Emotional Love Poems – ये प्यार क्यों खास है


ये प्यार क्यों खास है
दो अजनबियों का एहसास है
ये कब कहा कैसे हो जाये न जाने ये केसा राज़ है
प्यार की खुशिया तो एक प्यार करने वाला ही
जाने मुझे जैसे आशिक़ को बर्बाद करने में भी प्यार का ही हाथ है
ये प्यार क्यों खास है में था सीधा साधा
भोला भाला प्यार ने मुझको बर्बाद कर डाला
प्यार चार अक्शर का है ज़िन्दगी भी तो चार की ही है
दो प्यार में गुजारी है रो रो कर दो खुशियों में बितानी है
ज़िन्दगी भी एक रोज़ नई कहानी है
कौन साथ देगा कौन छोड़ जायेगा
ये सब तो वक्त के हाथो की कहानी है..!!!!!

-रोहित

Yei pyar kyu khas hai
Do aajnabiyo ka ehsaas hai
Yei kab kaha kese ho jaye Na jane ye kesa raaj hai
Pyar ki khusiya to ek pyar krne wala he
jane Mujhe jese ashiq ko barbad Karne mein bhi pyar ka he hath hai
Yei pyar kyu khas hai Main tha sidha sadha
Bhola bhala Pyar nei mujhko bharbad kar dala
Pyar char akshar ka hai Zindagi bhi to char ki he hai
Do pyar me gujari hai ro ro kar Do khushiyo me bitani hai
Zindagi bhi ek roz nai kahani hai
Kon sath dega kaun chhod jayega
Yei sab to wakt ke hathon ki kahani hai

– Rohit

Hindi Poem For Angry Girlfriend- काश कोई होता


रूठ जाने की अदा हमको भी आती है
पर इसी ख्वाहिश में रह जाते हैं
कि कोई होता हमें भी मनाने वाला
चाँद और सूरज को मिलाने वाला
कोई जो करता हमारे साथ शैतानियां
जो याद दिलाता बचपन की नादानियाँ
कोई जो लड़खड़ाते क़दमों को राह देता
जो पास न होकर के भी पास होता
यही शिकवा है ज़िन्दगी से कि
काश कोई होता जो दिल के बेहद करीब होता।

-उदित उपाध्याय

Rooth jane ki adaa hamko bhi aati hai
Par isi khwahish mein reh jate hain Ki
koi hota hamein bhi manaane wala
Chand aur suraj ko milane wala
Koi jo karta hamare sath shaitaniyan
Jo yaad dilata bachpan ki nadaniyan
Koi Jo ladkhadate kadmon ko raah deta
Jo paas na hokar ke bhi paas hota
Yhi shikwa hai zindagi se ki
Kaash koi hota Jo dil ke behad karib hota

-Udit Upadhyay

Heart Touching Love Poem- ऐसा लगता है


महफ़िल भी सूनी लगती है
तेरा कसर लगता है,
ग़म भी खुशी लगती है
तेरा असर लगता है।

है लगता हर पल सदियों -सा,
बरसों -सा बिन तेरे;
तेरा दिल ही मुझे
अब मेरा घर लगता है।

है चाहता ये दिल
हर पल तेरे दीदार को,
तड़पता हूँ, बेचैन रहता हूँ
मामुली सा पत्थर भी संगेमरमर लगता है।

अनजाना-सा दुनिया की बातों से
दिन-पल और रातों से,
ना किसी के कहने का असर
ना वाकिफ़ हालातों से।

हद पार कर जाऊँगा तेरे इश्क़ में
दोगे ज़हर इम्तेहान के लिए
तो भी पी जाऊँगा तुझे याद करके
मरूँगा नहीं, हो जाऊँगा अमर लगता हैं ।

– हंसराज केरकर

Mehfeel bhi sooni lagti Hai
Tera kasar lagta Hai,
Gam bhi Khushi lagti Hai
Tera asar lagta Hai.

Hai lagta har Pal
Sadiyo sa, Barson sa bin Tere,
Tera Dil hi mujhe
Ab Mera Ghar lagta Hai.

