Hindi Love Poem for Friendship – बचपन


वो बचपन अच्छा था
ये जवानी हार गई स्कूल के दिन अच्छे थे
ये कॉलेज की इंजीनियरिंग मार गई
वो मोज मस्ती तो स्कूल की थी
जहाँ पहली से ना छोड़ा दसवीं तक का साथ
वो स्कूल नहीं परिवार था
जहां सब एक दूसरे के लिए मरते थे
बिछडने का ना ग़म कोई और खुशी के पल साथ जिया करते थे
टिफिन कोई लाता था और खा कोई जाता था
पर भूखा कोई ना जाता था
फिर युँ निकले दिन और रातें
फिर शरुआत कॉलेज कि हुई
नऐ दोस्त नया परिवार फिर बनाने जा रहा था
अपने दिल को फिर से बहला रहा हूँ
वो मोज मस्ती शायद यहाँ भी हो पर
यहाँ ना कोई प्यार ना कोई परिवार
मतलब से मतलब रखता है
यहाँ हर एक इंसान दुनिया मानो मतलबी सी है
इसका एहसास कॉलेज मे आकर पता चला
फिर सोचा इससे अचछा तो स्कूल था
वो छुट्टी की घंटी सुनते ही वो भाग के कमरे से बाहर आना
फिर हँसते हँसते दोस्तों से मिल जाना
काश वो दोस्त आज भी मिल जाते
दिल में फिर से बचपन के फूल खिल जाते… !!!

-रोहित

Wo bachapan achha tha
Ye jawaani haar gai School k din ache the
Ye college ki engineering mar gai
Wo moj masti to school ki thi
Jaha pheli(1st) se na chhoda dasvi(10th) tk sath tha
Wo school ni pariwar tha
Jaha sb ek dusre k liye marte the
Bichadne ka na gam koi Or Khushi k pal sath jiya krte the
Tiffin koi lata tha or kha koi jata tha
Pr bhuka koi na jata tha
Phir uh nikle din or nikli raate
Fir shurat college ki hui
Naye dost naya pariwar dubara bnane ja rha hu
Apne dil ko fir se behla rha hu
Wo moj masti shyd
yaha bhi ho Pr yaha Na koi pyar na koi parwar
Mtlb se mtlb rkhta ha
yaha hr ek insaan Duniya mano matlbi si ha
Is ka ehsaas college me aakr pta chal
Fir socha ise acha to school tha
wo Chhutti ki ghanti sunte hi wo bhag ke kamre se bahar aana
Fir hanste hanste doston se mil jaana
Kaash woh dost aaj bhi mil jaate
Dil mein fir se bachpan ke phool khil jaaye..!!

– Rohit

Hindi Love Poem – तक़दीर का खेल


काली पन्नों में लिखें तकदीरें
बने रिश्तों की गवाही
जनम जनम के कस्मे वादे
बने टूटे दिल की परचाई
बादलों की मेरी ये
महल में छा गयी
तन्हाई हमारी हर वो
याद में जान है समायी
चहरे पे मुस्कान लिए
पीछे आँसू है छिपाई

~स्वेता

Kaali pannom me likhe takdeere
Bane rishton ki gavahi
Janam janam ke kasmevadey
Bane tute dil ki parchayi
Baaalon ki meri ye
Mehal me cha gayi
Tanhayi hamari har vo
Yaad me jaan hi samayi
Chehre pe muskan liye
Peeche aansu hi chipayi

~ Swetha

Hindi Love Poem – मैं सुबह छोड़ जाऊंगा


boy-1042683_960_720

मैं सुबह छोड़ जाऊंगा तुम्हारे पास,
तुम शाम मेरी संभाले रखना,

दिनों के साथ गर मैं गुजर भी जाऊ,
तो पलको में मेरी सीरत बसाये रखना,

यादो में लिपटी दोस्ती गर भूल भी जाओ,
पर हो सके तो झगड़ो में छुपी वो मोहब्बत बचाये रखना,

मैं सुबह छोड़ जाऊंगा तुम्हारे पास,
तुम शाम मेरी संभाले रखना….!!!!

