Missing My Love Poem in Hindi-Ap Ki Yaadein

आप की यादें (कविता का शीर्षक)
चाँदनी रात है
एक प्यारी सी बात है
हाथों में चाय का प्याला है
आपके आगमन से जीवन में उजाला है
यही बैठे हुए
चाय की चुस्कियाँ लगाते हैं
जबभी आपका खयाल आता है
मन ही मन मुस्कुराते हैं ।

यूँ तारों का टिम-टिमाना
आपकी आखें याद दिलाता है
चाँद पर नज़र जाए तो
आपका चेहरा नज़र आता है
कुछ तो बात है
इस चाँद की चाँदनी में
आपकी झलक दिखाता है
मेरा दिल भी बहलाता है ।

काश ऐसा होता
ये दूरियाँ ही न होती
इस चाँदनी रात में
मेरे साथ आप होती
हाथों में आपका हाथ होता
जीवन में आपका साथ होता
एक साथ चलते इस जीवन की राह पर
जीना भी साथ होता और
मरना भी साथ होता ।

अभिनव उपाध्याय (कवि)

Aap Ki Yaadein (Title of the Poem)
Chandni raat hai (It is a full moon night)
Ek pyaru si baat hai (I have something lovely to say)
Hatho mein chai ka pyala hai (I have a cup of tea in my hands)
Apke agman se jeevan mein ujala hai (Your arrival has lightened up my life)
Yahi baithe hue (While sitting here)
Chai ki chuskiyan lagate hain (We sip tea)
Jab bhi apka khayal ata hai (Whenever I think about you)
Man hi man muskurate hain (I smile in my heart)

Yu taaro ka timtimana (The twinkling of the stars)
Apki ankhein yad dilata hai (Makes me remember your eyes)
Chand par nazar jaye to (Whenever I look at the moon)
Apka chehra nazar ata hai (I see your face)
Kuch to baat hai (There is something great)
Is chand ki chandni mein (About the moon’s light)
Apki jhalak dikhata hai (It shows your glimpse)
Mera dil bhi behlata hai (It also entertains my heart)

Kash aisa hota (I wish) काश ऐसा होता
Ye duriyan hi na hoti (Our separation did not exist)
Is chandni raat mein (In this full moon night)
Mere sath aap hoti (You would have been by my side)
Hatho mein apka hath hota (Your hand would have been in mine)
Jeevan mein apka sath hota (I had your company in my life)
Ek sath chalte is jeevan ki rah par (We would have walked together on this path of life)
Jeena bhi sath hota aur (We would have lived together and)
Marna bhi sath hota (died together)

-Abhinav Upadhyaya (Poet)

Sad Hindi Love Poem-Kuch To Asar Hai

कुछ तो असर है (कविता का शीर्षक)
कुछ तो असर है ज़िन्दगी में तेरी दुआओं का,
कि ग़म बहुत है, आँखें भी नम है,
फिर भी जिए जा रहे हैं, धीरे धीरे ही सही पर दो घूँट पीए जा रहे हैं,
एक नीला सा आसमान है, कहने को तो सारा जहान है,
पर तेरे बिना सब मंजर बंजर सब रेगिस्तान है,
ये अहसास मेरे दिल का तेरे दिल से यूं ना जाएगा,
मेरी यादों का ज़र्रा ज़र्रा किस्सा मेरा तुझे सुनाएगा,
मेरी आँखों से गिरता हर एक आँसूं मेरी कहानी तुझे बताएगा,
कहने को तो ज़िन्दगी नदी की बहती एक धारा है,
किस्मत वाले हैं वो जिन्हें मिल जाए जो मिलना किनारा है,
मुक्कमल हो जाए तेरा साथ मेरे साथ में, शायद मेरे हाथ में वो लकीर ही नहीं,
धन दौलत है बहुत पर तेरा साथ ही नहीं, चलो फिर तेरे लिए एक फकीर ही सही,
ये रौशनी, ये हवा, ये ज़िंदगानी सब तेरी ही तो है,
ये कहानी वो जवानी, मेरी रवानी तेरी ही तो है,
तू आकर मेरी यादों में मुझे न गमगीन कर
बहुत मुश्किल से सीखा है जीना, इस तरह से मेरी ज़िन्दगी को न नमकीन कर,
तू कहे तो तेरे नाम को अमर मैं कर दूँ,
मेरा कुछ मोल ना सही तेरी नज़रों में,
पर तू कहे तो कोहिनूर तुझे कर दूँ,
लोग भरते है सागर में गागर, पर तू कहे तो संग जी के तेरे साथ
गागर में सागर मैं भर दूँ।।।।
कोमल सिंह (कवि का नाम)

