Hindi Philosophical Love Poem Shayari-पहचान

man-1394395_960_720
वक़्त ये धार बनके बह जायेगा,
राइट की तरह ये पल भी फिसल जायेगा,
जीटा रहा है खुद के लिये,
कब अपने आप को जान पायेगा,
मंज़िल नहीं है तेरी ये दुनिया की झूठी चमक,
तेरी तो राह है मन की थोड़ी सी शांती,
कब ये मान पायेगा,
भीड़ में तू खो गया है,
खुद से बेगाना हो गया है,
देख अपने मन की गहराइयों में झांक के
खुद से बेगाना तू हो ग्या है,
अब ना सुध रहती है तन मन की,
बस दुनिया की आंधी में बह गया है,
खुद को तू जान ले थोड़ा सा पहचान ले,
मंज़िल तेरी बनेगी रोते हुए किसी चहरे की मुस्कान,
बन के फैलायेगा तू खुशियों की मुस्कान,
वही बनेगी तेरी अपनी पहचान|
-गौरव
Pehchan
Waqt ye dhar banke bah jayega,
Rait ki tarah ye pal bhi fisal jayega,
Jeeta raha hai khud ke liye,
Kab apne ap ko jaan payega,
Manzil nahin hai teri ye dunia ki jhooti chamak,
Teri to raah hai man ki thodi si shanti,
Kab ye maan payega,
Bheed mein tu kho gaya hai,
Khud se begana ho gaya hai,
Dekh apne man ki gahraiyon mein jhank ke
Khud se begana tu ho gya hai,
Ab na sudh rehti hai tan man ki,
Bas duniya ki aandhi mein bah gaya hai,
Khud ko tu jaan le thoda sa pehchan le,
Manzil teri banegi rote hue kisi chehre ki muskan,
Ban ke failayega tu khushiyon ki muskan,
Wahi banegi teri apni pehchan.
-Gaurav

One thought on “Hindi Philosophical Love Poem Shayari-पहचान

  1. Khud ko tu jaan le thoda sa pehchan le,
    Manzil teri banegi rote hue kisi chehre ki muskan,
    Ban ke failayega tu khushiyon ki muskan,
    Wahi banegi teri apni pehchan.

    bilkul sahi kahaa..

Leave a Reply