Hindi Love Poem- डायरी

diary.jpg

धूल जमी डायरी के कुछ पन्ने जो खोले,
तेरी यादो के सिलसिले फिर काबिज़ हो गए,
पलटता रहा पन्ने और फिर बहने लगा
जज्बातों का समुंद्र जो कभी हिलोरे लेता था मुझमे,
भले ही बेजान खामोश सी हो गयी थी
वो लहरे कुछ लम्हात के लिए,
पर यकीन मान एक तूफ़ान
तेरी यादो का हर रोज बहता था मेरी आँखों से,
आज जब खोली है वो डायरी तो खुश्बू के तरह महक रहा है
तेरा प्यार फिर से फिजाओ में,और भिगो रहा है
ये समुंद्र तेरी मोहब्बत का मुझे इस तरह
की जैसे मेरा पहला प्यार बस अभी इसी वक़्त ही हुआ हो।

गौरव

Hindi Love Poem- इश्क़ से अंजान

qqsqwqw

माही मेरे इश्क़ को ना समझे मेरा यार,
गहरा बहुत है दिल मे मेरे आज तेरा प्यार,
तुझमे ही मैं खोई रहती,तुझको ही मैं सोचती,
सारी दुनिया बोलती जोगन बनी मैं यार,
मेरे दिल की सबने जानी पर वो वाबरा अंजान है,
वही कुछ नहीं जनता जिसे करूँ मैं प्यार,
जिसको सोचके हँसती हूँ,जिसमें ही मैं खोती हूँ,
जिसमे जीवन के रंग सजे,बस बना रहा वही मेरे इश्क़ से अंजान,
सच कहा है दुनिया ने जोगन तेरे इश्क़ को ना समझे तेरा यार,
करती है तू कितना उसको अपने दिल से प्यार,
बस बना रहा वही वाबरा इश्क़ से अंजान,तेरे इश्क़ से अंजान।

– गौरव

Hindi Love Poem- Emotional

11

कुछ खो के लिखा
कुछ पा के लिखा

हमने इस कलम को
अक्सर आँसुओं में डुबो के लिखा

कभी मिली नसीहत
कभी वाह-वाही मिली

हमने अपने ग़मों को
अक्सर शब्दों में संजो के लिखा

– गीतेश बॉस

Hindi Poem For Girlfriend-पता नहीं

aa.png

 

पता नहीं किसकी दुनिया में खो गया हूँ
प्यार की किस्ती में बैठ, साहिल की खोज में सो  गया हूँ
ऐसी क्या कमी है मुझमे जिसे देख कोई प्यार करने से डरता है
उन्हें कोई ये समझाओ , “नादानी है ये उसकी जो ये हद से ज्यादा प्यार करता है ।  “
थक गया हूँ  प्यार की तलाश में
ज़िंदगी से रुठ  गया हूँ,  महोब्बत की खराश में
कही ऐसे न हो प्यार से मेरा भरोसा उठ जाये
चलते चलते , मेरे हाथों नसीब का  गला  न घूट  जाये
ऐ  प्यार तुझे रब दा वास्ता कभी मेरी भी फ़िक्र कर लिया कर
जिससे मोहब्बत करू ,उसके दिल से जा कर  मेरी थोड़ी ज़िकर भी कर लिया कर
हर पल धीरे धीरे मरने से अच्छा  मुझे  एक पल में साफ कर  देना
उसके बाद हो सके तो , इस बदनसीब दिल को दिल से माफ़ कर देना

 

– निखल कुमार पटवारी

Hindi Poem on Love – कैसे बताऊँ तुम मेरे दिल के कितने करीब हो

balloon-1046658_960_720

कैसे बताऊँ तुम मेरे दिल के कितने करीब हो
जो धरती पर जन्नत दिखा दे वही मेरे नसीब हो
तुम जो चलते हो लगता है हवा चली हो हल्की हल्की
तुम जो कुछ कह दो तो लगता है बजा हो गीत सुरीला
तुम्हारा रंग है गोरा जैसे हो मद्धम धूप
तुम्हारे बाल हैं काले जैसे हो घने जंगल
तुम्हारी आंखो के समुन्दर में डूबा रेहना चाहता हूँ
मुझे अपनालो तुम्हारा बन कर रेहना चाहता हूँ

Hindi Love Poem-तेरी आंखो मे जो अजब सा नशा है

तेरी आंखो मे जो अजब सा नशा है

क्या बताऊँ दिल किस कदर तुझ पर फिदा है

उफ तेरी ज़ुल्फ़ों का वो घना अंधेरा

चुराता है दिल जैसे हो कोई लुटेरा

तेरे गाल पर वो जो काला काला तिल है

हाये उसे देख मचलता ये दिल है

वो तेरा बार बार मुझसे नज़रें चुराना

और मेरा यू ही तेरे सामने आ जाना

खुदा जाने कब तू कहेगी अपनी ज़ुबानी

अब शुरू की जाये अपनी प्रेम कहानी

कुछ बातें होंगी कुछ मुलाकातें होंगी

कहीं सपने सजेंगे कहीं नींदें उड़ेंगी

धीरे धीरे बढ़ेगी ये बेक़रारी

और छा जायेगी कुछ कुछ खुमारी

खो जायेंगे हम एक दूसरे में

तू समा जायेगी मुझ में और मैं तुझ में

भर जायेगी खुशियों से ये ज़िंदगानी

मैं तेरा राजा और तू मेरी रानी

 

Hindi Poem- आँखों में झांको मेरी

girl-1352914_960_720

आँखों में झांको मेरी

खो जाने दो खुद को

बाँहों में आओ मेरी

सो जाने दो खुद को

दिल में आओ मेरे

बसा लो यहाँ खुद को

तुम मेरी हो मेरी रहोगी

केह दो आज तुम सभी को

तुम चाहो या भुला दो मुझको

आशिक़ ये तुम्हारा चाहेगा बस तुम्हीं को

Hindi Love Poem-बहुत दिन गुज़र चुके

girl-517555_960_720

बहुत दिन गुज़र चुके तेरी जुदाई में

कटती है मेरी रातें आज भी तन्हाई में

तुझे याद करके आज भी में रोता हूँ

क्या बताऊँ न कुछ पाता बस खोता हूँ

तेरी वो प्यारी सी मुस्कान याद आती है

तेरी वो हँसी की आवाज़ मेरे कानो में गुदगुदाती है

तेरे वो मीठे बोल आज भी लुभाते हैं

तेरे संग बिताये लम्हे आज भी दिल को भाते हैं

तुझसे मिलने को आज भी बेकरार है मेरा दिल

काश कभी कहीं से आकर तू मुझे मिल