Kuch To Asar Hai (Title of the Poem)
Kuch to asar hai zindagi mein teri duaon ka, (Your kind wishes have made some impact on my life)
Ki gam bahut hai, ankhein bhi nam hai, (There are so many griefs and my eyes are also wet)
Phir bhi jiye ja rahe hain, dheere-dheere hi sahi par do ghut piye ja rahe hain, (Still I am carrying on with my life and drinking this poison slowly sip by sip)
Ek neela sa asmaan hai, kehne ko to saara jahaan hai, (The sky appears blue and the entire world is there for you)
Par tere bina jab manzar banjar sab registan hai, (But without you every destination is like a barren land, a desert)
Ye ehsas mere dil ka tere dil se yu na jayega, (My feelings won’t disappear from your heart so easily)
Meri yaado ka zarra zarra kissa mere tujhe sunayega, (Each particle of my memories will recite a story to you)
Meri ankho se girta har ek ansu meri kahani tujhe batayega, (Each tear falling from my eye will tell you my story)
Kehne ko to zindagi nadi ki behti ek dhara hai, (Life is life a flowing river)
Kismat wale hain wo jinhein mil jaye jo milna kinara hai, (Fortunate are those who have met their life goals)
Mukammal ho jaye tera sath mere sath mein, shayad mere hath mein wo lakeer hi nahi, (May be your company is not in my destiny)
Dhan daulat hai bahut par tera sath hi nahi, chalo phir tere liye ek fakeer hi sahi, (I have a lot of material wealth, but I do not have your company; I am like a beggar for you)
Ye roshni, ye hawa, ye zindgani sab teri hi to hai, (This light, this wind, this life- all are yours)
Ye kahani wo jawani, meri ravani teri hi to hai, (This story, our youth, my enthusiasm are all yours)
Tu akar meri yaado mein mujhe na gamkeen kar, (Please do not make me sad by appearing in my memories)
Bahut mushkil se seekha hai jeena, is tarha se meri zindagi ko namkeen na kar, (I have learnt living without you with a great difficulty, please do not make my life tougher)
Tu kahe to tere naam ko amar main kar du, (If you say I can make your name immortal)
Mera kuch mol na sahi teri nazro mein, (I may not have any value in your eyes)
Par tu kahe to kohinoor tujhe kar du, (But if you say I can turn you into a Kohinoor (diamond))
Log bharte hain sagar mein gagar, par tu kahe to sang ji ke tere sath, (People fill their pots from ocean, but if you say, while living with you)
Gagar mein sagar main bhar du (I can गागर में सागर मैं भर दूँ।।।।
Komal Singh (Poet)

Hindi Love Poem for Friendship – बचपन

वो बचपन अच्छा था
ये जवानी हार गई स्कूल के दिन अच्छे थे
ये कॉलेज की इंजीनियरिंग मार गई
वो मोज मस्ती तो स्कूल की थी
जहाँ पहली से ना छोड़ा दसवीं तक का साथ
वो स्कूल नहीं परिवार था
जहां सब एक दूसरे के लिए मरते थे
बिछडने का ना ग़म कोई और खुशी के पल साथ जिया करते थे
टिफिन कोई लाता था और खा कोई जाता था
पर भूखा कोई ना जाता था
फिर युँ निकले दिन और रातें
फिर शरुआत कॉलेज कि हुई
नऐ दोस्त नया परिवार फिर बनाने जा रहा था
अपने दिल को फिर से बहला रहा हूँ
वो मोज मस्ती शायद यहाँ भी हो पर
यहाँ ना कोई प्यार ना कोई परिवार
मतलब से मतलब रखता है
यहाँ हर एक इंसान दुनिया मानो मतलबी सी है
इसका एहसास कॉलेज मे आकर पता चला
फिर सोचा इससे अचछा तो स्कूल था
वो छुट्टी की घंटी सुनते ही वो भाग के कमरे से बाहर आना
फिर हँसते हँसते दोस्तों से मिल जाना
काश वो दोस्त आज भी मिल जाते
दिल में फिर से बचपन के फूल खिल जाते… !!!

