Miss her love poem -Aisa Laga

ऐसा लगा
क्यों ऐसा लगा मैंने उसे देखा
क्यों ऐसा लगा मैंने उसे सोचा
रातें ये दिन
सिर्फ उसकी यादों में
खोए रहते हैं
पर इक खामोशी की चादर में
छुपकर सोए रहते हैं
न दिखाते हैं चेहरा अपना
आंसू भी इनकीआँखों में ख्वाब पिरोए रहते हैं
आज उसकी यादें कुछ कहना चाहती हैं
मरे इन सपनों को अपना बनाना चाहती हैं
हो सकता है देख रहा होऊंगा सपना
पर एक वही है जो लगती है अपना
प्यार तो बहुत है उससे
पर ज़िकर करना नहीं आता
याद तो बहुत आती है वो
पर दिखाना नहीं चाहता
आज उसकी आंखें दिल में बसना चाहती हैं
उसकी ये बातें मुझसे कुछ कहना चाहती हैं
हाँ, उनकी बातें बुरी लगती हैं मुझे
पर प्यार वो ताकत है
जिससे जुदा होके जिया नहीं जाता शायद
जिया नहीं जाता
-चाँद सिंह

Aisa Laga
Kyu aisa laga maine use dekha
Kyu aisa laga maine use socha.
Raatein,ye din..
Sirf uski yaadon mein
Khoye rehte hain….
Par is khamoshi ki chadar mei
Chupkar soye rehte hai….
Na dikhate hain chehra apna
Ansu bhi inki aakhon mei khwab
piroye rehte hai….
Aaj uski yaadein kuch kehna chahti hai
Mere in sapno ko..apna banana chahti hai
Ho sakta hai dekh raha hounga sapna
Par ek wahi hai jo lagti hai apna.
Pyaar to bahut hai us se
Par zikr karna nahi aata
Yaad to bahut aati hai wo
Par dikhana nahi chahta……
Aaj uski aakhein dil mei basna chahti hai
Uski ye baatein mujhse kuch kehna chahti hai
Haaaa,,unki baatein buri lagi thi mujhe
Par pyaar wo takat hai jis se juda hoke jiya nahi jata
Shayad, jiya nahi jata
-Chand Singh

Longing for Her Love Poem-Lagta Hai Us Se Mohabbat Hone Lagi Hai

लगता है उससे मोहब्बत होने लगी है
सूरत ना देखी मैंने उसकी,
मूरत फिर भी उसकी बनने लगी है,
दिन को चैन नहीं आता,
और रातों की नींद उड़ने लगी है,
लगता है उससे मोहब्बत होने लगी है,
उसकी यादों में, आँखों से नीर बहते है,
अब तो आँखों को आँसू से मोहब्बत होने लगी है,
कलम लिखना चाहती है, केवल तुम्हारे बारे में,
और बातें मेरी कविताओं में ढलने लगी है,
लगता है उससे मोहब्बत होने लगी है,
उसकी यादों में, रातें गुजार देता हूँ,
अपनी ही बातों में, खुद को सँवार देता हूँ,
सुनसान रातों में, मेरी बातें गहराई में उतरने लगी हैं,
अब तो मेरे दिल की तन्हाई मोहब्बत में बदलने लगी है,
लगता है उससे मोहब्बत होने लगी है,
सुबह सूरज की रोशनी भी अधूरी सी लगती है,
बाज़ार की भरी सड़के भी सुनी सी लगती है,
उसके आने की ये आँखें राह देखने लगी हैं,
अब तो माह भी सालों की राह देखने लगी है,
लगता है उससे मोहब्बत होने लगी है,
उसके चेहरे की चमक सादी लगती है,
चाँद पूरा निकलता है पर रोशनी आधी लगती है,
बारिश की बूँदें भी अब मुझे भिगोने लगी हैं,
अब तो दिल की धड़कन भी यादों को पिरोने लगी है,
लगता है उससे मोहब्बत होने लगी है,
अभी भी घर की चौखट पर, उसकी राह तके बैठा हूँ,
सुबह से शाम और शाम से सुबह, उसकी राह में गुज़ार देता हूँ,
कब आओगी ये मेरी तन्हाई कहने लगी है,
तन्हाई की बातें दिल को झूठी लगने लगी हैं,
लगता है उससे मोहब्बत होने लगी है
-अजय राजपूत (झाँसी)