Hai chahta ye Dil
Har Pal Tere Didar ko
Tadpta hu, bechain rehta hoon
Mamuli sa Patthar bhi Sangemarmar lagta Hai.

Anjaana sa Duniya ki baatoon se
Din-Pal aur Raaton se
Na kisi ke kahne ka asar
Na waqif halato se,

Had par Kar jaunga Tere Ishq mein
Doge Jaher Imtehaan ke liye
To bhi pee jaunga tujhe yaad karke
Marunga nahi, ho jaunga Amar lagta Hai.

-Hansraj Kerekar

Hindi Poem for Him – नयनों में काजल लगा के चली


love-1643452_960_720

आज मैं नयनों में काजल लगा के चली
पलकों पर आपकी खूबसूरत तस्वीर सजा के चली
दिल की धड़कनों को साँसों में छुपा के चली
थोड़ा इतरा के चली
सावन की मयूरी सी बलखा के चली
लहराती हवाओं में केशों को बिखरा के चली
थोड़ा शर्मा के चली
अल्फ़ाज़ों में मीठी सरगमों को मिला के चली
उलझी बेचैनियों को सुलझा के चली
सच्ची मुहब्बत अपनी रूह में बसा के चली
दुनिया की हर खूबी हांथों की लकीरों में ठहरा के चली
अब तो बोल दो कि मैं आपकी ज़िन्दगी हूँ
आपकी खुशियों की बन्दग़ी हूँ
आपकी तक़दीर में संवरती आपकी जीवन संगनी हूँ
अब बस करो बोल भी दो कि मैं ही आपकी अर्धांगिनी हूँ

-संघमित्रा मौर्य

Aj mai nayano me kajal laga ke chali,
Palko par apki khubsoorat tasveer saja ke chali,
Dil ki dhadkano ko sanso me chhupa ke chali,
Thoda itra ke chali,
Sawan ki mayoori si balkha ke chali,
Lahraati hawaao me kesho ko bikhra ke chali,
Thoda sharma ke chali,
Alfaazo me mithi sargamo ko mila ke chali,
Uljhi bechaniyo ko suljha ke chali,
Sachhi mohabbat apni rooh me basa ke chali,
Duniya ki har khoobi hatho ki lakiro me thahara ke chali,
Ab to bol do ki mai apki jindagi hu, apki khushiyo ki bandagi hu,
Apki taqdeer me sawarti apki jeewan sangini hu,
Ab bas karo bol bhi do ki mai hi apki ardhangini hu

-Sanghmitra Maurya

Cross-Cultural Love Story-बला होते


inside_out_sadness___disney_pixar-wallpaper-1366x768

ज़ालिम , सितमगर , क़ातिल या बला होते
तुम कुछ भी होते पर मेरी क़िस्मत में तो होते

कुछ और जगह रखते अपने महल में मुलाजिम की
तेरे सजदे में सर झुकाते और तेरी ख़िदमत में हम होते

कभी चखने तो आते तुम मेरी नज़्मों के जाम को
फिर रोज़ पिया करते तेरी आदत में हम होते

तेरे काले लिबास पर करते नारंगी ज़रदोजी
बस टाँकते चाँद सितारे और बड़ी राहत में हम होते

तुम्हें मिलता बड़ा सौदा और वो भी बड़ा सस्ता
तेरी एक झलक की बस लागत में हम होते

तुम होते रंगरेज मेरे फिर चाहे जिस रंग में रंगते
कितना खिल के आते जो तेरी रंगत में हम होते

तुम हो जाते खुदा हमारे हम तुम्हारी इबादत करते
बस एक खुदा होता तो ना मज़हबी झंझट में हम होते
-सौरभ आनंद

How to read:

Zalim sitamgar quatil ya balaa hote
Tum kuch bhi hote par meri kismat me to hote

Kuch aur jagah rakhte apne mahal me mulazil ki
Tere sajde me ser jhukate aur teri khidmat me hum hote

Kabhi chakne to aate tum meri nazmo ke jaam ko
Fir roz piya karte teri adat me hum hote