-रोहित

Wo bachapan achha tha
Ye jawaani haar gai School k din ache the
Ye college ki engineering mar gai
Wo moj masti to school ki thi
Jaha pheli(1st) se na chhoda dasvi(10th) tk sath tha
Wo school ni pariwar tha
Jaha sb ek dusre k liye marte the
Bichadne ka na gam koi Or Khushi k pal sath jiya krte the
Tiffin koi lata tha or kha koi jata tha
Pr bhuka koi na jata tha
Phir uh nikle din or nikli raate
Fir shurat college ki hui
Naye dost naya pariwar dubara bnane ja rha hu
Apne dil ko fir se behla rha hu
Wo moj masti shyd
yaha bhi ho Pr yaha Na koi pyar na koi parwar
Mtlb se mtlb rkhta ha
yaha hr ek insaan Duniya mano matlbi si ha
Is ka ehsaas college me aakr pta chal
Fir socha ise acha to school tha
wo Chhutti ki ghanti sunte hi wo bhag ke kamre se bahar aana
Fir hanste hanste doston se mil jaana
Kaash woh dost aaj bhi mil jaate
Dil mein fir se bachpan ke phool khil jaaye..!!

– Rohit

Hindi Love Poem – तक़दीर का खेल

काली पन्नों में लिखें तकदीरें
बने रिश्तों की गवाही
जनम जनम के कस्मे वादे
बने टूटे दिल की परचाई
बादलों की मेरी ये
महल में छा गयी
तन्हाई हमारी हर वो
याद में जान है समायी
चहरे पे मुस्कान लिए
पीछे आँसू है छिपाई

~स्वेता

Kaali pannom me likhe takdeere
Bane rishton ki gavahi
Janam janam ke kasmevadey
Bane tute dil ki parchayi
Baaalon ki meri ye
Mehal me cha gayi
Tanhayi hamari har vo
Yaad me jaan hi samayi
Chehre pe muskan liye
Peeche aansu hi chipayi

~ Swetha

Hindi Love Poem – मैं सुबह छोड़ जाऊंगा

boy-1042683_960_720

मैं सुबह छोड़ जाऊंगा तुम्हारे पास,
तुम शाम मेरी संभाले रखना,

दिनों के साथ गर मैं गुजर भी जाऊ,
तो पलको में मेरी सीरत बसाये रखना,

यादो में लिपटी दोस्ती गर भूल भी जाओ,
पर हो सके तो झगड़ो में छुपी वो मोहब्बत बचाये रखना,

मैं सुबह छोड़ जाऊंगा तुम्हारे पास,
तुम शाम मेरी संभाले रखना….!!!!

– मुसाफिर

Main subh chhod jaunga tumhare paas
Tum sham meri sambhale rakhna

Dino ke sath gar main gujar bhi jaun
To palkon me meri sirat basaye rakhna

yadon me lipti dosti gar bhul bhi jaun
Par ho sakey too jhagdo main chupi wo mohabbat bachaye rakhna

Main subah chhod jaunga tumhare paas
Tum sham meri sambhale rakhna

-Musafir

Hindi Love Poem – गुमनाम चाहतों का सिलसिला

ice_heart-t2

गुमनाम चाहतों का सिलसिला
और कितने दिन चलेगा
गम का सूरज सिर पर से कभी तो ढलेगा
एक सुन्हरे कल का
इन्तजार करता हूँ मैं आज भी तुझसे जी भर के प्यार करता  हूँ
तुम साँसों की महक में
यूँ ओझल हो जाती हो मैं और ज्यादा साँस लेने की
कोशिश करता हूँ ,मैं करता हूँ प्यार तुझसे बोहोत मेरी जान
मगर तेरे जवाबो की चादर से डरता हूँ
हैं मेरी जान तू ज़िन्दगी है मेरी
तू है मेरी चाहत तू बंदगी है मेरी
कभी कभी करता हूँ कोशिशें नाकाम तुझसे दूर होने होने की
फिर बाद में सोचता हूँ तेरी जुदाई से डरता हूँ
आज भी तुझसे याद करके आँखों में आँसू भरता हूँ
आज भी मैं तुझसे दिलो जान से मरता हूँ
मगर मेरी जान हमने कभी कहा नहीं