English Translation:

Lagta Hai Us Se Mohabbat Hone Lagi Hai (It seems that I am falling in love with her)
Surat na dekhi maine uski (I have not seen her face)
Moorat phir bhi uski ban ne lagi hai (Still, I am creating her statue)
Din ko chain nahi ata (I am restless during the day)
Aur raato ki neend udne lagi hai (And I cannot sleep at night)
Lagta hai us se mohabbat hone lagi hai (It seems that I am falling in love with her)
Uski yado mein ankho se neer behte hain (Tears flow down my eyes in her remembrance)
Ab to ankho ko ansu se mohabbat hone lagi hai (Now my eyes have started loving tears)
Kalam likhna chahti hai, keval tumhare baare mein (Pen wants to write only about you)
Aur baatein meri kavitaon mein dhalne lagi hain (And your talks have started appearing in my talks)
Lagta hai us se mohabbat hone lagi hai (It seems that I am falling in love with her)
Uski yaado mein ratein guzaar deta hoon (I spend my nights in her memories)
Apni hi baato mein khud ko sawar deta hoon (I groom myself in my own talks)
Sunsaan raato mein meri baatein gehrayi mein utarne lagi hain (My talks have started getting deep in lonely nights)
Ab to mere dil ki tanhai mohabbat mein badalne lagi hai (Now my heart’s loneliness has started converting into love)
Lagta hai us se mohabbat hone lagi hai (It seems that I am falling in love with her)
Subah suraj ki roshni bhi adhuri si lagti hai (I find the morning sunlight somewhat incomplete)
Bazaar ki bhari sadakein bhi suni si lagti hain (The heavily crowded roads of market also seem deserted to me)
Uske aane ki ye ankhein raah takne lagi hain (My eyes have started looking for her arrival)
Ab to mah bhi salon ki rah takne lagi hai (Now, even months have started waiting for the years)
Lagta hai us se mohabbat hone lagi hai (It seems that I am falling in love with her)
Uske chehre ki chamak sadi lagti hai (The glow on her face seems simple)
Chand pura nikalta hai par raushni adhi lagti hai (The moon is full but the light seems half)
Barish ki boondein bhi ab mujhe bhigone lagi hain (The raindrops have started drenching me now)
Ab to dil ki dhadkan bhi yaado ko pirone lagi hai (Now my heartbeat has also started forming memories)
Lagta hai us se mohabbat hone lagi hai (It seems that I am falling in love with her)
Abhi bhi ghar ki chaukhat par uski rah takey baitha hoon (Now also I am waiting for her while sitting at my doorstep)
Subah se sham aur sham se subah uski rah mein guzar deta hoon (From morning until evening and evening until morning is spent in her wait)
Kab aogi ye meri tanhai kehne lagi hai (My loneliness has started saying when will you come)
Tanhai ki batein dil ko jhuthi lagne lagi hain (The talks of loneliness seem false to my heart)
Lagta hai us se mohabbat hone lagi hai (It seems that I am falling in love with her)
-Ajay Rajput (Jhansi)

Hindi Love Poem for Her-Hawa Ke Jhonke

हवा के झोंके
मैंने सांस ली अपनी छत से…एक झोंके से वो उड़ चली
तू थी कहीं मीलों दूर अपनी छत पे…तेरी भी सांसें उड़ चली
मैंने सोचा कि मिलना तो ना था हमारे मुक़ददर में लिखा
मगर….
कहीं ना कहीं वह हवाएं जाती होंगी
जहां हमारे सांसें टकराती होंगी…
जो कुछ हम कह न सके कभी
वह मिलके अपनी दास्तान सुनाती होंगी ।
आयुष पांडे