Tere kale libaas par karte narangi zardozi
Bus tankte chaand sitare aur badi rahat me hum hote

Tumhe milta bada sauda aur vo bhi bada sasta
Teri ek jhalak ki bus lagat me hum hote

Tum hote rangrez mere fir chahe his rang me rangte
Kitna khil ke aate jo teri rangat me hum hote

Tum ho jate khuda humare hum tumhari inadat karte
Bus ek khuda hota to na majhani jhanjhat me hum hote

-Saurabh Anand

 

Hindi Love Poem-अफ़साना मेरी मोहब्बत का


प्यार है तू मेरा मैं तेरी फिदाई
जर जैसे बाल है तेरे हिरण जैसी आँखे
चेरहा है गुल के जैसा दर्पण जैसी बातें
अदाये है कमर के जैसी गुल के जैसी सासे
परिवास भी फीकी लगती है सजन तुम्हारे आगे

ये तेरी मोहब्बत का नशा है या
मेरे दिल से निकला एक तराना
हर साँस कर दूंगा नाम तुम्हारे
साजन पास मेरे आ जाना

ऐतबार कर मुझपे बेदर्द नहीं हूँ मैं
तेरी इस कियाबान का बावर नहीं हूँ मैं
बेजुबान हो जाता हूँ आगे तुम्हारे
मोहब्बतें इशके बया नहीं कर पता

-वरुण सिंह

Pyar hai tu mera mai teri fidai
Jar jaise baal hai tere heeran jaisi aakhain
Chehra hai gul ke Jaisa darpan jaisi baaten
aadayain hai kamar ke jaisa gul ke jaisi saase
Pariwas v fiki lagti hai sajan tumhare aage….

Ye teri mohabbat ka nasha hai ya…
Mere dil se nikla ek tarana….
Har saas kar dunga naam tumhare
Sajan paas mere aa jana….

Aitabar kar mujhpe bedard nahi hu main…
Teri is kiyaban ka bawar nahi hu Main…
Bejubaan ho jata hu aage tumhare…..
Mohabbatein ishque bayan nahi kar pata….
Har nabz me rakt teri mohabbat ka hai….
Bus ye paigam sajan tak pahuncha nahi pata….

– Varun Singh

Hindi Love Poem – जीना सीख लिया


हार कर सब कुछ जीने का जज़्बा सीख लिया,
हारना तो मौत से है,मैंने जिंदगी जीना सीख लिया।

कई बाज़ी हारा हूँ, अभी कई बाज़ी जीतूंगा भी,
सहना अब जिंदगी का हर वार सीख लिया।

दुःखों का क्या है आनी-जानी चीज है,
सफर में धूप है तो छाँव ढूंढना सीख लिया।

खो कर रास्ते बार-बार, नई मंज़िल पर निकल लेता हूँ,
पल-दो-पल की ख़ुशी को पूरी जिंदगी बनाना सीख लिया।

खुशियों से ज्यादा तो गम मिल जाते है अक्सर,
वक्त बुरा है या हम ये समझाना सीख लिया।

कवि “राज़” यूँ तो भरी है ज़िंदगी जख्मों से,
भूल कर सब कुछ वक्त को मरहम बनाना सीख लिया।

राज़ सोरखी “दीवाना कवि”

Haar kar sab kuch jine ka jazba sikh liya
Harna to maut se haimene zindgi jeena sikh liya

Kai baji hara hoon abhi kai baji jituga bhi
Sehna ab zindgi ka har var sikh liya

Dukho ka kya hai anjani chiz hai
Safar me dhoop hai to chhav dhundna sikh liya

Kho kar raste bar bar nayi manjil par nikal leta hoon
Pal do pal ki khushi ko puri zindgi bnana sikh liya hai

Khushiyon se jyada to gum mil jatein hai aksr
Vakat bura hai ya hum ye smjhna sikh liya hai

Kavi “raj” yoon to bhri hai zindgi jakhmo se
Bhul kar sab kuch waqt ko marhum bnana sikh liya

~Raj sorkhi”diwana kavi”