड़पता हूँ, बेचैन रहता हूँ
मामुली सा पत्थर भी संगेमरमर लगता है।

अनजाना-सा दुनिया की बातों से
दिन-पल और रातों से,
ना किसी के कहने का असर
ना वाकिफ़ हालातों से।

हद पार कर जाऊँगा तेरे इश्क़ में
दोगे ज़हर इम्तेहान के लिए
तो भी पी जाऊँगा तुझे याद करके
मरूँगा नहीं, हो जाऊँगा अमर लगता हैं ।

– हंसराज केरकर

Mehfeel bhi sooni lagti Hai
Tera kasar lagta Hai,
Gam bhi Khushi lagti Hai
Tera asar lagta Hai.

Hai lagta har Pal
Sadiyo sa, Barson sa bin Tere,
Tera Dil hi mujhe
Ab Mera Ghar lagta Hai.

Hai chahta ye Dil
Har Pal Tere Didar ko
Tadpta hu, bechain rehta hoon
Mamuli sa Patthar bhi Sangemarmar lagta Hai.

Anjaana sa Duniya ki baatoon se
Din-Pal aur Raaton se
Na kisi ke kahne ka asar
Na waqif halato se,

Had par Kar jaunga Tere Ishq mein
Doge Jaher Imtehaan ke liye
To bhi pee jaunga tujhe yaad karke
Marunga nahi, ho jaunga Amar lagta Hai.

-Hansraj Kerekar

Hindi Poem on Angry Love-रूठे से वो


inside_out_sadness___disney_pixar-wallpaper-1366x768

वो रूठे हैं इस कदर मनायें कैसे।
जज़्बात अपने दिल के दिखाएँ कैसे।
नर्म एहसासों की सिहरन कह रही है पास आ जाओ।
सिमट जाओ मुझमें और दिल में समां जाओ।
देखो लौट आओ ना रूठो हमसे।
बस रह गया है तुम्हारा इंतज़ार कब से।
इतनी भी क्या तकरार हमसे ।
तेरे इंतज़ार में हो गया है दिल बेकरार कब से।
लड़ना मुझसे झगड़ना मुझसे पर कभी न दूर रहना मुझसे।
एक बार फिर ढलती शाम में बढ़ रहा है खुमार  कब से।
अब तुम्ही मीत हो मेरे दिल की सदायें समझो।
मेरे दिल की ख़ामोशी मेरी वफायें समझो
अब क्या कहूँ अपने दिल की सदायें उनसे।
वो रूठे हैं इस कदर मनायें कैसे।
जज़्बात अपने दिल के दिखाये कैसे।
-गौरव

How to read:

Wo ruthe hain is kadar manayein kaise

Jazbaat apne dil ke dikhayein kaise

Narm ehsaso ki sirhan keh rahi hai pas ajao

Simat jao mujhmein aur dil mein sama jao

Dekho laut aao na rutho hamse

Bas reh gaya hai tumhara Intezar kab se 

Itni bhi kya takraar ham se 

Tere Intezar mein ho gaya hai dil bekarar kab se 

Ladna mujhse jhagadna mujhse par kabhi na dur rehna mujhse 

Ek bar phir dhalti sham mein badh raha hai khumar kab se

Ab tum hi meet ho mere dil ki sadayein samjho

Mere dil ki khamoshi meri wafayein samjho

Ab kya kahu apne dil ki sadayein unse

Wo ruthe hain is kadar manayein kaise

Jazbaat apne dil ke dikhayein kaise

-Gaurav

English Translation:

The extent to which my love is angry with me, how do I wow my love

How do I show emotions of my heart to my love?

The sweet memories of our love ask you to come nearby

Embrace me tight and get absorbed in me

Please come back, do not stay angry with me

I have been waiting for you for so long

Is it such a big feud between us?

My heart is highly impatient while waiting for you

You can fight with me, argue with me, but do not stay away from me

Once again with the evening approaching night, my heart is getting mad for you

You are my only friend, please understand my emotions for you

The extent to which my love is angry with me, how do I wow my love

How do I show emotions of my heart to my love?

 

Sad Hindi Poem on One Sided Love – चाहा तुमको चाहा


ice_heart-t2

मैंने चाहा तुमको चाहा
हाँ सिर्फ तुमको चाहा
तुमको पाना चाहा
तुम में खोना चाहा

पर तुमने मुझे ठुकराया
मेरा मज़ाक बनाया
मुझको पागल बताया
नफरत को यूं निभाया

हर लम्हा मेरा तनहा
प्यार मेरा हुआ रुस्वा
ये कैसा दर्द है रब्बा
एक पल भी नहीं है चैना

मैंने चाहा तुमको चाहा
हाँ सिर्फ तुमको चाहा
सिर्फ तुमको चाहा
सिर्फ तुमको चाहा

-अनुष्का सूरी

Hindi Love Poem – दिल के पास कहीं


heart-1137259_960_720

आज रहने दे दिल के पास कहीं,
कल सुबह कहीं कल रात कहीं,
कल कहीं गगन मेरा होगा,
कोई नया चमन तेरा होगा,
फिर न जाने कब हो मिलान कहीं,
आज रहने दे दिल के पास कहीं,
कल मैं तन्हा हो जाऊंगा,
खुद से रुसबा हो जाऊंगा,
क़ोई नया साथ तेरा होगा,
आँसू का साथ मेरा होगा,
फिर न जाने कब हो साथ कहीं,
आज रहने दे दिल के पास कहीं,
कल घना अँधेरा छाएगा,
एक इश्क़ फना हो जायेगा,
कोई रहवर नया तेरा होगा,
मौत हमसफ़र मेरा होगा,
फिर मिलना होगा कभी नहीं,
आज रहने दे दिल के पास कहीं।

-गौरव

Aaj rahne de dil k pas kahi,
Kal subah khi kl rat kahi
Kal kahi gagn mera hoga
Koi nya chamn tera hoga
Fir na jane kab ho milan kahi,
Aaj rhne de dil k pas kahi
Kal main tnha ho jauga
Khud se ruswa ho jauga,
Koi nya sath tera hoga
Aansu ka sath mera hoga ,
Fir na jane kab ho sath kahi,
Aaj rhne de dil k pas kahi
Kal gahra andhera chahyega
Ek ishq fnna ho jayega
Koi rhbar nya tara hoga
Mauth hmsafer mera hoga
Fir milna hoga kabhi nahi
Aaj rhne de dil k pas kahi

-Gaurav