-गणेश मघर

 

Gumnam chahato ka silsila
Aur kitne din chalega
Gum ka suraj sarpar se
Kabhi to dhalega
Ek sunhare kal ka
Intzar karta hun main aaj bhi
Tujhse ji bhar ke pyar karta hun
Tum sanso ki mahak me
You ojhal ho jati ho main aur jyada sans lene ki
Koshish karta hun
Main karta hun pyar tujhase bohot meri jaan
Magar tere jawabo ki chadar se darta hun
Tu hai meri jan tu zindagi hai meri
Tu hai meri chahat tu bandagi hai meri
Kabhi kabhi karta hun
Koshishe nakamyab tujhase dur hone ki
Fir bad me sochata hun
Aur teri judae se darta hun
Aaj bhi tujhe yaad karke aankho me aansu bharta hun
Aaj bhi mai tujhape dilo jan se marta hun
Magar meri jaan humne kabhi kaha nahi

-Ganesh Magar

 

Hindi Love Poem For Her – कशमकश में

hindipoem1

कशमकश में जीने की आदत हो गई
जब मेरी तुम से मुलाकात हो गई
सोच में पड़ गया मैं के
कैसे तुम्हे बना लूँ अपना
ऐसी सोच में सुबह से रात हो गई
बड़े दिन से गुमसुम था मेरा बेचारा दिल
बड़ी मुदत के बाद तेरे कारण उससे बात हो गई
आज साथ है तू तो हर हसरत कुर्बान
हर ख़ुशी मेरे साथ हो गई

-गणेश मघर

How to read:
kashm kash me jina ki aadat ho gayi
jab se meri tumse mulakat ho gayi
soch me pad gaya mai ke
kaise tumhe banaalu apna
esi soch me subha se raat ho gayi
bade din se gumsum sa tha mera bechara dil
dadi muddat ke bad tere karan usse bat ho gayi
aaj sath hai tu to har hasrat kurban
har khushi mere sath ho gayi

-Ganesh Magar

Hindi Love Poem on Pain – दर्द अपने दिल का

ढलती

दर्द अपने दिल का हमने
एक अरसे बाद खोला है
बस बात ये अलग है
की दर्द लबो से नहीं अल्फाज़ो से बोला है
तुम जान ही नहीं सके हमे
हम किस कदर तुम पे मरते थे
भुला था वो राज़ मैं
बड़ी मुश्किल से आज हमने दिल को टटोला है
याद में तेरी यारा
आज भी आँख रोती है
हर आँसू मेरा एक शोला है
-गणेश मघर

 

Dard apne dil ka humne
Ek arse ke bad khola hai
Bas bat ye alag hai
Ke dard labon se nahi alfazo se bola hai
Tum jan hi nahi sake hume
Hum kis kadar tum pe marte the
Bhula tha wo raz main
Badi mushqil aaj humne dil ko tatola hai
Yaad me teri yaraa
Aaj bhi aankh roti hai
Har aasu mera ek shola hai

-Ganesh Magar

Hindi Love Poem for Her – तुम जो कहते

heart-1137259_960_720

तुम जो कहते हमे
हम जान लगा देते
आँगन आपका सजाने
हम सारा आसमान सजा देते
सोचने निकलते है हम कि
तुमसे कितना प्यार करते है
तो सोच सोच में हम शाम लगा देते है
अब बस यादों पर हमारा हक़ है
बस बोतल साथ नहीं
वरना हम आँसुओ के साथ
हर शायरी में आपका नाम लगा देते

-गणेश मघर

Tum jo kahte hume
Hum jaan laga dete
Aangan aapka sajane
Hum sara aasman saja dete
Sochane nikalte hai hum ke tumse kitna pyar karte hai
To soch soch me hum sham laga dete
Ab bas yaadon par humara haq hai
Bus botal sath nahi
Warna hum aasuon ke sath
Har shayri me aapka nam laga dete

-Ganesh Magar