– मुसाफिर

Main subh chhod jaunga tumhare paas
Tum sham meri sambhale rakhna

Dino ke sath gar main gujar bhi jaun
To palkon me meri sirat basaye rakhna

yadon me lipti dosti gar bhul bhi jaun
Par ho sakey too jhagdo main chupi wo mohabbat bachaye rakhna

Main subah chhod jaunga tumhare paas
Tum sham meri sambhale rakhna

-Musafir

Hindi Love Poem – गुमनाम चाहतों का सिलसिला


ice_heart-t2

गुमनाम चाहतों का सिलसिला
और कितने दिन चलेगा
गम का सूरज सिर पर से कभी तो ढलेगा
एक सुन्हरे कल का
इन्तजार करता हूँ मैं आज भी तुझसे जी भर के प्यार करता  हूँ
तुम साँसों की महक में
यूँ ओझल हो जाती हो मैं और ज्यादा साँस लेने की
कोशिश करता हूँ ,मैं करता हूँ प्यार तुझसे बोहोत मेरी जान
मगर तेरे जवाबो की चादर से डरता हूँ
हैं मेरी जान तू ज़िन्दगी है मेरी
तू है मेरी चाहत तू बंदगी है मेरी
कभी कभी करता हूँ कोशिशें नाकाम तुझसे दूर होने होने की
फिर बाद में सोचता हूँ तेरी जुदाई से डरता हूँ
आज भी तुझसे याद करके आँखों में आँसू भरता हूँ
आज भी मैं तुझसे दिलो जान से मरता हूँ
मगर मेरी जान हमने कभी कहा नहीं

-गणेश मघर

 

Gumnam chahato ka silsila
Aur kitne din chalega
Gum ka suraj sarpar se
Kabhi to dhalega
Ek sunhare kal ka
Intzar karta hun main aaj bhi
Tujhse ji bhar ke pyar karta hun
Tum sanso ki mahak me
You ojhal ho jati ho main aur jyada sans lene ki
Koshish karta hun
Main karta hun pyar tujhase bohot meri jaan
Magar tere jawabo ki chadar se darta hun
Tu hai meri jan tu zindagi hai meri
Tu hai meri chahat tu bandagi hai meri
Kabhi kabhi karta hun
Koshishe nakamyab tujhase dur hone ki
Fir bad me sochata hun
Aur teri judae se darta hun
Aaj bhi tujhe yaad karke aankho me aansu bharta hun
Aaj bhi mai tujhape dilo jan se marta hun
Magar meri jaan humne kabhi kaha nahi

-Ganesh Magar

 

Hindi Love Poem For Her – कशमकश में


hindipoem1

कशमकश में जीने की आदत हो गई
जब मेरी तुम से मुलाकात हो गई
सोच में पड़ गया मैं के
कैसे तुम्हे बना लूँ अपना
ऐसी सोच में सुबह से रात हो गई
बड़े दिन से गुमसुम था मेरा बेचारा दिल
बड़ी मुदत के बाद तेरे कारण उससे बात हो गई
आज साथ है तू तो हर हसरत कुर्बान
हर ख़ुशी मेरे साथ हो गई

-गणेश मघर

How to read:
kashm kash me jina ki aadat ho gayi
jab se meri tumse mulakat ho gayi
soch me pad gaya mai ke
kaise tumhe banaalu apna
esi soch me subha se raat ho gayi
bade din se gumsum sa tha mera bechara dil
dadi muddat ke bad tere karan usse bat ho gayi
aaj sath hai tu to har hasrat kurban
har khushi mere sath ho gayi

-Ganesh Magar

Hindi Love Poem on Pain – दर्द अपने दिल का


ढलती

दर्द अपने दिल का हमने
एक अरसे बाद खोला है
बस बात ये अलग है
की दर्द लबो से नहीं अल्फाज़ो से बोला है
तुम जान ही नहीं सके हमे
हम किस कदर तुम पे मरते थे
भुला था वो राज़ मैं
बड़ी मुश्किल से आज हमने दिल को टटोला है
याद में तेरी यारा
आज भी आँख रोती है
हर आँसू मेरा एक शोला है
-गणेश मघर

 

Dard apne dil ka humne
Ek arse ke bad khola hai
Bas bat ye alag hai
Ke dard labon se nahi alfazo se bola hai
Tum jan hi nahi sake hume
Hum kis kadar tum pe marte the
Bhula tha wo raz main
Badi mushqil aaj humne dil ko tatola hai
Yaad me teri yaraa
Aaj bhi aankh roti hai
Har aasu mera ek shola hai

-Ganesh Magar

Hindi Love Poem for Her – तुम जो कहते


heart-1137259_960_720

तुम जो कहते हमे
हम जान लगा देते
आँगन आपका सजाने
हम सारा आसमान सजा देते
सोचने निकलते है हम कि
तुमसे कितना प्यार करते है
तो सोच सोच में हम शाम लगा देते है
अब बस यादों पर हमारा हक़ है
बस बोतल साथ नहीं
वरना हम आँसुओ के साथ
हर शायरी में आपका नाम लगा देते

-गणेश मघर

Tum jo kahte hume
Hum jaan laga dete
Aangan aapka sajane
Hum sara aasman saja dete
Sochane nikalte hai hum ke tumse kitna pyar karte hai
To soch soch me hum sham laga dete
Ab bas yaadon par humara haq hai
Bus botal sath nahi
Warna hum aasuon ke sath
Har shayri me aapka nam laga dete

-Ganesh Magar