Hindi Love Shayari for Her- तुम वो क़िताब हो


एक प्यार का पन्ना लिखने बैठे थे आपके लिये
लिख दी एक पूरी क़िताब ,क्योकि
आप वो पन्ना हैं जिसने हमें ज़िन्दगी की राह पर हर क़दम पर साथ दिया है
आप वो पन्ना है
जिसको एक बार कोई इंसान देख ले तो जैसे नशे में नाच उठता है
आप वो पन्ना है
जो हमारे हर सास में जैसे बस्ती हैं
आप वो पन्ना है
जो कोयल जैसे सबको अपनी आवाज़ से जगलेते हैं
आप वो पन्ना है
जो प्यार से नहीं महोब्बत से लिखा है
आप वो पन्ना है
जो जैसे शाह जहा और मुमताज़ की अमर दस्ता की हकदार है
और आप वो पन्ना है
जिसके दिल से हमारा दिल जुड़ा है

– एक अजनबी

 

Ek pyaar ka Panna likhne bethe the aapke liye
Likh Di ek puri kitab , Kyunki
Aap woh panna hain
Jisne humme zindagi ki rah par har kadam par saath Diya hai
Aap woh panna hain
Jisko ek baar koi insaan Dekh le toh jaise nache mein naach uthta hai
Aap woh panna hain
Jo Hummare har saas mein jaise basti hain
Aap woh panna hain
Jo koyal jaise sabko apni aavaz se jagalete hain
Aap woh panna hain
Jo pyaar SE nahi mohbbat se likha jai
Aap woh panna hain
Jo jaise shah jaha aur Mumtaz ki Amar Dasta ki hakdar hai
Aur aap woh panna hain
Jiske dil se hummara dil juda Hua hain

 – Ek Ajnabi

 

Hindi Poems on Love – वो पगली सी दीवानी सी


वो पगली सी दीवानी सी, सपनों में मेरे आती है,
आहट उसकी, जैसे दिल में हलचल सी कर जाती है,
झुकी नजर उसकी, जैसे मुझको पागल कर जाती है,
वो पगली सी दीवानी सी, सपनों में मेरे आती है। आइना है
उसकी नज़रें, जो सबकुछ बतलाती है, वो है पागल,
जो दिल को झुटा बतलाती है, लगती है प्यारी,
जब खुद ही वो शर्माती है,
वो पगली सी दीवानी सी, सपनों में मेरे आती है। कहता है
जमाना कि, वो तो पागल है, वे-वजह, जब-जब वो मुस्कुराती है,
जमाने को क्या पता, कि वो मुझसे क्यों शर्माती है,
वो पगली सी दीवानी सी, सपनों में मेरे आती है।
जब आँखें मेरी मदहोश चेहरे से उसके, मिलकर आती हैं,
काश वो समझ पाती कि, कितना मुझको वो तड़पती हैं,
खो गया गया हूँ मुझसे मै, न नींद मुझको अब आती है,
वो पगली सी दीवानी सी, सपनों में मेरे आती है।….

– अतुल कुमार

Wo pagli si diwani si, sapno me mere aati hai,
Aahat uski, jaise dil me hulchul si kar jati hai,
jhuki nazar uski, jaise mujhko pagal kar jati hai,
Wo pagli si diwani si, sapno me mere aati hai. Aaina hai
Uski nazrein, jo sabkuchh batlati hai, wo hai pagal,
jo dil ko jhuta batlati hai, lagti hai pyari,
jab khud hi wo sharmati hai,
Wo pagli si diwani si, sapno me mere aati hai. Kehta hai
jamana ki, wo pagal hai, Be-wajah, jab-jab wo mushkurati hai,
jamane ko kya pta, ki wo mujhse kyun sharmati hai,
Wo pagli si diwani si, sapno me mere aati hai.
Jab aankhein meri madhosh chehre se uske, milkar aati hai,
Kash wo samajh pati ki, kitna wo mujhko tadpati hai,
Kho gya hu mujhse me, na neend mujhko ab aati hai,
Wo pagli si diwani si, sapno me mere aati hai.

