Hindi Love Shayari-खुली किताब

love_hug_2-wallpaper-1366x768

मेरी ज़िन्दगी की खुली किताब हो तुम
मेरे जीने का एहसास हो तुम
मेरे लिए एक प्यारा सा गुलाब हो तुम
जो हमेशा महकता रहता है
तुम हंसती हो तो ऐसा लगता है
जैसे सारी खुशियां मिल गयी मुझे
तुम्हारे प्यार में इस कदर डूब जाता हूँ
कि दिन और रात का होश नहीं रहता
मेरे लिए सबसे ख़ास हो तुम
मेरी ज़िन्दगी की रौशनी हो तुम
मेरे लिए प्यार की मूरत हो तुम
चाँद से भी प्यारी सूरत हो तुम
सबसे रंगीली तस्वीर हो तुम
जब भी तुमको देखता हूँ
और प्यार हो जाता है

-रजत कुमार

One thought on “Hindi Love Shayari-खुली किताब

  1. iis kadar pyar hai tumse,aie humsafar teri saanso main samana chahta hoo pyaar ki khusboo ki tarar par chahte hue bhi iss pyaar ka izhaar nahi kr sakta saayad gum ho jai ye hasi milne se pahle hi ojhal ho jao tum “i miss u my dear”

Leave a Reply