Hindi love poem for lost love-बहुत दिन गुज़र चुके 


boy-1042683_960_720

बहुत दिन गुज़र चुके 

तेरे दूर जाने में 

कितनी देर लगेगी और 

तेरे लौट आने में 

वैसे तो काम बहुत हैं 

मुझे ज़माने में 

लेकिन आशिक़ हूँ मैं 

तेरा बताने में 

आजा अब छोड़ ये लुक्का छिप्पी का खेल 

किसी बहाने से 

मैं हूँ तेरा तू है मेरी 

सबको बताने में

-अनुष्का सूरी