– Atul Kumar

Hindi Love Poem For Her – तुम जैसी हो अच्छी हो


है वो थोड़ी अजनबी सी, हर रात ख्वाबो में आती है।।
जी भर देखना चाहता हूँ उसे, उफ़ ये रात गुज़र जाती है…!!!!
कुछ कहना चाहता हूँ उससेे, बात होठो तक रुक जाती है।।
वो आँखों में देख कर मेरी, दिल की बात समझ जाती है…!!!!
समझ कर दिल की बातों को, लब्जो का इंतज़ार करती है।।
नादान इतना भी नही समझती, लब्ज़ नही आँखे बयां करती है…!!!!
मेने इज़हार भी नही किया उससे, मेने इकरार भी नही किया उससे।।
प्यार तो बहुत दूर की बात है, उसने इंकार भी नही किया मुझसे…!!!!
दिल चाहता है उसे बाहों में भर लू दिल चाहता है
उसके होठो को चूम लूँ।। दिल चाहता है
इस रात को यही रोक दू, दिल चाहता है
इस पल को कभी खोने न दूँ…!!!!

-सूरज सात्विक झा

Hai wo thodi ajnabi si, har raat khbabbon mein aati hai
Ji bhr k dekhna chahta hu use,uff ye raat gujar jati hai
Kuch khna chahta hu usse , baat hothon tak ruk jati hai
Wo aankhon me dekh kar mere dil ki bat smajh jati hai
Samjh kar dil ki baaton ko, labzon ka intezar karti hai
Nadan etna bhi nai samjhti,labz nahi aankhe byan krti hai
Maine izhar bhi nai kiya usse,maine ekrar bhi nai kiya usse
Pyar to bhut dur ki baat hai,usne enkar bhi nai kiya mujse
Dil chahta hai use bahon me bhr lu dil chahta hai
Uske hothon ko chum ludil chahta hai
Es raat ko yahi rok du,dil chahta hai
Es pal ko kabhi khone n du.

– Suraj saatvik jhaa

Hindi Love Poem For Her-हाल-ए दिल


प्यार तो बहुत पहले से था
तुझसे बस तुझे खोने का डर था
तेरी नाराज़गी से मुझे तेरे दूर जाने का डर था
सोचा तो बहुत था बता दूँ
तुझे हाले दिल अपना पर
तुझसे बिछड़ जाने का डर था
इज़हार तो किया तुझसे
अपनी मोहब्बत का तुझे खुशी देकर,
तेरे गमों को भुलाने का पर तुझे -मुझसे
यूँ छिन जाने का डर था

-नीरज सिंह

Pyar to bahut pehle se tha
Tujhse Bas khone ka dar tha
Teri naarazgi se mujhe Tere door jane ka dar tha
Socha to bahut tha Bata du
Tujhe haal-a-dil apna Par
Tujhse bichhad jane ka dar tha
Izhaar to kiya tujhse
Apni mohabbat ka Tujhe khushi dekar ,
Tere gamon ko bhulane ka Par tujhe-mujhse
Yun chhin jane ka dar tha….

-Neeraj Singh

Hindi Poem on First Love – बस तेरी याद में


 

दुनिया से में छिपता – छिपाता ,
न जाने कब तुझको चाहने लगा !
न चाहते हुए भी चुपके से तेरे पीछे आने लगा !

तुझे देखे बिना न ही नींद आती , और न ही चैन ,
लगता है , ये दीवाना दिल कहीं खोने लगा ।
याद में तेरी रातों को रोने लगा !

सोचता हूँ ,
क्या था तेरा मेरा रिश्ता ?
जो तुम मुझे याद नहीं करते ,
और हम तुम्हे भुला नहीं पाते !

काश ! तुम मेरे होते , फिर रोज नए सबेरे होते ,
लेकिन ये हो न सका ….

तुम न मेरे हुए , और न ही मेरे दिल के
तुम तो बस मेरी यादों के होकर रह गए !

ये रिश्ता जो है , तेरे मेरे दरमियां ,
इक मुलाकात की ख्वाहिश रखता है !

दिल जलता है , रोता है ,
तेरी याद में ,
बस तेरी याद में !

-रोहित चौरसिया

Duniya se main chhipata-chhipata
Na jane kab tujhko chahne laga
Na chahte hue bhi chupke se tere peeche aane laga

Tujhe dekhe bina na hi neend aati aur na hi chain
Lagta hai ye deewana dil kahi khone laga
Yaad mein teri raaton ko rone laga

Sochta hoon
Kya tha tera mera rishta
Jo tum mujhe yaad nahi krte
Aur hum tumhe bhula nahi pate

Kash tum mere hote,Fir roz naye savere hote
Lekin ye ho na saka

Tum na mere hue na hi mere dil ke
Tum to bas meri yaadon ke ho kar reh gaye

Ye rishta jo hain tere mere darmiyaan
Ek mulakat ki khvahish rakhta hai

Dil jalta hai rota hain
Teri yaad mein
Bas teri yaad mein

-Rohit Chaurasiya

Hindi Poem for a Beautiful Girl – सुन्दर सी लड़की


girl_and_flowers_2-wallpaper-1366x768

सुन्दर सी लड़की से सुन्दर मुलाकात
सुन्दर सी लड़की से वो मीठी सी बात
सुन्दर सी लड़की के लाल लाल गाल
सुन्दर से लड़की के रेशमी लम्बे बाल
सुन्दर सी लड़की का सुन्दर सा मोबाइल
सुन्दर सी लड़की का सुन्दर सा स्माइल
सुन्दर सी लड़की की सुन्दर पढाई
सुन्दर सी लड़की सर्वोत्तम आई
सुन्दर सी लड़की का सुन्दर सा जॉब
सुन्दर से लड़की से मेरा शादी का ख्वाब
सुन्दर सी लड़की की सुंदरता का राज़
सबसे मधुर बोलना सबकी वो हमराज़
-अनुष्का सूरी

Hindi Love Poem Expressing Love – मेरा दिल


प्यार अब कुछ इस कदर हम पर छा रहा है
मेरा दिल मुझे मेरे महबूब का हाल बता रहा है
बड़ा समझाया इस दिल ए नादान को
पर ये तो मस्त गगन में उड़ता चला जा रहा है
प्यार अब कुछ इस कदर हम पर छा रहा है
मेरा दिल मुझे मेरे महबूब का हाल बता रहा है
चाहता है अब ये दिलबर को अपने सामने हर पल
महसूस करना चाहता है उसकी सांसो को अपनी सांसो में हर पल
इसको भी खुद पर कुछ ज्यादा ही एतबार आ रहा है
प्यार अब कुछ इस कदर हम पर छा रहा है
मेरा दिल मुझे मेरे महबूब का हाल बता रहा है
कहता है बस कुछ दिन और। . फिर हम एक हो जायेंगे
जो जो सपने संजोये थे हमने। . सब पूरे वो हो जायेगे
अब तो गौरव को भी रिया का इंतज़ार हो रहा है
प्यार अब कुछ इस कदर हम पर छा रहा है
मेरा दिल मुझे मेरे महबूब का हाल बता रहा है
मिले थे जो कभी अनजान बनकर ,वो अब अपने हो जायेंगे
हर कोई शायद अब हमारे प्यार के साथ होगा
दिल को इस बात पर गुमान आ रहा है
प्यार अब कुछ इस कदर हम पर छा रहा है
मेरा दिल मुझे मेरे महबूब का हाल बता रहा है

-गौरव अग्रवाल

Pyar ab kuch is kadar ham par chaa raha hai…
Mera dil mujhe mere mehboob ka haal bata raha hai..
Bada samjhaya is dil e nadan ko..
Par ye to mast gagan me udta chala ja raha hai..
Pyar ab kuch is kadar hum par chaa raha hai…
Mera dil mujhe mere mehboob ka haal bata raha hai..
Chahta hai ab ye dilbar ko apne samne har pal
mehsoos karna chahta hai uski sanson ko apni sanson me har pal
Isko bhi khud par kuch jyada hi aitbar aa raha hai
Pyar ab kuch is kadar hum par chaa raha hai…
Mera dil mujhe mere mehboob ka haal bata raha hai..
Kahta hai bas kuch din aur..fir hum ek ho jayenge
Jo jo sapne sanjoye they humne .. sab poore vo ho jayenge
Ab to “Gorav “ko bhi “Riya” ka intezar ho rahahai
Pyar ab kuch is kadar hum par chaa raha hai…
Mera dil mujhe mere mehboob ka haal bata raha hai..
Mile they jo kabhi anjan bankar vo ab apne ho jayenge
Har koi shayad ab hamare pyar ke sath hoga..
Dil ko isi baat par guman aa raha hai…
Pyar ab kuch is kadar hum par chaa raha hai…
Mera dil mujhe mere mehboob ka haal bata raha hai..

-Gorav Aggarwall